ताज़ा खबर
 

आरुषि-हेमराज हत्याकांड फैसला: नुपुर-राजेश तलवार को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बरी किया

Aarushi Talwar, Hemraj Murder Case Verdict (आरुषि-हेमराज हत्याकांड फैसला): तलवार दंपति अभी गाजियाबाद की डासना जेल में बंद है।
आरुषि-हेमराज हत्याकांड फैसला LIVE: सीबीआई की विशेष अदालत ने मई 2008 में हुए दोहरे हत्याकांड में तलवार दंपति को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

नोएडा के बहुचर्चित आरुषि-हेमराज हत्याकांड मामले में उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के फैसले को पलटते हुए तलवार दंपति को बरी कर दिया है। उच्च न्यायालय के इस फैसले से सीबीआई को बड़ा झटका लगा है। अदालत ने पाया कि परिस्थितियां और मौजूद सबूतों के आधार पर तलवार दंपति को दोषी नहीं ठहराया जा सकता। इसलिए ‘शक का लाभ’ देते हुए दोनों को बरी कर दिया गया। तलवार दंपति शुक्रवार को गाजियाबाद की डासना जेल से रिहा होंगे। सीबीआई के वकील ने फैसले के बाद कहा कि वह फैसले की कॉपी पढ़ने के बाद ही कोई टिप्‍पणी कर पाएंगे। सीबीआई अदालत द्वारा दोषी करार दिए डेंटिस्ट दंपति राजेश और नुपुर तलवार ने फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत में अपील दाखिल की थी। तलवार दंपति अभी गाजियाबाद की डासना जेल में बंद है। 29 अगस्त 2016 को उच्च न्यायालय के एक आदेश के बाद नुपुर कुछ दिनों के लिए पैरोल पर रिहा की गई थी। सीबीआई कोर्ट ने नवंबर 2013 में तलवार दंपति को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। अपील पर न्यायमूर्ति बी.के. नारायण एवं न्यायमूर्ति ए.के. मिश्र की खंडपीठ के समक्ष सुनवाई हो रही है। इससे पहले, अदालत ने 11 जनवरी को अपना फैसला सुरक्षा कर लिया था। हालांकि बाद में अदालत ने सीबीआई की कुछ दलीलों में विरोधाभास पाते हुए सुनवाई को फिर से शुरू करने का फैसला किया। फिर अदालत ने अपना फैसला 12 अक्‍टूबर तक के लिए सुरक्षित रख लिया।

14 साल की आरुषि तलवार की लाश 16 मई, 2008 की सुबह नोएडा के जलवायु विहार के फ्लैट नंबर एल-132 में मिली थी। उसका गला रेता गया था। घर के नौकर हेमराज, जिसपर शुरुआत में हत्‍या का शक था, की लाश अगले दिन फ्लैट की छत पर मिली थी। छत का दरवाजा भीतर से बंद था। इस हत्याकांड में नोएडा पुलिस ने 23 मई को डॉ राजेश तलवार को बेटी आरुषि और नौकर हेमराज की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था। इस मामले की जांच एक जून को सीबीआई को सौंप दी गई थी।

यहां पढ़ें आरुषि-हेमराज हत्याकांड फैसला Updates:

– मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, तलवार दंपति शुक्रवार को गाजियाबाद की डासना जेल से रिहा होंगे। सीबीआई के वकील ने फैसले के बाद कहा कि वह फैसले की कॉपी पढ़ने के बाद ही कोई टिप्‍पणी कर पाएंगे।

– अदालत ने पाया कि परिस्थितियां और मौजूद सबूतों के आधार पर तलवार दंपति को दोषी नहीं ठहराया जा सकता। इसलिए ‘शक का लाभ’ देते हुए दोनों को बरी कर दिया गया।

– अदालत ने दोनों को बरी कर दिया है। दोनों की अपील मंजूर करते हुए अदालत ने यह फैसला सुनाया।

– दोनों जज फैसला सुनाने कोर्ट रूम पहुंच गए हैं। कुछ ही देर में फैसला आने वाला है।

– इलाहाबाद हाई कोर्ट ने फैसला सुनाने के लिए दोपहर 2.45 बजे का समय तय किया है।

– तलवार दंपति को अदालत के फैसले की जानकारी डासना जेल में लगे टीवी से मिलेगी। जेल सूत्रों के अनुसार, फैसले के दिन पति-पत्‍नी बेचैन दिख रहे हैं।

– सीबीआई की जांच के आधार पर गाजियाबाद की सीबीआई अदालत ने 26 नवंबर, 2013 को हत्या और सबूत मिटाने का दोषी मानते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी। इसके बाद से तलवार दंपति जेल में बंद हैं।

– आरोपी दंपति डॉ. राजेश तलवार और नुपुर तलवार ने सीबीआई अदालत की ओर से आजीवन कारावास की सजा के खिलाफ इलाहाबाद उच्च न्यायालय में अपील दाखिल की है।

– आरुषि-हेमराज हत्‍याकांड भारत के इतिहास के सबसे चर्चित आपराधिक मामलों में से एक है। हालांकि अदालत ने इसे ‘रेयरेस्‍ट ऑफ द रेयर’ मुकदमा मानने से इनकार कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. L
    Lokesh Pal
    Oct 12, 2017 at 6:15 pm
    अरुषि और हेमराज की हत्या तो हुई है, अब सवाल यह उठता है कि तलवार दंपत्ति ने नहीं मारा तो किसने मारा, पुलिस और सीबीआई जैसी जांच एजेंसी आखिर इस मा े में कहां चूक कर गई, जिससे कातिल को फायदा मिल गया। खैर, तलवार दंपत्ति तो हाई कोर्ट से बरी हो गए हैं, लेकिन इस वाक्ये ने जांच एजेंसियों पर प्रश्नचिह्न लगा दिया है कि इतने सालों बाद भी वह इस केस में कुछ ठोस सबूत नहीं जुटा सके।
    (0)(0)
    Reply
    1. P
      pk
      Oct 12, 2017 at 10:48 pm
      khuch bhi how such samne a ana chahiye
      (0)(0)
      Reply