ताज़ा खबर
 

VIDEO: एंकर ने BJP मंत्री से पूछा- ज्यादा बच्चे न पैदा करने का नियम नेताओं पर लागू होगा? मिला ये जवाब

इस फैसले की देशभर में चर्चा है। कोई इस फैसले को सही तो कोई गलत बता रहा है। वहीं कुछ लोग मिलीजुली प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इस मुद्दे पर न्यूज चैनल के लाइव डिबेट कार्यक्रम में बीजेपी मंत्री हेमंत बिस्वा और एंकर के बीच जमकर वाद-विवाद हुआ।

Author नई दिल्ली | Updated: October 23, 2019 10:05 PM
बीजेपी मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा और एंकर अंजना ओम कश्यप। फोटो: इंडियन एक्सप्रेस/ VideoGrab

असम की बीजेपी सरकार ने जनसंख्या को नियंत्रण करने के लिए बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने तय किया है कि दो से ज्यादा बच्चे पैदा करने वालों को सरकारी नौकरी नहीं दी जाएगी। इस फैसले को बीजेपी एतिहासिक बता रही तो वहीं विपक्ष का कहना है कि इस तरह के फैसलों से पहले विपक्ष से भी सलाह मशविरा कर लेना चाहिए। यह नियम जनवरी 2021 से लागू होगा। कैबिनेट ने इस पॉलिसी को मंजूरी दे दी है। वहीं मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवॉल के ऑफिस की ओर से फैसले के संबंध में ट्विट कर जानकारी दे दी गई है।

इस फैसले की देशभर में चर्चा है। कोई इसे सही तो कोई गलत बता रहा है। वहीं कुछ लोग मिली-जुली प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इस मुद्दे पर आज तक न्यूज चैनल के लाइव डिबेट कार्यक्रम ‘हल्ला बोल’ में बीजेपी मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा और एंकर अंजना ओम कश्यप के बीच जमकर वाद-विवाद हुआ। इस दौरान एंकर ने मंत्री से पूछ लिया कि क्या यह नियम सिर्फ सरकारी कर्मचारियों और आम नागरिकों पर ही लागू होगा या नेताओं पर भी? तो हेमंत बिस्वा शर्मा ने इस पर सफाई दी।

दरअसल हेमंत बिस्वा इस नियम से जुड़े तमाम पहलूओं को डिबेट के दौरान एंकर के सामने रख रहे थे। उन्होंने बताया कि यह नियम 1 जनवरी 2021 से लागू होगा। जो भी शख्स 2 से ज्यादा बच्चे पैदा करेगा वह सरकारी नौकरी के लिए पात्र नहीं होगा। इसके अलावा उन्होंने बताया कि किसी के दो बच्चे जुड़वा पैदा होते हैं तो उन्हें दो बच्चे के रूप में ही गिना जाएगा न कि एक। इस दौरान तमाम पहलूओं के गिनाते बीजेपी मंत्री को बीच में टोकते हुए एंकर ने एकाएक सवाल किया किया कि सर ये भी बता दीजिए कि ये नियम नेताओं और मंत्रियों पर लागू होगा या नहीं?

एंकर के इस सवाल पर हेमंत बिस्वा ने तुरंत जवाब दिया। उन्होंने कहा ‘हम पंचायत बॉडी और अर्बन लोकल बॉडी में यह कर चुके हैं। नेताओं को इसके दायरे में लाने के लिए असम विधानसभा में भी इसे पास किया जा चुका है और संसद में इसे भेजा गया और कहा गया है कि यह नियम सांसद और विधायकों पर भी लागू हो।’

बीजेपी नेता के इस जवाब पर एंकर कहती हैं ‘सर इसे सीरियसली फॉलो कीजिएगा। क्योंकि सारा रोल मॉडल बनने की जिम्मेदारी सिर्फ सरकारी कर्मचारियों पर ही नहीं बल्कि नेताओं पर भी होनी चाहिए। मेरा मानना है कि नेताओं, विधायकों सांसदों और सभी मंत्रियों के लिए भी यही नियम होना चाहिए। देखिए डिबेट में आगे क्या हुआ:-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 टीवी एंकर पर भड़की बीजेपी प्रवक्ता, बोलीं- जब आप ही को बोलना है तो मुझे क्यों बुलाया है…
2 पूर्व CM हरीश रावत के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस, BJP के मंत्री का भी नाम; MLA की खरीद फरोख्त से जुड़ा है मामला
3 कौन हैं सुभाष चोपड़ा, जो बनाए गए दिल्ली कांग्रेस चीफ? कीर्ति आजाद को मिली यह जिम्मेदारी