ताज़ा खबर
 

डिबेट में संबित पात्रा बोले, पिछत्तीस हजार वैक्सिनेशन, हंसने लगे कांग्रेस के गौरव वल्लभ

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर आने के बाद वैक्सीनेशन के काम में भी तेजी आ गई है। देश के सभी राज्यों के चुने हुए निजी और सरकारी अस्पतालों में वैक्सीनेशन कराया जा रहा है।

घरेलू वैक्सीन विनिर्माताओं को सीधे निजी अस्पतालों को टीके उपलब्ध कराने का विकल्प दिया जाएगा। (फोटो- अमित चक्रवर्ती इंडियन एक्सप्रेस)

कोरोना वायरस के केसों और वैक्सीन को लेकर लगातार चर्चाएं हो रही हैं। सत्ता पक्ष का कहना है कि सरकार देश के सभी नागरिकों को जल्द से जल्द टीके लगवाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है, दूसरी तरफ विपक्ष का आरोप है कि सरकार राज्यों की गैरभाजपाई सरकारों के साथ भेदभाव कर रही है। इस मुद्दे को लेकर टीवी चैनलों में भी लगातार डिबेट चल रहा है। आजतक न्यूज चैनल के हल्ला बोल कार्यक्रम में बीजेपी और कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ताओं के बीच इस पर बहस हुई है।

एंकर अंजना ओमकश्यप के साथ डिबेट के दौरान कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता गौरव वल्लभ के भेदभाव का जवाब देते हुए भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने बोलना शुरू किया तो उनके मुंह से गलती से 84 की जगह पिछत्तीस शब्द निकल गया। इस पर कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ हंसने लगे। संबित पात्रा ने कहा कि “मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि जब पूरे देश में लाखों लोगों का वैक्सीनेशन हो रहा था तो कांग्रेस शासित राज्य वो केवल पिछत्तीस हजार पर ही बैठे हैं। ओह सारी पिछत्तीस बोल दिया, 84 थाउजेंड, पिछत्तीस नहीं कैंसल, 84 थाउजेंड ही करके बैठे है, क्यों?”

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर आने के बाद वैक्सीनेशन के काम में भी तेजी आ गई है। देश के सभी राज्यों के चुने हुए निजी और सरकारी अस्पतालों में वैक्सीनेशन कराया जा रहा है। हालांकि इसके लिए भी काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। वैक्सीन की जितनी जरूरत है, देश में उतनी मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध नहीं हो पा रही है। इसके चलते काफी लोग अब भी वैक्सीन नहीं लगवा सके हैं। इस बीच कोरोना के नए स्वरूप के मिलने से चिंता और बढ़ गई है।

सरकार ने मंगलवार को बताया कि भारत में कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस स्वरूप के 22 मामलों का पता चला है जिनमें से 16 मामले महाराष्ट्र के हैं। बाकी मामले मध्य प्रदेश और केरल में सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भारत उन नौ देशों में से एक है जहां अब तक डेल्टा प्लस स्वरूप मिला है। उन्होंने रेखांकित किया कि इसे अभी तक “चिंताजनक स्वरूप’’ में वर्गीकृत नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि 80 देशों में डेल्टा स्वरूप का पता चला है।

कोरोना वायरस का डेल्टा प्लस स्वरूप भारत के अलावा, अमेरिका, ब्रिटेन, पुर्तगाल, स्विट्जरलैंड, जापान, पोलैंड, नेपाल, चीन और रूस में मिला है। डेल्टा प्लस स्वरूप के मामले महाराष्ट्र के रत्नागिरी और जलगांव तथा केरल और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में मिले हैं।

Next Stories
1 डेल्टा प्लस वेरिएंट बड़ी चुनौती, देश में 22 मामलों का पता चला; केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जताई चिंता
2 पाकिस्तान को खरी-खरी सुनाने लगीं रूबिका लियाक़त तो डिबेट छोड़ चले गए गुपकार के प्रवक्ता
3 लक्षद्वीप के प्रशासक को झटका, ‘मीट बैन’ पर केरल हाई कोर्ट ने लगा दी रोक
ये पढ़ा क्या?
X