ताज़ा खबर
 

टीवी डिबेट में एंकर पैनलिस्ट पर हुईं आग बबूला, बोलीं- ‘महिलाओं की इज्जत नहीं कर सकते तो गेट आउट फ्रॉम माई शो’

पैनल में शामिल हिंदू जागरण अभियान के जीतेंद्र खुराना के खिलाफ भड़क उठीं। उन्होंने पैनल में शामिल महिला वक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता योगिता भयाना के साथ बदतमीजी से बात की जो रूबिका को बिल्कुल को भी रास नहीं आई।

Author नई दिल्ली | June 12, 2019 10:18 PM
पैनल में शामिल सभी वक्ता। फोटो: Video grab image

टीवी डिबेट के दौरान आपने एंकर्स को अक्सर पेनल में शामिल लोगों के खिलाफ आग बबूला होते हुए देखा होगा। ऐसा ही एक नजारा एकबार फिर देखने को मिला। लाइव डिबेट के दौरान एक एंकर पैनल में शामिल एक वक्ता पर इस कदर गुस्सा हुईं कि उन्हें शो से बाहर जाने तक के लिए कह दिया। चर्चा के दौरान एबीपी न्यूज की एंकर रूबिका लियाकत पैनल में शामिल हिंदू जागरण अभियान के जीतेंद्र खुराना के खिलाफ भड़क उठीं। उन्होंने पैनल में शामिल महिला वक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता योगिता भयाना के साथ बदतमीजी से बात की जो रूबिका को बिल्कुल को भी रास नहीं आई। इस दौरान उन्होंने कहा कि यहां पर दो कौड़ी के शो नहीं चलते हैं। मैं बहुत कायदे से शो चलाती हूं।

दरअसल एबीपी न्यूज के ‘सीधा सवाल’ शो के दौरान ज्योतिष और शारदा द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती द्वारा महिलाओं पर दिए बयान पर चर्चा चल रही थी। स्वरूपानंद ने कहा है कि बेटियों द्वारा दाह संस्कार करने से माता-पिता को मोक्ष नहीं मिलता और बेटियों का पिंड दान करना भी हिंदू धर्म के खिलाफ है। इसी विषय पर एंकर कहती हैं कि हिंदू धर्म की परंपराएं यह नहीं कहती है कि आप महिलाओं को घर में बंद करके रखें। इसपर खुराना कहते हैं कि ऐसा नहीं है और आप बिल्कुल ठीक कह रही हैं। लेकिन जितना मैंने पढ़ा और समझा है जन्म देने का अधिकार या फिर श्रृष्टि सृजन का अधिकार ईश्वर ने स्त्री को दिया गया है। वहीं जब मनुष्य इस मृत्यु के बाद इस श्रृष्टि से जाता है तो उसके दाह संस्कार का अधिकार पुरूष को दिया है। अब जन्म देने का अधिकार हमें नहीं दिया है या फिर आप हमें ये अधिकार भी दिलाओ। इसपर एंकर कहती हैं- ये आपके बस की बात नहीं है सर। आप इसमें पूरी तरह से फेल हो जाओगे।’

इस बीच पैनल में शामिल महिला वक्ता योगिता भयाना कहती हैं आप पुरुष अपने आपको समझते क्या हो। महिला न सबरीमाला मंदिर जा सकती है और न ही अंतिम संस्कार कर सकती है। सच तो यह है कि पुरुष बच्चियों का रेप कर देते हैं। इतना सुनते ही जीतेंद्र खुराना भड़क उठते हैं और कहते हैं आप किस तरह के शब्दों का प्रयोग कर रही हैं, आप ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं कर सकतीं प्लीज शट-अप। इसके बाद महिला वक्ता को जीतेंद्र द्वारा शट-अप बोलने पर एंकर भड़क उठती हैं और कहती हैं बिहेव योर सेल्फ। सब अपनी आवाज बंद कीजिए। मैं कुछ चीजें क्लीयर कर दूं। रूबिका लियाकत के शो में तू-तड़ाक, बदतमीजी, अजीबो-गरीब शब्दों का प्रयोग नहीं होता है। मैं स्टूडियो से बाहर निकाल देती हूं। मेरे यहां तमाचे नहीं चलते हैं। मेरे यहां कॉलर नहीं पकड़े जाते हैं। जितेंद्र खुराना मेरे यहां औरतों की इज्जत होती है। अगर आपने किसी भी औरत के साथ बदतमीजी की तो मैं उठाकर बाहर कर दूंगी।

एंकर की तीखी प्रतिक्रिया पर खुराना कहते हैं ‘आप ऐसा करके हमारी बेइज्जती करवाना चाहती हैं। आप भी अपने बिहेव पर काबू कीजिए।’ खुराना के इतना कहते ही रूबिका कहती हैं गेट आउट फ्रॉम माई शो। तमीज से बात कीजिए वरना निकल जाइए यहां से। मैं सच कह रही हूं। यहां पर दो कौड़ी के शो नहीं चलते हैं। मैं बहुत कायदे से शो चलाती हूं।

इसके बाद खुराना कहते हैं कि पैनल में शामिल लोग इज्जत के साथ बात कीजिए। ये मत कहिए कि पुरुष महिलाओं का रेप करते हैं। इसपर योगिता भयाना कहती हैं मैंने पूरे समाज की बात की सिर्फ विशेष रूप से आपको ही नहीं बोला।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X