ताज़ा खबर
 

Delhi Election: AAP सांसद संजय सिंह बोले- बीजेपी से खुद कुछ होता नहीं, हम फ्री में सुविधाएं दें तो विरोध क्यों?

क्या लोगों को फ्री में हेल्थ की सुविधा नहीं मिलनी चाहिए, क्या बिजली, पानी, शिक्षा, फ्री नहीं मिलनी चाहिए। भाजपा से तो कुछ होता नहीं है, हम कर रहे हैं तो विरोध कर रहे है। भाजपा के नेता कहते हैं कि फ्री सेवा बंद कर देंगे।

Author नई दिल्ली | Updated: January 20, 2020 6:52 PM
आम आदमी के राज्यसभा सांसद – संजय सिंह

दिल्ली में 8 फरवरी को विधानसभा का चुनाव है। आम आदमी पार्टी, बीजेपी-कांग्रेस का चुनाव प्रचार जोरों पर है। चुनावी परीक्षा में सीएम अरविंद केजरीवाल अपनी रिपोर्ट कार्ड पेश कर चुके हैं, अब बारी है जनता की, देखते हैं उन्हें कितना नंबर देती है। दिल्ली में चुनावी प्रचार का जिम्मा संभाल रहे आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह से जनसत्ता के मैनेजिंग एडिटर केशवानंद धर दुबे ने खास बातचीत की। आइए जानते हैं इस बार पार्टी किस रणनीति के साथ मैदान में है।

सवाल: आम आदमी पार्टी ने अपना पहला विधानसभा चुनाव 2013 में लड़ा था और अब 2020 में लड़ रही है, इस बीच आप पार्टी के स्तर पर कितना बड़ा बदलाव देखते हैं?

संजय सिंह: जब 2013 में हम चुनाव लड़ने आए तो उस समय हमारी पार्टी आंदोलन से निकली हुई थी, जो नई और बदलाव की राजनीति करने की सोच लेकर आई। 2013 में लोग कहते थे कि पार्टी की जमानत जब्त हो जाएगी। वहीं कुछ लोग कहते थे कि चार से पांच प्रतिशत वोट हासिल करेगी, लेकिन हम लोगों ने पहले ही विधानसभा चुनाव में 28 सीटों पर जीत दर्ज की और सरकार बनाई। इसके बाद जन लोकपाल बिल पर सरकार ने इस्तीफा दिया। इसके बाद लोकसभा चुनाव 2014 में हमारी बड़ी हार हुई सिर्फ पंजाब में चार सीटों पर हमने जीत दर्ज की।

इसके बाद लोगों ने कहा कि पार्टी खत्म हो गई इसका कोई भविष्य नहीं है। लेकिन 2015 विधानसभा चुनाव में पार्टी ने 70 सीटों में से 67 सीटों पर जीत दर्ज की। अब चुनौती यह थी कि आंदोलन से निकले लोग सरकार चला पाएंगे या नहीं? लेकिन पांच सालों के अंदर चार सौ यूनिट बिजली आधे दाम पर दो सौ यूनिट बिजली फ्री, माताओं-बहनों के लिए बस की यात्रा फ्री, एजुकेशन सिस्टम को बेहतर बनाया, हेल्थ सिस्टम को बेहतर बनाया, मोहल्ला क्लिनिक का मॉडल, स्कूलों में स्विमिंग का निर्माण, स्कूलों में हॉकी का ग्राउंड इस तरह के मॉडल पेश किया है जिसका पूरी दुनिया उदाहरण दे रही है।

2013 में हमने जो शुरुआत की थी, जो हमसे अपेक्षाएं थीं कि एक ऐसी सरकार चला कर दिखाएं जो प्रो-पीपुल हो, जनता को राहत देती हो, जो आम आदमी के लिए काम करती हो। वह हमने करके दिखाया है। एक बड़ा बदलाव हमें ये देखने को मिला है कि जो सफर हमने शुरू किया था, उससे हम आगे बढ़ रहे हैं और उसकी सराहना हो रही है। आज लोग इस राजनीति की प्रशंसा कर रहे हैं।

सवाल: आपने कई मुद्दों पर बात की। 2013 में जब आपकी पार्टी विधानसभा चुनाव लड़ रही थी तो लोकपाल करप्शन जैसे मुद्दे थे, 2015 में बिजली-पानी जैसे घरेलू मुद्दे थे। 2020 के अहम मुद्दे क्या हैं?

संजय सिंह: जन लोकपाल बिल दिल्ली के विधानसभा से पास करके हमने भेज दिया, सीएम ने खुद को जन लोकपाल बिल के दायरे में रखा है, हमने ऐसा कानून बनाया। और आज कि तारीख में भी जनलोकपाल बिल को बीजेपी ने पास नहीं किया है। आखिर बीजेपी क्यों हमारा बिल पास नहीं कर रही है? भ्रष्टाचार के खिलाफ जांच करने की जो एजेंसी थी वह (एंटी करप्शन ब्यूरो) हमारे पास थी, वह हमसे 6 महीने में ले ली। जो काम हमारे जिम्मे थे उनमें बिजली, पानी, शिक्षा, हेल्थ, सड़क, परिवहन, पीडब्लूडी, जल बोर्ड का था, वह हमने बेहतर तरीके से किए हैं। 2020 में हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती है दिल्ली के ट्रैफिक को कम करना, प्रदूषण को दूर करने के लिए स्थाई व्यवस्था की जाए, पीने का पानी 24 घंटे लोगों तक पहुंचे, यमुना को स्वच्छ करना, ये सारी प्रथामिकताएं हैं जो अगले पांच साल में पूरा करेंगे।

 

सवाल: दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाए जाने की आम आदमी पार्टी की शुरू से मांग रही है लेकिन इस समय इस पर चर्चा नहीं हो रही है।

संजय सिंह: पूर्ण राज्य की हमारी मांग जारी रहेगी। लोकसभा के चुनाव में यह मुद्दा जोर शोर से उठाया था क्योंकि वह केंद्र सरकार को करना है। इस मुद्दे को बीजेपी और कांग्रेस ने भी पूर्ण राज्य की बात कही थी लेकिन सरकार में आने के बाद यह नहीं कर रही है।

सवाल: अरविंद केजरीवाल ने एक रिपोर्ट कार्ड पेश किया और एक गारंटी कार्ड पेश किया है, इस पर क्या कहना है?

संजय सिंहः रिपोर्ट कार्ड में वे मुद्दे हैं जिन पर हमने पिछले पांच सालों में काम किया है। इनमें बिजली, पानी, फ्लाइओवर, शिक्षा, स्वास्थ्य, माताओं-बहनों, सीसीटीवी, तीर्थयात्रा सभी वर्गों के लिए जो काम किया था उसके बारे में डिटेल है और उसे जनता के पास लेकर जा रहे हैं और हम दिखा रहे हैं कि हमने यह काम किया है। सभी इसकी प्रशंसा कर रहे हैं और खुद से भी मान रहे हैं कि हमने अच्छा काम किया है। इस रिपोर्ट कार्ड के बाद कुछ लोगों ने भ्रम फैलाना शुरू कर दिया है खासतौर पर भाजपा लोगों में भ्रम फैला रही है कि 200 यूनिट फ्री बिजली, फ्री पानी, फ्री बस सेवा ये सभी सुविधाएं 31 मार्च तक ही मिलेंगी।

इसलिए जनता को गारंटी कार्ड इशू करके कहा गया है कि पांच साल ये योजनाएं जारी रहेंगी। इस कार्ड के जरिये केजरीवाल सरकार ने लोगों को विश्वास दिलाया है कि कोई भी योजना बंद नहीं होने वाली है। 10 प्वाइंट के ऊपर केजरीवाल ने गारंटी दी है कि इन योजनाओं का लाभ आगे भी मिलता रहेगा।

सवाल: बीजेपी और कांग्रेस का आरोप है कि आप सरकार लोगों को फ्री सेवाएं देकर जनता को लुभा रही है।

संजय सिंह: एक सरकार 32 हजार करोड़ के बजट से अपना सफर शुरू करती है, 2015 में वह सरकार आज की तारीख में 60 हजार करोड़ का बजट पा लेती है। प्रतिवर्ष लगभग 6 हजार करोड़ रुपए बजट में बढ़ोतरी हुई। ये कोई छोटी बात नहीं है। इस बजट की वजह से तमाम फ्री सुविधाएं जनता को दे रहे हैं। क्या इन पैसों से हमें हवाई जहाज खरीदना चाहिए? इसमें भ्रष्टाचार करना चाहिए? पूंजीपतियों को जनता के लाखों-करोड़ों रुपए देने वाली केंद्र सरकार यही सोचेगी कि हम फ्री में क्यों दे रहे हैं? लेकिन यह जनता का पैसा है और हम उसे दे रहे हैं। माताओं-बहनों को फ्री में बस यात्रा के लिए एक साल का खर्च 140 करोड़ रुपए है। गुजरात के सीएम विजय रुपाणी के लिए जो जहाज खरीदा गया है उसकी कीमत 190 करोड़ रुपए है। उनकी प्राथमिकता है जहाज खरीदना और हमारी प्राथमिकता है माताओं-बहनों को फ्री में बस यात्रा कराना। क्या लोगों को फ्री में हेल्थ की सुविधा नहीं मिलनी चाहिए, क्या बिजली, पानी, शिक्षा, फ्री नहीं मिलनी चाहिए। भाजपा से तो कुछ होता नहीं है, हम कर रहे हैं तो विरोध कर रहे है। भाजपा के नेता कहते हैं कि फ्री सेवा बंद कर देंगे।

सवाल: पूर्वांचल विरोधी बयानबाजी को लेकर पार्टी की आलोचना हो रही है इस पर पार्टी की क्या सोच है?

संजय सिंह: अगर पूर्वांचल विरोधी आम आदमी पार्टी है तो पूर्वांचल पक्षधर कौन है, एक नाम बता दीजिए। महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार थी तो पूर्वांचल के लोगों को वहां पीटा गया, गुजरात में अहमदाबाद, सूरत में जब पूर्वांचल के लोगों को निकाला जा रहा था तो बीजेपी कहां थी? पूरे देश के अंदर पूर्वांचल के विरोध में काम करने वाली पार्टी आज पूर्वांचल की पक्षधर हो गई। आम आदमी पार्टी ने 13 टिकट पूर्वांचल के लोगों को दिए हैं आम आदमी पार्टी ने दिल्ली में छठ के घाट बनाए। जब हमारी सरकार बनी तो 72 छठ के घाट थे लेकिन आज 1172 घाट हैं। अनाधिकृत कॉलोनियों में 8135 करोड़ रुपए का विकास कार्य किया है। दिल्ली के अंदर भाजपा के पार्षद ने छठ माता का घाट तोड़ा दिया और हम लोगों ने जाकर वहां प्रदर्शन किया। इनसे हमें सीखने की जरूरत नहीं है कि पूर्वांचल का सम्मान कैसे किया जाता है। हमने 500 से ज्यादा पूर्वांचल के लोगों के साथ संवाद किया। सभी लोगों ने बड़े सम्मान के साथ हमारा समर्थन किया है।

सवाल: अब बात करते हैं, CAA और NRC जैसे मुद्दे की। दिल्ली में बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन हुआ। शाहीन बाग-जामिया में अभी भी प्रदर्शन हो रहे हैं। आपको क्या लगता है कि इस मुद्दे का दिल्ली के चुनाव पर कितना असर पड़ेगा?

संजय सिंह: मुझे लगता है देश को इस समय बेरोजगारी, शिक्षा, स्वास्थ्य, महंगाई से लड़ने की जरूरत है जो हमारे समाज में और बुराई है उनसे लड़ने की जरूरत है लेकिन भाजपा ने सीएए और एनआरसी में उलझा रखा है। आम आदमी के काम पर लोग वोट करेंगे। बीजेपी ने लोगों को असली मुद्दों से भटकाने के लिए सीएए और एनआरसी को पैदा किया है।

सवाल- पार्टी स्तर की बात करें तो 2013-2015 में पार्टी के साथ कई बड़े नाम थे। शाजिया इल्मी, कुमार विश्वास जैसे लोग थे, इस पर आप क्या कहेंगे?

संजय सिंहः उस पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करूंगा, मैं चैनल पर इस मुद्दे पर बात नहीं करता। मैं ठीक नहीं समझता। जिन लोगों के साथ काम किए हैं, अच्छे बुरे दिन बिताएं हैं उनके बारे में इंटरव्यू में क्या बात करना।

सवाल: 67 विधायकों में से 15 विधायकों का टिकट काटे गए हैं, कुछ विधायकों ने पैसे-लेन देन के आरोप लगाए। विधायकों की नाराजगी पार्टी पर क्या असर डालेगी?

संजय सिंहः जब टिकट कटते हैं तो लोग गुस्से में कुछ भी बोलते हैं यही वो साथी हैं जिन्हें पार्टी ने टिकट दिया और विधायक बनाया। अब किस कारण से ऐसा बोल रहे हैं, वही बता सकते हैं। लेकिन फिलहाल यह समझा जा सकता है कि कुछ ऐसी बातें लोग बोलते हैं जिनका बाद में अफसोस होगा। हम उन्हें दूसरी जिम्मेदारी भी देने की सोच रहे थे लेकिन कुछ लोग इस बात को नहीं समझ रहे हैं। इनका कोई असर चुनाव पर नहीं पड़ेगा। सिर्फ टिकट कटने की वजह से एक नाराज़गी है।

सवाल: आखिर में एक सवाल… इस बार आम आदमी पार्टी को कितने सीटों पर जीतने की उम्मीद है?

संजय सिंह: देखिए, मुझे तो ऐसा महसूस हो रहा कि दिल्ली की जनता खुद से 2015 का रिकॉर्ड तोड़ने जा रही है। आज बहुत बड़ा समर्थन आम आदमी पार्टी को मिल रहा है।

सवाल- यदि 2013 की स्थिति बनती है तो क्या गठबंधन होगा?

संजय सिंह: ऐसी कोई स्थिति दूर-दूर तक नहीं बन रही है। एक तरफा आम आदमी पार्टी के समर्थन में लोग हैं। 2013 की स्थिति दूर-दूर तक नजर नहीं आ रही है।आप देखेंगे 2015 का रिकॉर्ड 2020 में टूटने जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘BJP सपोर्टर छोड़ सबको जेल में डाल दो’, हरियाणा के मंत्री अनिज विज के इस Tweet पर एक्टर अनूप सोनी ने कसा तंज
2 रामनाथ गोयनका उत्कृष्ट पत्रकारिता पुरस्कार समारोहः राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने कहा- पत्रकारिता बेखौफ और निष्पक्ष होनी चाहिए
3 NRC का संकेत है NPR, बंगाल में नहीं होने दूंगी लिंचिंग; BJP पर यूं भड़की ममता बनर्जी
ये पढ़ा क्या?
X