ताज़ा खबर
 

हिन्दी विरोध में मर्यादा भूले पैनलिस्ट, बीजेपी प्रवक्ता से बोले- बच्चे पैदा कम करो, इनकम बढ़ा लो, एंकर ने की तारीफ

न्यूज चैनल के लाइव डिबेट कार्यक्रम में हिन्दी को लेकर बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया और टीएमसी के समर्थन वाले राजनीतिक विश्लेषक गार्गा चटर्जी के बीच तीखी बहस हुई।

Author नई दिल्ली | Updated: September 14, 2019 9:25 PM
बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया, एंकर चित्रा त्रिपाठी और गार्गा चटर्जी। फोटो: PTI/VideoGrab

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को हिन्दी दिवस के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी और कहा कि हिन्दी देश को एकता की डोर में बांधने का काम कर सकती है। शाह ने कहा कि सर्वाधिक बोली जाने वाली हिन्दी देश को एकता की डोर में बांध सकती है।

उनके इस बयान के बाद विपक्ष ने उन्हें जमकर घेरा। डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन ने कहा कि हिन्दी से देश की एकता भंग होगी इसलिए गृहमंत्री अपना बयान वापस लें। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को कहा कि लोगों को सभी भाषाओं और संस्कृतियों का सम्मान करना चाहिए लेकिन अपनी मातृभाषा की कीमत पर नहीं।

क्या हिन्दी देश को एकता की डोर में बांधने का काम कर सकती है? गैर-हिन्दी भाषी राज्यों को मातृभाषा परहेज क्यों? इन सवालों के जवाब जानने के लिए आज न्यूज चैनल के लाइव डिबेट कार्यक्रम ‘हल्ला बोल’ में बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया और टीएमसी के समर्थन वाले राजनीतिक विश्लेषक गार्गा चटर्जी के बीच तीखी बहस हुई। इस दौरान गार्गा चटर्जी ने बीजेपी प्रवक्ता से कहा कि बच्चे पैदा कम करो और इनकम बढ़ा लो। उनके इतना कहते ही शो की एंकर चित्रा त्रिपाठी ने उनकी तारीफ की।

दरअसल डिबेट के दौरान चित्रा गार्गा से पूछतीं हैं ‘महात्मा गांधी ने हिंदी साहित्य सम्मेलन 1918 में हिन्दी को राष्ट्र भाषा बनाए जाने पर जोर दिया था। फिर आप लोगों को इस भाषा से इतनी ज्यादा दिक्कत क्यों है?’ एंकर का सवाल सुनने के बाद वह कहते हैं ‘हमें हिन्दी या फिर किसी और भाषा से क्यों दिक्कत होगी। ये तो एक वर्णमाला है। समस्या तब होती है जब हिन्दी दिवस उस दिन मनाया जाता है जब जिस दिन गैर-हिंदी भाषा दूसरे दर्ज का घोषित कर दिया गया।’

इसके बाद एंकर गार्गा चटर्जी से बंगाल को लेकर सवाल करते हुए कहती हैं ‘देशभर में 44 फीसदी की आबादी हिन्दी बोलती है। बंगाली 8 फीसदी, मराठी 7 फीसदी और तेलगू भाषी साढ़े छह फीसदी हैं। अगर हिन्दी का विस्तार हो रहा है तो आप लोगों को इतनी दिक्कत क्यों है?

इस पर गार्गा कहते हैं ‘हमें दिकक्त इसलिए है क्योंकि ये हमारे पैसे से किया जा रहा है। हिन्दी को बढ़ावा देने के लिए तमाम कार्यक्रमों का आयोजन हमारे पैसों से किया जा रहा है।’ गार्गा के इतना कहते ही बीजेपी प्रवक्ता बीच में कूद पड़ते हैं और कहते हैं ‘पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा है कि ‘जय श्री राम’ बोलने वाले की चमड़ी उधेड़ देंगे। ये चमड़ी उधेड़ने वाले लोग हैं। आप लोगों को हिन्दूओं, हिन्दी, हिन्दुस्तान से नफरत है।’

बीजेपी प्रवक्ता के तर्क और हिन्दी के विरोध में मर्यादा भूलकर पर गार्गा कहते हैं ‘मुझे कोई नफरत नहीं है। आप लोग बच्चे पैदा कम करो और इनकम बढ़ा लो। आपने 44 फीसदी का आंकड़ा बच्चे पैदा करके हासिल किया है।’ इसके बाद एंकर बीच में ही गार्गा को टोकते हुए कहती हैं ‘आप हिन्दी का विरोध भले ही कितना करें लेकिन अच्छी चीज यह है कि आपकी हिन्दी भाषा बहुत अच्छी है। इसकी तारीफ
की जानी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नीति आयोग और वित्त मंत्रालय की सलाह दरकिनार कर बनाए गए 106 राष्ट्रीय जलमार्ग, RTI में खुलासा
2 डिबेट में कांग्रेस नेता ने बीजेपी प्रवक्ता की कर दी बोलती बंद, पूछा- 5 ट्रिलियन में कितने जीरो होते हैं, पता है?
3 टोल टैक्स पर हुआ विवाद तो दो राहगीरों ने सुरक्षाकर्मी के सिर पर दे मारा, सीसीटीवी वीडियो वायरल
जस्‍ट नाउ
X