ताज़ा खबर
 

पेट्रोल कीमतों पर सवाल तो कोरोना संकट पर बोलने लगे भाजपा प्रवक्ता, गौरव वल्लभ ने बताए आंकड़े

कांग्रेस ने पेट्रोल एवं डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर आरोप लगाया कि केंद्र सरकार संकट के समय लोगों को राहत देने की बजाय पेट्रोलियम उत्पादों के दाम बढ़ाकर जनता की ‘जेब काट रही है।’

पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। (एक्सप्रेस फोटो)।

आज तक पर डिबेट के दौरान एंकर चित्रा त्रिपाठी ने बीजेपी प्रवक्ता जफर इस्लाम से पूछा कि देश के कई राज्यों में पेट्रोल की कीमतें 100 रुपए से ऊपर चली गई हैं। लोग महंगे पेट्रोल के लिए नए नए मुहावरे गढ़ रहे हैं। इसका जवाब देते हुए बीजेपी नेता ने कहा कि कई सदियों में जाकर कोरोना जैसी महामारी आती है। बीजेपी प्रवक्ता कहने लगे कि एक ऐसे वक्त में जब देश में आर्थिक गतिविधि के नाम पर कुछ भी नहीं हो रहा है। ऐसे में सरकार ने देश के गरीब लोगों के लिए खजाने खोल दिए। बीजेपी नेता कहने लगे कि हमें पेट्रोल बाहर से आयात करना पड़ता है इसलिए ईंधन की कीमत इतनी ज्यादा हो गई हैं।

डिबेट में एंकर कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ से पूछने लगीं कि महामारी के समय में सरकार ईंधन पर टैक्स लगाकर न कमाये तो कहां से कमाये। कांग्रेस नेता कहने लगे कि पिछले साल मार्च से पहले भी पेट्रोल की कीमतें ज्यादा ही थीं। मोदी सरकार ने इस साल चुनाव के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने के बाद भी कीमतें घटाईं जिससे कि सियासी मुनाफा हो सके। केंद्र ने ईंधन पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाने का काम किया है।

इससे पहले कांग्रेस ने पेट्रोल एवं डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर आरोप लगाया कि केंद्र सरकार संकट के समय लोगों को राहत देने की बजाय पेट्रोलियम उत्पादों के दाम बढ़ाकर जनता की ‘जेब काट रही है।’ पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि इस सरकार के कार्यकाल में विकास का यह हाल है कि जिस दिन पेट्रोलियम उत्पादों के दाम नहीं बढ़ते हैं तो ज्यादा बड़ी खबर बन जाती है।


उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मोदी सरकार के विकास का ये हाल है कि अगर किसी दिन पेट्रोल-डीज़ल के दाम ना बढ़ें तो ज़्यादा बड़ी ख़बर बन जाती है!’’ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने ट्वीट कर आरोप लगाया, ‘‘कोरोना संकट के बीच जनता को आशा थी कि सरकार उन्हें राहत देगी, लेकिन सरकार उनके लिए “आहत योजना” लेकर आई है। 2021 में 52 बार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ चुके हैं। सरसों का तेल, रिफाइंड, अरहर, मूंग दाल व चीनी के दामों में आग लगी हुई है। जनता अपना पेट काट रही है, मोदी सरकार जेब काट रही है।’’

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया, ‘‘सत्ता के अहंकार में मदमस्त “भारतीय जनलूट पार्टी” सरकार ने पेट्रोल और डीजल को आज 27 पैसे व 28 पैसे महंगा कर दिया है। 12 राज्यों में पेट्रोल 100 रुपये के पार हो गया है। 4 मई, 2020 के बाद पिछले 13 महीनों में पेट्रोल 27.34 रुपये और डीजल 25.40 रुपये महंगा हो गया है।’’

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘कोरोना महामारी-महंगाई-मोदी सरकार, तीनों देश के लिए हानिकारक हैं। देशवासियों में मचे हाहाकार के बावजूद पेट्रोल-डीज़ल के दामों में लगातार बढ़ोतरी जनता की जेब पर सीधा डाका है।’’

Next Stories
1 पीएम मोदी के क़रीबी रहे पूर्व IAS अधिकारी को यूपी बीजेपी में बड़ी जिम्मेदारी
2 राकेश टिकैत बोले, उत्तर प्रदेश में इनको निपटाएंगे, ये नहीं तो 2024 में दूसरी सरकार वापस लेगी कानून
3 7th Pay Commission: सरकार का न्यूनतम वेतन तय करने में देरी का कोई इरादा नहीं : श्रम मंत्रालय
ये पढ़ा क्या?
X