पैनलिस्ट पर भड़कीं रूबिका लियाकत, बोलीं- मोदी की दाढ़ी पर खर्च कर रहे हैं समय

पेगासस जासूसी मामले पर टीवी डिबेट के दौरान टीएमसी समर्थक पैनलिस्ट ने उठाया मोदी की दाढ़ी का मुद्दा तो एंकर ने लगाई लताड़।

Rubika Liyaquat, Tauseef Khan
एबीपी न्यूज एंकर रुबिका लियाकत और पैनलिस्ट तौसीफ खान के बीच हुई तीखी बहस।

भारत में इस वक्त पेगासस स्पाईवेयर के जरिए जासूसी के मुद्दे ने जोर पकड़ा है। विपक्ष से लेकर पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी इस कथित जासूसी कांड को लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोला है और सफाई मांगी है। इस बीच टीवी चैनलों पर भी यह मुद्दा बहस का केंद्र बना है। शुक्रवार को ही जब एक टीवी चैनल पर पेगासस स्पाईवेयर पर डिबेट चल रही थी, तो तृणमूल कांग्रेस के समर्थक पैनलिस्ट ने पीएम मोदी की दाढ़ी को लेकर तंज कसने की कोशिश की। हालांकि, इस पर एंकर ने उन्हें जबरदस्त फटकार लगाई और कहा कि आप जनता के मुद्दों से ध्यान भटकाकर मोदी की दाढ़ी की लंबाई मापने में ही समय खराब करना चाहते हैं।

क्या बोले राजनीतिक विश्लेषक तौसीफ खान?: एबीपी न्यूज पर टीवी डिबेट के दौरान राजनीतिक विश्लेषक तौसीफ खान ने एक अन्य पैनलिस्ट पर निशाना साधते हुए कहा, “कोई ये बताए कि जासूसी कहां हुआ, शिकायत क्यों नहीं हुई। बड़े नकारात्मक तरीके से आकर कुछ लोग आपके चैनल में दर्शकों को बेवकूफ बनाने का काम कर रहे हैं। पिछले चार दिन से सदन में हंगामा किस बात का हो रहा है? वहां क्या मोदीजी के दाढ़ी काटने का हंगामा हो रहा है कि वो अपना दाढ़ी काटकर छोटा कर लें?”

तौसीफ खान ने आगे कहा, “चार दिन से संसद में बहस हो रहा है कि आप इसकी जांच करवाइए, आप जॉइंट पार्लियामेंट्री कमेटी बिठाइए। या तो सरकार कह दे कि उसने भारत सरकार ने जनता के टैक्स का पैसा इजरायली कंपनी को नहीं दिया। सरकार यह ऑन रिकॉर्ड तो कह नहीं पाएगी। केंद्र को फौरन इस मामले की गहराई में जाना चाहिए और जेपीसी जांच बिठानी चाहिए।”

एंकर बोलीं- IT मंत्री के पन्ने फाड़ने में खर्च हो रहा आपका समय: पैनलिस्ट के इस बयान पर एंकर रुबिका लियाकत ने उन्हें टोका। रुबिका ने कहा, “तौसीफ साहब परेशानी यही है न। आपको प्रधानमंत्री मोदी की दाढ़ी में ज्यादा रुचि है। आपका उनकी दाढ़ी की लंबाई मापने में ज्यादा समय खर्च हो रहा है। या फिर आईटी मंत्री के पन्ने छीनकर फाड़ने में। बात निकली है तो अब दूर तलक जाएगी। ये दाढ़ी आपको हमेशा से चुभ रही है।”

रुबिका ने आगे कहा, “आप ये चाहते हैं कि मामला जनता के मुद्दे पर हो ही न। आप दाढ़ी पर चर्चा करें, झूठे जासूसी के आरोपों पर चर्चा करें। यही करते-करते आपके दिन कट जाएं, आप यह चाहते हैं। कहें दाढ़ी की आप, कहें हंसा हमें। अरे जासूसी का एक नुक्ता भर तो सबूत दे दीजिए, तौसीफ साहब।”

अपडेट