ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र पर बीजेपी का वार- खुद को बचाने के लिए सरकार ने लिया फैसला, एंकर का तंज- देश में लॉकडाउन हुआ तो किसे बचा रहे थे?

बीजेपी नेता कहने लगे कि महाराष्ट्र सरकार ने जो फैसला लिया है वह खुद को बचाने के लिए लिया है। एंकर ने पूछा कि जब आप लोगों ने लॉकडाउन किया था तो खुद को बचाने के लिए किया था या लोगों को बचाने के लिए किया था।

महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर राज्य में रात 8 से 7 बजे के बीच रात्रि कर्फ्यू लगाया है। (फोटो – एएनआई)

आज तक पर डिबेट के दौरान एंकर रोहित सरदाना ने बीजेपी प्रवक्ता से पूछा कि महाराष्ट्र सरकार ने जो फैसला किया है वो ठीक है क्या? बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार ने जो फैसला किया है उसका नतीजा महाराष्ट्र सरकार को ही भुगतना पड़ेगा। बीजेपी नेता ने कहा कि इससे महाराष्ट्र के लोगों को नुकसान होगा। एंकर ने टोकते हुए कहा कि नुकसान तो लोगों को तब भी हुआ जब देश में लॉकडाउन हुआ था?

बीजेपी नेता कहने लगे कि महाराष्ट्र सरकार ने जो फैसला लिया है वह खुद को बचाने के लिए लिया है। एंकर ने पूछा कि जब आप लोगों ने लॉकडाउन किया था तो खुद को बचाने के लिए किया था या लोगों को बचाने के लिए किया था। बता दें कि कोरोना की नई लहर ने अब पूरे देश को जकड़ लिया है। हर बीतते दिन के साथ हालात बिगड़ते जा रहे हैं। यूपी के मौजूदा सीएम योगी आदित्यनाथ और सपा नेता अखिलेश यादव कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इस बीच सीबीएसई की 10वीं की परीक्षा रद्द करने और 12 वीं की परीक्षा टालने का फैसला लिया गया है। महाराष्ट्र में भी सख्त पाबंदियां लागू कर दी गई हैं।

कर्फ्यू लगाने के साथ, बीएमसी ने साफ किया है कि आवश्यक सेवाएं बुधवार रात से लगाए गए प्रतिबंधों से मुक्त रहेंगी। धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश 1 मई तक लगाए गए हैं, और किसी भी व्यक्ति को बिना वैध कारण के सार्वजनिक स्थान पर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

बुधवार को एक बैठक में, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जिला कलेक्टरों से प्रतिबंधों को सख्ती से लागू करने और नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा।

कर्फ्यू लागू करने के लिए महाराष्ट्र की सड़कों पर कुल 2 लाख पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे। मुंबई और पुणे के लिए तीन कंपनियों सहित राज्य रिजर्व पुलिस बल के 13,200 होमगार्ड और 22 कंपनियों का एक अतिरिक्त बल आवश्यकता के अनुसार तैनात किया जाएगा।

आवश्यक सेवाओं को छोड़कर, सभी प्रतिष्ठान, सार्वजनिक स्थान, गतिविधियां और सेवाएं बंद रहेंगी। जो कि वर्किंग डे के दौरान सुबह 7 से रात 8 बजे के बीच खुले रहेंगे।

फिल्मों, धारावाहिकों और विज्ञापनों की शूटिंग बंद रहेगी। विवाह के लिए केवल 25 लोगों को अनुमति होगी। सार्वजनिक परिवहन, जिसमें ट्रेन और बस सेवाएं शामिल हैं, और किराने का सामान, सब्जी की दुकानें, फल विक्रेता, डेयरियां, बेकरी, कन्फेक्शनरी, सभी प्रकार के खाद्य आउटलेट और सार्वजनिक उपयोगिताओं जैसी आवश्यक सेवाएं खुली रहेंगी।

Next Stories
1 कोरोना वैक्सीन की कमी पर झारखंड के मंत्री का तंंज- हम भारत सरकार के सौतेले बेटे, प्यार में कमी तो रहेगी ही
2 राकेश टिकैत को जान से मारने की धमकी, कौशांबी पुलिस ने दर्ज किया केस
3 दिल में अब भी रहते हैं मोदी? ऐंकर ने पूछा तो प्रशांत किशोर बोले- हनुमान नहीं हूं कि सीना फाड़कर दिखा दूं
ये पढ़ा क्या?
X