बिहार की धरती पर रोजगार की बात उठाना आश्चर्यजनक, डिबेट में बोले भाजपा प्रवक्ता तो गौरव वल्लभ ने यूं दिया जवाब

आजतक के डिबेट शो ‘हल्ला बोल’ में भाजपा और कांग्रेस प्रवक्ता इन्हीं मुद्दों पर आपस में भिड़ गए। दोनों नेताओं ने एक दूसरे के शासनकाल में बिहार की जनता के लिए रोजगार सृजन ना करने का आरोप लगाया।

TV Debate Bihar Elections 2020
भाजपा प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी और कांग्रेस नेता गौरव वल्लभ। (वीडियो स्क्रीनशॉट)

बिहार विधानसभा चुनाव में रोजगार का मुद्दा गर्माया हुआ है। आरजेडी नेता तेजस्वी यादव चुनाव प्रचार में लगातार दोहरा रहे हैं कि महागठबंधन की सरकार बनने पर उनकी कैबिनेट में पहली कलम दस लाख सरकारी नौकरी देने पर चलेगी। इधर एनडीए में सहयोगी दल भाजपा ने 19 लाख रोजगार सृजन करने की घोषणा की हैं। राज्य में चुनावी सभाओं में रोजगार के मुद्दे पर दोनों पार्टियां एक-दूसरे पर हमलावर हैं।

आजतक के डिबेट शो ‘हल्ला बोल’ में भाजपा और कांग्रेस प्रवक्ता इन्हीं मुद्दों पर आपस में भिड़ गए। दोनों नेताओं ने एक दूसरे के शासनकाल में बिहार की जनता के लिए रोजगार सृजन ना करने का आरोप लगाया। डिबेट में भाजपा नेता सुधांशु त्रिवेदी ने कांग्रेस के गौरव वल्लभ पर निशाना साधते हुए कहा कि वो बिहार चुनाव में रोजगार की बात ना ही करें। उन्होंने कहा, ‘यूपीए-1 में सिर्फ 27 लाख रोजगारों का सृजन हुआ। मगर 1999 से 2004 के बीच देश में छह करोड़ रोजगार का सृजन हुआ। इसलिए बिहार में रोजागर की बात… 15 साल लालू के साथ सरकार चलाई कितने रोजगार पैदा किए। सारा रोजगार खत्म कर दिए।’

Bihar Election 2020 LIVE Updates

उन्होंने कहा आज आप (कांग्रेस) रोजगार की बात करते हैं, वो भी बिहार में…चुनाव के समय। बिहार के धरती पर रोजगार की बात उठाना…बहुत ही आश्चर्यजनक लगता है। झांसा दिया जा रहा है। बिहार में सत्तर साल में तीन लाख सरकारी नौकरियां हैं। अब कह रहे हैं कि दस लाख नौकरियां देंगे।

भाजपा प्रवक्ता के सवालों पर गौरव वल्लभ ने कहा कि अच्छी बात ये है कि भाजपा नेता पहली बार रोजगार पर बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘रोजगार की बात करनी पड़ गई। बिहार में दस लाख रोजगार की पूरी व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि दस लाख सरकारी नौकरी के लिए 58 हजार करोड़ रुपए चाहिए।’

उन्होंने कहा कि 2010-11 से 2015-16 के बीच शिक्षा के अधिकार के तहत बिहार सरकार को केंद्र से 26.5 हजार करोड़ रुपए मिले। मगर मौजूदा सरकार ने इस राशि को लौटा दिया। इसका नीतीश सरकार ने इसका इस्तेमाल ही नहीं किया। महागठबंधन सरकार में ये राशि लौटाई नहीं जाएगी।

कांग्रेस प्रवक्ता ने तंज कसते हुए आगे कहा कि उद्घाटन से पहले हमारे पुल नहीं गिरेंगे। हमारी सरकार में घोटाले नहीं होंगे। हमारी सरकार की पहली कैबिनेट दस लाख सरकारी नौकरी दी जाएगी। ये 2 करोड़ रोजगार, 15 लाख रुपए, 10 स्मार्ट सिटी के वादे जैसा नहीं होगा।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट