ताज़ा खबर
 

आप को ‘मंथन से अमृत’ की उम्मीद

अंदरूनी कलह से जूझ रही आम आदमी पार्टी ने मंगलवार को वरिष्ठ नेता योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण के साथ सुलह समझौते की प्रक्रिया के लिए हाथ बढ़ाने के साथ ही अन्य राज्यों में पार्टी के आधार को विस्तार प्रदान पर सहमति जताते हुए मतभेद समाप्त करने की दिशा में कदम उठाने का फैसला किया। […]

Author March 18, 2015 9:54 AM
मतभेद मिटाने के लिए बैठक, केजरीवाल मिलेंगे भूषण और यादव से

अंदरूनी कलह से जूझ रही आम आदमी पार्टी ने मंगलवार को वरिष्ठ नेता योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण के साथ सुलह समझौते की प्रक्रिया के लिए हाथ बढ़ाने के साथ ही अन्य राज्यों में पार्टी के आधार को विस्तार प्रदान पर सहमति जताते हुए मतभेद समाप्त करने की दिशा में कदम उठाने का फैसला किया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री व पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल के कौशांबी स्थित आवास पर मंगलवार को पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति की बैठक में नीतिगत निर्णय की प्रक्रिया में स्वयंसेवकों की भागीदारी को बढ़ाने का भी फैसला किया गया।

आप के परस्पर विरोधी गुटों ने मंगलवार को अपने मतभेद दरकिनार करने के संकेत दिए, जबकि केजरीवाल ने भूषण और योगेंद्र यादव से मुलाकात करने की बात कही।

आप के वरिष्ठ नेताओं व केजरीवाल समर्थक संजय सिंह, कुमार विश्वास, आशुतोष और आशीष खेतान ने सोमवार रात यादव से मुलाकात की और कई जटिल मुद्दों पर चर्चा की। दोनों गुटों ने चर्चा को ‘सकारात्मक’ करार दिया। केजरीवाल की सोमवार रात यहां बंगलुरू से वापसी के बाद दोनों गुटों के बीच मेलमिलाप के प्रयास तेज हो गए।

केजरीवाल और यादव के बीच मंगलवार को दिल्ली की एक अदालत में संक्षिप्त बातचीत हुई जहां वे दोनों मानहानि के एक मामले में समन किए गए थे।

सोमवार को यादव और भूषण ने समझौते का संकेत देते हुए केजरीवाल से मिलने का समय मांगा और मंगलवार को आप प्रमुख ने जवाब देते हुए कहा कि उनसे ‘जल्द’ मुलाकात करेंगे। दोनों नेताओं की ओर से सोमवार सुबह एक एसएमएस भेजा गया था।

वरिष्ठ पार्टी नेता संजय सिंह ने दो घंटे चली बैठक के बाद संवाददाताओं को बताया, ‘हमने पार्टी में हालात को सामान्य बनाने के लिए पहले ही काम शुरू कर दिया है। हम पहले ही यादव से मिल चुके हैं तो हमने एक कदम आगे बढ़ाया है।’ हालांकि उन्होंने भूषण के आशीष खेतान से मिलने से इनकार करने संबंधी सवाल का जवाब देने से बचते हुए कहा, ‘उन्होंने बात करने से इनकार नहीं किया है।’

सिंह ने बताया कि पीएसी ने अन्य राज्यों में भी पार्टी को विस्तार देने का फैसला किया। इस मुद्दे को लेकर यादव को आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा था जिन्होंने कुछ अन्य राज्यों में पार्टी का विस्तार किए जाने का समर्थन किया था। सिंह ने कहा, ‘पार्टी का विस्तार होगा। अन्य राज्यों में अपने संगठन को मजबूत करने के लिए काम करेंगे।

किन राज्यों में पार्टी को चुनाव लड़ना चाहिए, इसका फैसला केवल उन राज्यों में राजनीतिक क्षमता और नेतृत्व को देखकर किया जाएगा।’ स्वयंसेवकों पर अधिक बल देते हुए सिंह ने कहा कि पार्टी उन्हें फैसले करने की प्रक्रिया में शामिल करेगी और इसके लिए एक समिति गठित की जाएगी।

उन्होंने बताया, ‘पार्टी देश में सक्रिय स्वयंसेवकों की एक सूची तैयार करेगी। उन्हें संगठन के फैसले करने में महत्व दिया जाएगा और हमने यह देखने के लिए भी एक समिति गठित करने का फैसला किया है कि स्वयंसेवकों की भागीदारी कैसे बढ़ाई जाए।’

इससे पहले संजय सिंह ने ट्वीट किया, ‘पार्टी में गत कुछ दिनों से जो कुछ हो रहा था उससे हम परेशान थे। हमने योगेंद्र भाई से बातचीत शुरू की। शुरुआत अच्छी रही।’ यादव के नजदीकी सूत्रों ने भी ऐसी ही भावना व्यक्त की। केजरीवाल की सकारात्मक प्रतिक्रिया पर यादव ने कहा, ‘उन्हें (केजरीवाल) जब भी समय मिलेगा वह निश्चित तौर पर मुलाकात करेंगे।’

यादव ने कहा कि पार्टी ने पूर्व में कई बार वापसी की है जबकि एक वर्ग ने तो उसकी ‘श्रद्धांजलि’ लिख दी थी। यादव ने कहा, ‘बातचीत को आगे बढ़ाया जाएगा। मैं पहले दिन से कह रहा हूं कि इस पार्टी से काफी उम्मीदें जुड़ी हुई हैं। पिछले कुछ दिनों के ‘मंथन’ से काफी विष निकला है लेकिन अब अमृत निकलेगा।’

इस बीच भूषण ने मतभेद सुलझाने के लिए केजरीवाल को छोड़कर किसी से भी मिलने से इनकार कर दिया। खेतान ने उनसे एक मुलाकात का अनुरोध किया था लेकिन भूषण ने उनसे मिलने से इनकार कर दिया।

भूषण ने कहा, ‘उन्होंने (खेतान) सुबह मुलाकात के लिए कहा था लेकिन मैंने जवाब देते हुए कहा कि आपसे मुलाकात का कोई फायदा नहीं होगा और मैं अरविंद से मिलना चाहूंंगा।’ भूषण ने कहा कि केजरीवाल ने उन्हें बताया कि वह अगले सप्ताह के बजट सत्र को लेकर व्यस्त हैं और वह उनसे बाद में मुलाकात करेंगे।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App