ताज़ा खबर
 

पीएम की मार्कशीट नहीं द‍िखा पाते और पब्लिक से 1970 का डॉक्‍युमेंट मांगते हो- संब‍ित पात्रा पर भड़के कांग्रेस के प्रो. गौरव

वल्‍लभ और पात्रा में तीखी नोकझोंक हुई। छत्‍तीसगढ़ सरकार के कामकाज का कोई व‍िश्‍लेषण होने के बजाय कार्यक्रम में दोनों नेताओं के बीच एनआरसी, सीएए, जाम‍िया में पुल‍िस कार्रवाई जैसे मुद्दों पर बहस हुई।

गौरव वल्लभ ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। (फोटो-सोशल मीडिया)

कांग्रेस नेता प्रोफेसर गौरव वल्‍लभ ने 17 द‍िसंबर को भाजपा के संब‍ित पात्रा पर अलग ही अंदाज में घेरा। उन्‍होंने एनआरसी और सीएए (नागर‍िकता संशोधन कानून) का व‍िरोध करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर न‍िशाना साधा। उन्‍होंने कहा- आप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ड‍िग्री नहीं द‍िखा सकते और लोगों से 1970 के दस्‍तावेज मांग रहे हैं। इस पर पात्रा ने कहा क‍ि अभी 1970 या क‍िसी साल का कोई ज‍िक्र नहीं है। जो चीज है ही नहीं, उसकी बात क्‍या करना।

छत्‍तीसगढ़ सरकार के एक साल पूरा होने पर एबीपी न्‍यूज ने ‘श‍िखर सम्‍मेलन’ कार्यक्रम आयोज‍ित क‍िया था। इसमें वल्‍लभ और पात्रा में तीखी नोकझोंक हुई। छत्‍तीसगढ़ सरकार के कामकाज का कोई व‍िश्‍लेषण होने के बजाय कार्यक्रम में दोनों नेताओं के बीच एनआरसी, सीएए, जाम‍िया में पुल‍िस कार्रवाई जैसे मुद्दों पर बहस हुई।

एंकर ने गौरव वल्लभ से कहा कि सिख शरणार्थियों को भी तो यूपीए सरकार में नागरिकता मिली है। आप करें तो चमत्कार और ये (बीजेपी) करे तो अत्याचार। इस सवाल के जवाब में वल्लभ ने मोदी सरकार पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि “बिहार और झारखंड के लोग जो असम में काम करने जाते हैं उनको क्यों घुसपैठिया बोला जाता है? और मैं उन घुसपैठिया बोलने वाले लोगों से पूछना चाहता हूं कि आप 1970 के डाक्युमेंट्स मांगते हो और हम आपकी डिग्री मांगते हैं वो तो आप दिखाते नहीं हो और आप हमसे 1970 के डाक्युमेंट्स मांगते हो। स्मृति ईरानी और पीएम मोदी डिग्री से उनकी डिग्री मांगते हैं वो तो दिखाते नहीं हो हमसे 1970 की डिग्री मांगते हो।”

Next Stories
1 CAA: जामिया हिंसा में असामाजिक तत्वों का हाथ होने की आशंका, दिल्ली पुलिस ने गृहमंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट
2 Kerala Lottery Today Results announced LIVE: लॉटरी के नतीजे जारी, देखें किसे लगी है 70 लाख की लॉटरी
3 जामिया हिंसा मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हमारे हस्तक्षेप करने की आवश्यकता नहीं, हाईकोर्ट में अपील करें
ये पढ़ा क्या?
X