ताज़ा खबर
 

‘बजट में मौका था तब बताया नहीं, अब पोटली बाबा बनके पोटला मत दिखाओ’, डिबेट में बीजेपी प्रवक्ता को CPM नेता ने हड़काया

एक टीवी चैनल पर बहस के दौरान सीपीएम प्रवक्ता एक सवाल का जवाब देते वक्त बीजेपी प्रवक्ता पर भड़क गए और उनको हड़का दिया।

टीवी डिबेट के दौरान बीजेपी प्रवक्ता पर सीपीएम नेता भड़क गए।

देश में अर्थव्यवस्था के सुस्त होने के संकेतों को लेकर चर्चा काफी तेज है। हाल ही में कई ऐसे आंकड़े सामने आए जिससे यह साफ पता चलता है कि देश की अर्थव्यवस्था की रफ्तार धीमी होती नजर आ रही है।  हाल ही में खबर आई थी कि मारुति सुजुकी में 3000 कर्माचारियों ने अपनी नौकरी गंवा दी। इसके अलावा मशहूर बिस्किट कंपनी पारले जी अपने 10 हजार कर्मचारियों की छटनी कर सकता है।

ऐसी खबरों के बीच टीवी चैनल्स पर डिबेट चल रही है कि क्या देश में आर्थिक मंदी आ रही है और क्या पीएम मोदी का पाँच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था का सपना टूट जाएगा। इसी क्रम में एक चैनल पर बहस के दौरान सीपीएम प्रवक्ता एक सवाल का जवाब देते वक्त बीजेपी प्रवक्ता पर भड़क गए और उनको हड़का दिया। उन्होंने कहा कि बजट में मौका था तब बताया नहीं, अब पोटली बाबा बनके पोटला मत दिखाओ।


मो. सलीम ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अगर अर्थव्यवस्था को कुछ हुआ ही नहीं है तो वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण किस चीज की दवा दे रही हैं। उन्होंने कहा कि पहले लोग नोटबंदी और जीएसटी को  गलत नहीं मान रहे थे लेकिन अब मानने लगे। आज गाड़ी उद्योग, बिस्किट उद्योग, कपड़ा उद्योग एक बाद एक कह रहे हैं कि हम छंटनी कर रहे हैं , हम परेशान हैं। और बीजेपी के प्रवक्ता कह रहे हैं कि कोई समस्या है ही नहीं। अगर समस्या है ही नहीं तो ऑक्सीजन आप किसको दे रहे हैं। अगर आपक किसी को दवाई दे रहे हैं और वो बीमार नहीं है तो वो तो बीमार पड़ जाएगा। उनकी इस बात पर बीजेपी प्रवक्ता बीच में जवाब देने लगे जिसके बाद सीपीएम नेता भड़के लगे और बोले कि  बजट में मौका था तब बताया नहीं, अब पोटली बाबा बनके पोटला मत दिखाओ।

Next Stories
1 भारत-पाक तनाव के बावजूद तय समय पर खुलेगा करतारपुर कॉरिडोर, पाक पीएम की तरफ से आया अच्छा संदेश
2 VIDEO: इन्स्पेक्टर के मर्डर का आरोपी जमानत पर छूटा तो लोगों ने पहनाए फूल-माला, भारत माता की जय और जय श्रीराम के जयघोष
3 एम्बुलेंस से 3 घंटे ढूंढा, नहीं मिली तो फ्लाइट से दिल्ली आकर खरीदी दवा, कश्मीरी ने बताई पीड़ा- 30 साल में पहली बार ऐसा संकट
ये पढ़ा क्या?
X