ताज़ा खबर
 

अपने केस वापस करा लिए और विरोधियों के पोस्टर लगवा रहे हैं? जब हुआ था योगी से सवाल, देखें- क्या आया था जवाब

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैंने अपने ऊपर हुए मुकदमे वापिस नहीं लिए हैं। न ही किसी के खिलाफ राजनीतिक मुकदमे दायर किए हैं।

टीवी डिबेट में भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जहां खड़े होते हैं वहीं से लाइन शुरू हो जाती है। (express file photo)

एबीपी न्यूज को दिए इंटरव्यू में जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से सवाल किया गया कि आप पर भी मुकदमे थे जिन्हें वापिस ले लिया गया है और अब आप राजनीतिक विरोधियों के पोस्टर सार्वजनिक तौर पर लगा रहे हैं? जवाब देते हुए सीएम योगी ने कहा था कि जब एक-एक कर खानदानी कुंडलियां निकाली जाएंगी तो मालूम चलेगा कि किस पर कितने मुकदमे थे। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैंने अपने ऊपर हुए मुकदमे वापिस नहीं लिए हैं। न ही किसी के खिलाफ राजनीतिक मुकदमे दायर किए हैं। हालांकि जो लोग कानून अपने हाथ में लेंगे कानून उन पर कार्रवाई करेगा।

वहीं आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से आग्रह किया कि किसानों की उपज की खरीद की गारंटी सुनिश्चित की जाए। उन्होंने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा, ‘‘प्रदेश के तमाम जिलों से मुझे लगातार सूचनाएं आ रही हैं कि गेहूं की खरीद में किसानों को बहुत परेशानियां उठानी पड़ रही हैं। एक अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू हुई लेकिन कोरोना महामारी के चलते क्रय केंद्रों पर ताला लटकता रहा। जैसे ही किसानों का गेहूं क्रय केंद्रों पर पहुंचने लगा, उसी समय खरीद को कम करके आधा कर दिया गया।’’

कांग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी ने कहा कि पंजाब और हरियाणा जैसे प्रदेशों में गेहूं की सरकारी ख़रीद कुल उत्पादन का 80-85 प्रतिशत तक होती है, जबकि उत्तरप्रदेश में उत्पादित 378 लाख मीट्रिक टन गेहूं के मात्र 14 प्रतिशत हिस्से की ही सरकारी केंद्रों पर खरीद हुई है।

प्रियंका ने पत्र में लिखा, ‘‘कोरोना महामारी और महंगाई के चलते किसानों की हालत पहले से ही ख़राब है, ऐसे में उनकी फसल की खरीद न हो पाने या औने-पौने दामों में गेहूं बेचने के लिए मजबूर होने जैसी स्थिति किसानों की कमर तोड़ देगी।’’

उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया, ‘‘क्रय केंद्रों पर 15 जुलाई तक किसानों के गेहूं की खरीद की गारंटी दी जाए। प्रत्येक क्रय केंद्र पर खरीद की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए ताकि किसानों को अपना अनाज बेचने के लिए भटकना न पड़े।’’

कांग्रेस महासचिव ने यह भी कहा, ‘‘ कई जिलों से खबरें आ रही हैं कि एक किसान से एक बार में अधिकतम 30 या 50 कुंतल गेहूं खरीदा जा रहा है। इससे किसान बहुत परेशान हैं। इस पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाकर किसानों से गेहूं की अधिकतम खरीद की जाए।’’

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने के बाद पहली बार लखनऊ के दौरे पर आये पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने क्षेत्रीय दलों का नाम लिए बिना उन पर निशाना साधते हुए कहा कि क्षेत्रीय दल कभी देश, प्रदेश और समाज का भला नहीं कर सकते हैं।

भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में अपने स्वागत समारोह के दौरान प्रसाद ने पत्रकारों से कहा, ‘‘क्षेत्रीय पार्टियों के लिए देश और प्रदेश की प्राथकिमता दूसरे नंबर पर आती है और इन पार्टियों ने नेता नहीं बनाया बल्कि इसे नेता लोगों ने बनाया है और ये व्यक्ति विशेष के इर्द-गिर्द घूमती हैं।’

Next Stories
1 रामदेव के पतंजलि ट्रस्ट को कैसे मिली भारतीय शिक्षा बोर्ड की कमान? साल 2016 में खारिज हुआ था प्रस्ताव
2 UAPA झेलने वाले आसिफ ने आपबीती सुना कहा- मुस्लिम हूं, इसलिए कहलाया दंगाई-जिहादी व देशविरोधी
3 कोरोनाः हर परिवार ने चुकाई है इंसानी कीमत- बोलीं नविका कुमार; आक्रामक हो बोले केंद्रीय मंत्री- मैडम, आप सवाल नहीं टिप्पणी कर रही हैं
यह पढ़ा क्या?
X