ताज़ा खबर
 

बिहार से भागे MLA अनंत सिंह का दिल्ली के कोर्ट में सरेंडर, AK-47 बरामद होने के बाद पुलिस ने लगाया है UAPA

सिंह, मोकामा से एमएलए हैं और हाल ही में उनके घर पर छापेमारी हुई थी, जिसमें सिंह के यहां से एक-47 राइफल, जिंदा बम और कुछ और हथियार बरामद किए गए थे।

Author नई दिल्ली | Updated: August 23, 2019 6:11 PM
मोकामा से निर्दलीय विधायक अनंत सिंह को स्थानीय लोग छोटे सरकार के नाम से भी पुकारते हैं। (फाइल फोटो)

बिहार से भागे निर्दलीय बाहुबली विधायक अनंत सिंह ने शुक्रवार (23 अगस्त, 2019) को दिल्ली के साकेत कोर्ट में सरेंडर कर दिया। वह मोकामा से एमएलए हैं और हाल ही में उनके घर पर छापेमारी हुई थी, जिसमें सिंह के यहां से एक-47 राइफल, 26 जिंदा कारतूस और दो बम बरामद किए गए थे।पुलिस ने इसके बाद उनके खिलाफ यूएपीए एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज कर ली थी, जिसके बाद से वह फरार चल रहे थे।

साकेत कोर्ट ने इसी बीच दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया है कि वह सिंह के बारे में और मामले से जुड़ी हर जानकारी जुटाए। पुलिस को इस काम के लिए आधे घंटे की मोहलत दी गई है। दिल्ली पुलिस ने इसके बाद विधायक से पूछताछ की थी, जबकि उससे पहले सिंह ने कोर्ट में सरेंडर करने के लिए याचिका दी थी।

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को विधायक से जुड़े डिटेल्स देने में देरी करने पर भी लताड़ा। पूछा कि आखिर आप लोग जानकारियां देने में देर क्यों कर रहे हैं? साकेत कोर्ट ने आगे यह भी पूछा कि कहीं ऐसा तो नहीं कि अनंत सिंह प्रवाभशाली व्यक्तित्व हैं, इस वजह से आप लोग देर कर रहे हैं? पुलिस ने जवाब दिया- हमने बिहार पुलिस को तस्वीरें बढ़ा दी हैं और उनसे इस मामले पर जानकारी मांगी है। पुलिस ने इसके अलावा सिंह की हिरासत के लिए भी मांग की है।

दरअसल, 16 अगस्त को बाहुबली विधायक के बाढ़ स्थित लदमा में पुश्तैनी आवास पर छापेमारी हुई थी, जहां से टीम को राइफल, कारतूस और जिंदा बम मिले थे। पुलिस ने बाद में सिंह के पटना स्थित आवास पर भी रेड मारी, पर वे नहीं मिले। बाद में पुलिस ने सिर्फ उन पर यूएपीए एक्ट के तहत मामला दर्ज किया बल्कि उन्हें फरारी करार देते हुए लुकआउट नोटिस जारी कर दिया था।

कौन हैं अनंत सिंह?: सिंह को मोकामा और बाढ़ में जनता छोटे सरकार के नाम से भी पुकारती है। ऐसा उनकी बाहुबली और दबंग वाली छवि के चलते है। मोकामा से वह तीन बार एमएलए चुने जा चुके हैं और किसी दौर में वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बेहद करीबी थी, पर मौजूदा समय में सिंह का उनसे 36 का आंकड़ा है। दरअसल, 2015 में जब कुमार ने आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव से हाथ मिलाए, तब अनंत सिंह को टिकट नहीं दिया गया। ऐसे में उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा और जीते भी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Narendra Modi in France: ‘भारत में अब कोई जगह टेंपरेरी नहीं’, जानें PM के भाषण की अहम बातें
2 INX Media Case: चिदंबरम पर कांग्रेस ने बनाया था गिरफ्तारी देने का दवाब, अहमद पटेल के घर पर तैयार हुई थी रणनीति
3 बाहुबली अनंत सिंह की नाक में दम करने वाली कौन हैं ‘लेडी सिंघम’ लिपि सिंह?