ताज़ा खबर
 

बीजेपी की दलीलों पर एंकर का तंज- राहुल ने वैक्सीन मंगाने के लिए कहा तो मंत्री बोले कमीशन खाना चाहते हैं, अब क्या?

एंकर कहने लगे कि पिछले दिनों जब राहुल गांधी ने देश के लिए और वैक्सीन मंगाने को कहा तो आपके मंत्री ने कहना शुरू कर दिया कि वो कमीशन खाना चाहते हैं। लेकिन आपने कुछ दिन बाद ही विदेशी टीकों को मंजूरी दे दी।

vaccination, coronavirus, rahul gandhiपिछले दिनों कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी को टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के लिए एक पत्र लिखा था। जिसके बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने उनपर लॉबिंग करने का आरोप लगाया था। (फोटो- पीटीआई)

देशभर में कोरोना के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना की दूसरी लहर ने देश की खराब स्वास्थ्य के पोल खोल कर रख दिए हैं। इसी बीच एक टीवी डिबेट में जब भाजपा प्रवक्ता ने वैक्सीन और अन्य मुद्दों पर जवाब देने के बजाय विपक्षी कांग्रेस को घेरना शुरू किया तो एंकर भड़क गए। एंकर कहने लगे कि पिछले दिनों जब राहुल गांधी ने देश के लिए और वैक्सीन मंगाने को कहा तो आपके मंत्री ने कहना शुरू कर दिया कि वो कमीशन खाना चाहते हैं। लेकिन आपने कुछ दिन बाद ही विदेशी टीकों को मंजूरी दे दी।

दरअसल आजतक न्यूज चैनल पर आयोजित डिबेट शो में भाजपा प्रवक्ता जफ़र इस्लाम ने कहा कि लोकतंत्र में आलोचनाओं का स्वागत है। सरकार को कटघरे में खड़ा करना कोई बुरी बात नहीं है। प्रधानमंत्री मोदी भी अक्सर यही बात कहते हैं। लेकिन विपक्ष के लोग कहा करते थे कि देश में जल्दी वैक्सीन उपलब्ध नहीं हो पाएगा लेकिन आज बड़े स्तर पर टीकाकरण अभियान चल रहा है। 

भाजपा प्रवक्ता के इतना कहते ही एंकर रोहित सरदाना कहने लगे कि जब कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि विदेशों में जो वैक्सीन बंट रही है उसे आपने क्यों नहीं मंगवाया। तो आपके एक मंत्री जी आए और कहने लगे कि राहुल गांधी कमीशन खाना चाहते हैं। लेकिन दो दिन के बाद आपने खुद ही विदेशी वैक्सीन के लिए दरवाजे खोलने शुरू कर दिए। यह पहले क्यों नहीं हुआ। एंकर की बात का जवाब देते हुए भाजपा प्रवक्ता जफ़र इस्लाम ने कहना शुरू कर दिया कि कांग्रेस राज में हमेशा से ही बिचौलिए को प्राथमिकता दी गई है। इसलिए राहुल गांधी को वैक्सीन पर राजनीति करने के बजाय टीकाकरण अभियान की सराहना करनी चाहिए।

बता दें कि पिछले दिनों कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी को टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के लिए एक पत्र लिखा था। राहुल गांधी ने अपने पत्र में लिखा था कि कोरोना वायरस के टीके की खरीद एवं वितरण में राज्यों की भूमिका बढ़ाई जाए और टीकों के निर्यात पर तत्काल रोक लगाई जाए। साथ ही उन्होंने दावा किया था कि अगर मौजूदा गति से ही टीकाकरण चलता रहा तो देश की 75 फीसदी आबादी को टीका लगाने में कई साल लग जाएंगे। इसलिए नियमों के अनुसार दूसरे देशों के टीकों को त्वरित अनुमति दी जाए। साथ ही जिन्हें भी टीके की जरूरत है उनके लिए टीकाकरण की व्यवस्था की जाए।   

राहुल गांधी के इस पत्र का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि  एक पार्ट टाइम नेता बनने में असफल रहने के बाद अब क्या वे फुल टाइम लॉबिस्ट बनना चाहते हैं? पहले उन्होंने फाइटर प्लेन की खरीद में लॉबिंग करके देश की रक्षा खरीद को नुकसान पहुंचाया। अब वे फार्मा कंपनियों के लिए लॉबिंग करते हुए विदेशी कंपनियों की वैक्सीन को अप्रूवल देने की बात कर रहे हैं।

Next Stories
1 टीएमसी प्रवक्ता से बोले अर्नब- आप सरकार में, रैलियां बंद करेंगे तो मिलेंगे ज्यादा वोट, आपको देख बीजेपी भी हटेगी पीछे
2 SC ने इटैलियन मरीन मामले को अगले हफ्ते के लिए टाला, केंद्र से कहा- ‘हम जानते हैं कि आप कितनी तेजी से काम करते हैं’
3 दिल्ली में जान से अधिक जाम की फिक्र! लॉकडाउन का ऐलान होते ही ठेकों पर टूट पड़ी भीड़, शराब की बोतलें ले जाती महिला ने कहां- बस 1 पेटी है…
यह पढ़ा क्या?
X