कोरोनाः जान बचाएं या स्कूल में हाजिरी लगाएं?- एंकर ने ऑनलाइन क्लास पर उठाया सवाल, बोले आचार्य- प्रभु, ये फीस वसूलने का ड्रामा है

एंकर रोहित सरदाना ने ऑनलाइन क्लास पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया कि आस पास लगभग हर घर में कोरोना से पीड़ित कोई न कोई है लेकिन नोएडा के स्कूलों में ऑनलाइन क्लास चल रही हैं।

school, online class, UP उत्तरप्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य के सभी स्कूल और कॉलेज को 15 मई तक बंद रखने को कहा है। (एक्सप्रेस फोटो : अरुल होराइजन)

देशभर में कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से फ़ैल रहा है। बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखकर सभी राज्य सरकारों ने स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए हैं। हालांकि कई स्कूलों में इस महामारी के दौरान भी ऑनलाइन क्लासें चल रही है। ऑनलाइन क्लास को लेकर आजतक न्यूज चैनल के एंकर रोहित सरदाना ने सवाल उठाते हुए ट्वीट किया कि इस महामारी में जान बचाएं या स्कूल में हाजिरी लगाएं। एंकर के इस ट्वीट पर कांग्रेस समर्थक आचार्य प्रमोद कृष्णन बोल उठे कि प्रभु बस ये फ़ीस वसूलने का ड्रामा है।

दरअसल आजतक न्यूज के चैनल के एंकर रोहित सरदाना ने ऑनलाइन क्लास पर सवाल उठाते हुए ट्वीट किया कि आस पास लगभग हर घर में कोरोना से पीड़ित कोई न कोई है। किसी किसी घर में तो बच्चे और माता-पिता सब बीमार हैं. लेकिन नोएडा के स्कूलों में ऑनलाइन क्लास चल रही हैं। जान बचाएं या स्कूल में हाजिरी लगाएं? एंकर रोहित सरदाना के इस ट्वीट पर कांग्रेस समर्थक आचार्य प्रमोद कृष्णन ने अपनी प्रतिक्रिया दी। 


प्रमोद कृष्णन ने भी रोहित सरदाना के उस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा कि कोई क्लास-वलास नहीं प्रभु, फ़ीस वसूलने का ड्रामा है बस। बता दें कि कोरोना के बेकाबू होते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए उत्तरप्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने राज्य के सभी स्कूल और कॉलेज को 15 मई तक बंद रखने को कहा है। हालांकि कई स्कूलों में इस वजह से ऑनलाइन क्लास चल रहे हैं। पिछले साल हुए लॉकडाउन के दौरान कई विद्यार्थियों के परिजनों ने यह शिकायत की थी कि ऑनलाइन क्लास के नाम पर मोटी फ़ीस वसूली गई है। इसके लिए कोर्ट में एक याचिका भी दायर की गई थी।

2020 के अंत और 2021 की शुरुआत में अधिकांश राज्यों ने फिर से स्कूल खोलने के निर्देश दे दिए थे। हालांकि देशभर में कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण मार्च महीने से ही कई राज्य सरकारों ने अपने यहां के स्कूल और कॉलेजों को बंद करने का आदेश दे दिया था। इसके अलावा कई विश्वविद्यालयों में होने वाली परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई थी। कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड और काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल एग्जामिनेशन्स ने10वीं के बच्चों को प्रमोट करने का आदेश दे दिया है।

देश में एक दिन में कोविड-19 के 3,23,144 नए मामले सामने आने के साथ संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,76,36,307 पर पहुंच गए जबकि एक्टिव केसों की संख्या 28 लाख से अधिक हो गई है। इन आंकड़ों के अनुसार एक दिन में 2771 संक्रमितों की मौत होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 1,97,894 हो गई है।

Next Stories
1 कोरोनाः ऑक्सीजन संकट पर 3 दिन के अफरा-तफरी भरे मंजर का जिक्र कर बोले CM केजरीवाल- मैं भी काफी घबरा गया था
2 सोनिया गांधी बोलीं- कोरोना से लड़ने में मोदी सरकार धड़ाम, संकट से निपटने को दिया आठ सूत्रों का सुझाव
3 कोरोनाः ‘राष्ट्रीय संकट पर मूकदर्शक बने नहीं रह सकते’, बोला SC; रेमडेसिविर की कमी पर भी सरकारों से मांगे जवाब
यह पढ़ा क्या?
X