ताज़ा खबर
 

‘देश अभी पूरा आजाद नहीं हुआ है’, टीवी डिबेट में बोले मुस्लिम नेता, बिफर पड़े एंकर, बोले- अब क्या चाहिए?

शाहीन बाग के सवाल पर तस्लीम ए रहमानी ने कहा कि शाहीन बाग को बीजेपी और आम आदमी पार्टी दोनों ने मुद्दा बनाया है।

तस्लीम ए रहमानी पर टीवी एंकर बिफर गए। (फोटो-सोशल मीडिया)

शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर 50 दिन से ज्यादा समय से विरोध प्रदर्शन जारी है। टीवी चैनल्स पर भी इसके पक्ष-विपक्ष में भी सवाल जवाब किए जा रहे हैं।

इसी कड़ी में एक टीवी चैनल में बहस के दौरान मुस्लिम नेता तस्लीम ए रहमानी ने कहा कि देश अभी पूरी तरह से आजाद नहीं हुआ है। उनके इस बयान पर टीवी एंकर बिफर उठे और बोले अब कैसे आजादी चहिए?

शाहीन बाग के सवाल पर तस्लीम ए रहमानी ने कहा कि शाहीन बाग को बीजेपी और आम आदमी पार्टी दोनों ने मुद्दा बनाया है। एक ने सत्ता विरोधी लहर से खुद को बचाने के लिए ऐसा किया है तो दूसरे ध्रुवीकरण के लिए ऐसा किया है। आम आदमी पार्टी को लगता है कि बीजेपी की पोलराइज कर रही है। बीजेपी को लगता है कि आम आदमी पार्टी पोलराइज कर रही है। पहली बंदूक लहराने का काम आम आदमी पार्टी ने किया। फायरिंग में एक बार बीजेपी का आदमी था दूसरी बार आम आदमी पार्टी का आदमी था।

इस बात पर उनसे सवाल किया गया तो तस्लीम ने कहा की उन्हें सब मालूम हैं और वह वहीं रहते हैं। एक-एक आदमी को जानता हूं मैं। इसपर एंकर ने चुटकी लेते हुए कहा कि तो फिर बता दीजिए आयोजक कौन है। इसको लेकर भी सवाल उठते रहे हैं। तस्लीम ने कहा कि शाहीन बाग का नाम इंकलाब बाग भी हो सकता है, आजाद भारत बाग भी हो सकता है। इस बात पर एंकर ने पूछा क्यों भारत तो आजाद है अब भारत आजाद कैसे होगा? अब जब चाहे टीवी पर बैठकर बोलते हैं, आप जब चाहे रैली करते हैं और आप फिर भी कहते हैं कि आजादी नहीं है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 वोटिंग से ठीक पहले केजरीवाल की तारीफ में शिवसेना ने पढ़े कसीदे- ‘5 साल में पूरे किए वादे, हिंदू-मुस्लिम छोड़ मोदी, शाह करें उनका सम्मान’
2 हिन्दू संगठनों ने चेताया तो कॉलेज ने आननफानन में रद्द कर दिया गांधी जी के पड़पोते का लेक्चर
3 वोटिंग के बाद एक साल तक रखनी होती है VVPAT पर्ची, EC ने 4 महीने में ही करवा दिया नष्ट, उठ रहे सवाल- आखिर इतनी हड़बड़ी क्यों?