ताज़ा खबर
 

AAP नेता संजय सिंह बोले, लालकिला हिंसा की साजिश भाजपा ने की, तीनों कानून किसानों के डेथ वॉरंट

संजय सिंह ने कहा कि जहाँ तक तीनों काले कानून की बात है तो ये तीनों कानून देशभर के किसानों के लिए डेथ वारंट की तरह हैं। सरकार ने ऐसा हाल कर दिया है कि किसान पिछले तीन महीने से पानी की बौछारें झेल रहे हैं, आंसू गैस के गोले झेल रहे हैं और लाठियां खा रहे हैं।

AAP , SANJAY SINGH , FARMERSआप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह (फोटो – PTI)

केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए तीनों कृषि कानून के खिलाफ देशभर में आंदोलन चल रहा है। किसान संगठनों के अलावा विपक्षी राजनीतिक पार्टियां भी मोदी सरकार के खिलाफ हमलावर हो गयी है। विपक्षी दल भी किसान महापंचायत का आयोजन कर रहे हैं। आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने केंद्र सरकार के खिलाफ हमला बोलते हुए कहा है कि 26 जनवरी को लाल किले में हुई हिंसा की साजिश भाजपा ने ही रची थी। साथ ही उन्होंने कहा कि ये तीनों कृषि कानून किसानों के लिए डेथ वारंट हैं।

मीडिया के साथ बातचीत में आप नेता संजय सिंह ने कहा कि मैं तो पहले दिन से कह रहा हूँ कि 26 जनवरी को लाल किले पर जो भी हुआ उसके पीछे भारतीय जनता पार्टी की साजिश थी और एक गहरा षड़यंत्र था। वो व्यक्ति (दीप सिद्धू) जो बीजेपी का नेता है उसने जानबूझ कर लाल किले पर हमला किया। दिल्ली पुलिस ने केंद्र सरकार के आदेश पर उनलोगों को लालकिले के अंदर जाने दिया।  

इसके अलावा संजय सिंह ने कहा कि जहाँ तक तीनों काले कानून की बात है तो ये तीनों कानून देशभर के किसानों के लिए डेथ वारंट की तरह हैं। सरकार ने ऐसा हाल कर दिया है कि किसान पिछले तीन महीने से पानी की बौछारें झेल रहे हैं, आंसू गैस के गोले झेल रहे हैं और लाठियां खा रहे हैं। इस सरकार ने किसानों का इतना अधिकतम अपमान किया है कि आज से पहले किसी भी सरकार ने ऐसा नहीं किया होगा।

कल सोमवार को मेरठ में आम आदमी पार्टी के द्वारा किसान महापंचायत का आयोजन किया गया था। इस महापंचायत में किसानों को संबोधित करते हुए अरविन्द केजरीवाल ने कहा था कि आज अपने देश का किसान बहुत ज्यादा पीड़ा में है। किसान भाई परिवार समेत 95 दिनों से कड़कती ठंड में दिल्ली के बॉर्डर पर धरने पर बैठा है। 250 से ज्यादा किसान भाइयों की शहादत हो चुकी है। लेकिन सरकार के सिर पर जूं नहीं रेंग रही है।

अरविन्द केजरीवाल ने भाजपा सरकार पर इन कानूनों की मदद से पूंजीपतियों को फायदा पहुँचाने का आरोप लगाया था। केजरीवाल ने कहा था कि सरकार इन कानूनों के माध्यम से किसानों की जमीन हड़प कर देश के तीन चार पूंजीपतियों को देना चाहती है। इन कानूनों के आने के बाद किसान अपने ही खेतों में मजदूर बनकर रह जायेंगे।

Next Stories
1 चीनी साइबर अटैक की वजह से मुंबई की बत्ती गुल, महाराष्ट्र मंत्री ने कहा- 3 सदस्यीय कमेटी करेगी जांच
2 किसान आंदोलन: राकेश टिकैत का दावा- चुप्पी साधी सरकार किसानों पर एक्शन का बना रही है प्लान
3 पंजाब की पॉलिटिक्स में प्रशांत किशोर की एंट्री, CM ने खुद बताया- संभालेंगे यह अहम पद
ये पढ़ा क्या?
X