ताज़ा खबर
 

SC की सुनवाई के दौरान बगैर शर्ट दिखा वकील, भड़क कर बोले जस्टिस- ये क्या है? अभी भी…

उच्चतम न्यायालय ने एक मामले की सुनवाई के दौरान वीडियो-कान्फ्रेंस लिंक पर एक व्यक्ति के कमीज पहने बिना नजर आने पर मंगलवार को नाराजगी जताई।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: December 2, 2020 11:09 AM
Supreme court, supreme court of india, online hearing, video conferencing, without shirt manभारत के सुप्रीम कोर्ट की तस्वीर। (पीटीआई)

देश में कोरोना संकट को देखते हुए देशभर की लगभग सभी अदालतें वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से मामलों की सुनवाई कर रही हैं। इस दौरान कई तरह के अजीबो-गरीब मामले देखने में आ रही हैं। कहीं कोई वकील सुनवाई के दौरान गुटखा चबाता नजर आ रहा है, तो कहीं कोई वकील सुनवाई के दौरान हुक्का के कस लगाता दिख रहा है। ऐसा ही कुछ नाराजा मंगलवार को उच्चतम न्यायालय में एक सुनवाई के दौरान देखने को मिला।

उच्चतम न्यायालय ने एक मामले की सुनवाई के दौरान वीडियो-कान्फ्रेंस लिंक पर एक व्यक्ति के कमीज पहने बिना नजर आने पर मंगलवार को नाराजगी जताई। न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की पीठ ने कहा, ‘‘वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए सुनवाई करते हुए सात से आठ महीने हो जाने के बावजूद इस प्रकार की चीजें हो रही हैं।’’ सुनवाई के दौरान स्क्रीन पर एक व्यक्ति के कमीज के बिना नजर आने पर पीठ ने कहा, ‘‘यह सही नहीं है।’’

न्यायालय में वीडियो-कान्फ्रेंस के जरिए सुनवाई के दौरान इस प्रकार की अप्रिय घटना पहली बार नहीं हुई है। कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण न्यायालय वीडियो-कान्फ्रेंस के जरिए मामलों की सुनवाई कर रहा है। इसी प्रकार की घटना 26 अक्टूबर को हुई थी, जब न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली पीठ के सामने एक वकील बिना कमीज पहने दिखाई दिया था। न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने कहा था, ‘‘मुझे किसी पर सख्ती बरतना अच्छा नहीं लगता, लेकिन आप स्क्रीन पर हैं। आपको ध्यान रखना चाहिए।’’

न्यायालय में जून में डिजिटल सुनवाई के दौरान एक वकील बिस्तर पर लेटे हुए और टी-शर्ट पहनकर पेश हुआ, जिस पर न्यायाधीश ने नाराजगी जताते हुए कहा था कि सुनवाई की जन प्रकृति को ध्यान में रखते हुए ‘‘अदालत के न्यूनतम शिष्टाचार’’ का पालन किया जाए। उच्चतम न्यायालय ने कहा कि वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए मुकदमों में भाग ले रहे वकील ‘‘पेश होने योग्य’’ नजर आने चाहिए और ऐसी तस्वीरें दिखाने से बचना चाहिए जो उपयुक्त नहीं हैं।

इस साल अप्रैल में भी ऐसी ही घटना सामने आई थी जब वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए हुई सुनवाई में एक वकील बनियान पहनकर पेश हुआ था जिस पर राजस्थान उच्च न्यायालय ने नाराजगी जताई थी। वहीं अगस्त के महीने में राजस्थान हाई कोर्ट की जयपुर बेंच के सामने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से हो रही सुनवाई में वरिष्ठ वकील राजीव धवन हुक्का पीते नजर आए थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 किसानों के प्रदर्शन में गई एक और अन्नदाता की जान, फोटो शेयर कर बोले AAP के संजय सिंह- “मर रहा है किसान, कहां छुपा है प्रधान”
2 75 लाख का पहला इनाम लगा इस लॉटरी नंबर को
3 भारत में COVID-19 केस हुए 94.62 लाख, नवंबर में मामलों में 30% कमी; पर ढाई माह में आए 44 लाख केस
यह पढ़ा क्या?
X