ताज़ा खबर
 

2024 में आते ही तीनों कृषि बिल वापस लेंगे, डिबेट में बोले गौरव वल्लभ तो हंसने लगे पैनलिस्ट

हरियाणा में सीएम खट्टर के महापंचायत से पहले हुए बवाल का जिक्र करते हुए गौरव वल्लभ ने कहा कि 'हरियाणा में सरकार आपकी, केंद्र में सरकार आपकी, तो करो ना कानूनी कार्रवाई।

bjp, congress, farmers protestकांग्रेस नेता गौरव वल्लभ। फोटो सोर्स – फेसबुक, Prof. Gourav Vallabh

दिल्ली के विभिन्न बॉर्डरों पर किसानों का आंदोलन जारी है। हरियाणा में रविवार को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के किसान महापंचायत कार्यक्रम से पहले बड़ा बवाल हो गया। हंगामे और तोड़फोड़ की वजह से सीएम का कार्यक्रम भी रद्द हो गया। इस विषय पर ‘आज तक’ पर चल रहे एक डिबेट शो में कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने कहा कि 2024 में आते ही तीनों कृषि बिल वापस लेंगे। गौरव वल्लभ ने शो में मौजूद एक पैनलिस्ट के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि देश के अन्नदाता अभी ही इन्हें हटाएंगे और अगर आपने नहीं हटवाए तो 2024 में हम पहला काम इस काले कानून को हटाने का करेंगे। हालांकि गौरव वल्लभ की यह बात सुन कर पैनल में मौजूद भाजपा के प्रवक्ता जवाहर यादव हंसने लगे।

इसके बाद गौरव वल्ल्भ ने शो में मौजूद भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता से कहा कि ’64 करोड़ किसान पिछले 46 दिन से रो रहे हैं। लाखों किसान बैठे हैं, 60 से ज्यादा किसानों ने शहादत दे दी पर बीजेपी के किसी भी नेता ने संवेदना तक व्यक्त नहीं की। इन्होंने कहा कि हम पंचायत कर रहे हैं लेकिन यहां पर कोई किसान अगर इन काले कानूनों का विरोध कर रहा है तो उन्हें इस पंचायत में जाने से क्यों रोका जा रहा है…इसको पंचायत नहीं कहा जा सकता है?

हरियाणा में सीएम खट्टर के महापंचायत से पहले हुए बवाल का जिक्र करते हुए गौरव वल्लभ ने कहा कि ‘हरियाणा में सरकार आपकी, केंद्र में सरकार आपकी, तो करो ना कानूनी कार्रवाई। इतिहास में मैंने पहला ऐसा सीएम देखा है जो अपने दूसरे कार्यकाल के कुछ ही वर्षों बाद अपने ही विधानसभा क्षेत्र में नहीं जा पा रहे हैं। इसलिए अपने घमंड और अहंकार को त्याग दीजिए और इन तीन काले कानूनों को वापस लीजिए और किसानों को एमएसपी की लीगल गांरटी दीजिए।’

गौरव वल्ल्भ ने कहा कि ‘सरकार ने कानून बनाया, किसानों ने सरकार को जिताया तो फिर किसान सुप्रीम कोर्ट क्यों जाएं? कानून आप बनाते हैं बिना वोटिंग के किसानों पर यह बिल थोप देते हैं और किसानों को कहते हैं सुप्रीम कोर्ट चले जाओ।’

आपको बता दें कि रविवार (10-01-2020) को दोपहर हरियाणा में सीएम के कार्यक्रम से पहले प्रदर्शनकारियों ने रैली के लिए बना मंच तोड़ दिया। इसके बाद पुलिस ने किसानों को रोका तो दोनों के बीच कहासुनी हुई और थोड़ी ही देर में इसने झड़प का रुख ले लिया। उग्र किसानों को रोकने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले दागने पड़े और वाटर कैनन का इस्तेमाल भी करना पड़ा।

Next Stories
1 बिहार: बिजनेसमैन भी हैं JDU के नए प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा, महनार सीट गंवाने वाले को प्रदेश की कमान सौंप लव-कुश समीकरण को साधने की कोशिश
2 लद्दाख: भारत की सीमा में घूम रहा था चाईनीज सैनिक, इंडियन आर्मी ने दबोचा
ये पढ़ा क्या?
X