ताज़ा खबर
 

युवा शक्ति: स्वतंत्र रूप से काम कर सपने पूरे करिए

अब एक समय में व्यक्ति कई कंपनियों, फर्मों या संस्थानों के लिए स्वतंत्र रूप से काम कर सकता है। उदाहरण के लिए यदि आप किसी फर्म में कानूनी सलाहकार हैं या किसी संस्थान के उत्पादों की मार्केटिंग कर रहे हैं और वहां से आपको हटा दिया जाता है तो इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है। आपका ज्ञान और रणनीति अब केवल आपकी है, किसी संस्थान के नियमों और शर्तों की नहीं।

Author Published on: July 16, 2020 2:49 AM
कोरोना काल में अब नई कार्यसंस्कृति विकसित हो रही है। इसमें कामकाज अब संस्थागत कम व्यक्तिगत ज्यादा हो गया है।

कोरोना जनित इस समय के दौरान कार्यों के निष्पादन के तरीकों में भारी बदलाव देखने को मिल रहा है। विनिर्माण क्षेत्र को छोड़ दिया जाए तो अधिकतर क्षेत्रों में घर से कार्य की एक संस्कृति विकसित हो रही है। कोरोना महामारी का विपरीत असर देशों की अर्थव्यवस्था के साथ कंपनियों की माली हालत पर भी पड़ा है। ऐसे में कुछ नियोक्ता अपने कर्मचारियों, खासतौर से जो उच्च वेतन पर काम कर रहे थे, को नौकरी से हटाकर अपने तथाकथित खर्चों को नियंत्रित करने के प्रयास में संलग्न दिखे।

ऐसे में कर्मचारियों के बीच नौकरी को लेकर एक ऊहापोह की स्थिति दिख रही है जिस पर अभी ना तो सरकार का ध्यान गया है और ना ही मीडिया इस पर चर्चा कर रहा है। लेकिन रोजगार को लेकर एक बड़ा परिवर्तन घटित हो रहा है। यह परिवर्तन करिअर का गैर-संस्थागत (फ्रीलांस) होने में दृष्टिगोचर हो रहा है।

गैर-संस्थागत करिअर क्या है
कार्य का संस्थागत स्वरूप धीरे धीरे व्यक्तिगत होता जा रहा है। इसका तात्पर्य है कि अब एक समय में व्यक्ति कई कंपनियों, फर्मों या संस्थानों के लिए स्वतंत्र रूप से काम कर सकता है। उदाहरण के लिए यदि आप किसी फर्म में कानूनी सलाहकार हैं या किसी संस्थान के उत्पादों की मार्केटिंग कर रहे हैं और वहां से आपको हटा दिया जाता है तो इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है। आपका ज्ञान और रणनीति अब केवल आपकी है, किसी संस्थान के नियमों और शर्तों की नहीं।

आप मार्केटिंग के व्यक्ति हैं, देखिए कि बाजार में इस समय किस उत्पाद की जरूरत है, उसका अध्ययन कर प्राप्त जानकारी को संस्थानों को अपनी शर्तों पर बेच सकते हैं। यदि आप कानून से जुड़े हैं तो एक सप्ताह में पारिवारिक सामाजिक विवादों का अध्ययन कर विवाद से संबंधित व्यक्ति से फर्म की बजाय सीधे संपर्क कर सकते हैं। आप यदि कोचिंग से जुड़े हैं तो विद्यार्थियों को आनलाइन सीधे पढ़ा सकते हैं। जो बड़ी-बड़ी संस्थाएं ई-कक्षाएं चला रहीं हैं उनमें अनावश्यक चीजें ज्यादा रहती हैं।

पूर्व में कोचिंग या ट्यूशन पढ़ा रहे थे तो आपके लिए विद्यार्थियों से सीधा संपर्क काफी अच्छा साबित हो सकता है। इसी तरह कौशल विकास से जुड़ी चीजों पर आनलाइन काम हो सकता है। यदि आप प्रशिक्षण तकनीकी क्षेत्र से जुड़े रहे हैं तो आप अपनी सूचनाओं और अनुभवों का प्रयोग करते हुए दूसरों को तकनीकी बारीकियां सिखाने और साझा करने का काम कर सकते हैं, संबंधित विशिष्ट क्षेत्रों में अपने पेशेवर कौशल और दक्षताओं के सहारे आप अपने करिअर को नई उड़ान दे सकते हैं।

कुछ आवश्यक बातें
व्यक्तिगत तौर पर करिअर की शुरुआत करने के लिए महत्त्वपूर्ण बात यह है कि जिस भी क्षेत्र में आप पहले काम कर रहे थे, वहां के आंकड़े जमा कीजिए और उनका विश्लेषण कीजिए कि उस क्षेत्र में वर्तमान में किन बिंदुओं पर काम हो किया जा सकता है। शुरुआत में कुछ दिक्कत आ सकती है, बाद में अनुभव बढ़ता जाएगा। आजकल सारी चीजें आनलाइन हैं, आप स्वयं की वेबसाइट बनाकर या सोशल मीडिया के सहारे अपनी सेवाओं के बारे में लोगों तक सूचना पहुंचा सकते हैं। याद रखिए अब आप स्वयं में ही निदेशक, कर्मचारी और चपरासी सब कुछ हैं। अत: आपको अपनी क्षमताओं और दृष्टिकोण में बदलाव की भी जरूरत होगी। सेवाओं का सटीक होना और समय पर की गई आपूर्ति आपको स्थापित कर देगी।

परिवर्तन को समझें
इस बात को हमेशा ध्यान रखें कि परिवर्तन का दौर हमेशा कुछ नई चुनौतियां और समस्याएं लेकर आता है पर साथ ही साथ उतनी ही मात्रा में नए अवसर भी लेकर आता है। आवश्यकता है, उन नए अवसरों को पहचानने और उन्हें गढ़ने की। ऐसे दौर में जबकि संस्थाएं अपने को सीमित कर रही हैं तो नवीन कार्यों और तरीकों को समझना प्रासंगिक हो जाता है। हो सकता है फील्ड वर्क आपके लिए उतना सहज नहीं हो जितना एक संस्थान में काम करते होता है क्योंकि संस्थान की अपनी एक प्रतिष्ठा और ब्रांडिंग होती है। लेकिन इस बात से बिना विचलित हुए पूरे विश्वास के साथ आप काम कीजिए।

कुछ दिनों में आपकी भी साख बननी शुरू हो जाएगी। समाज की जरूरतों और लोगों की खरीदारी क्षमता पर निगाह रखें। उनमें होने वाले परिवर्तनों को नोट करते रहें, आप देखेंगे कि परिवर्तन का एक चक्र होता है। इस चक्र को आप समझ गए तो फिर आपको ब्रांड बनने से कोई नहीं रोक सकता।

विफलताओं से घबराएं नहीं
धैर्य के साथ थोड़ी सी तकनीक का प्रयोग और विषय से संबंधित जानकारी, आपको इस दौर में काफी अच्छा अवसर प्रदान कर सकती है। प्रारंभिक समय में आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है, छोटी-मोटी विफलताएं भी मिल सकती हैं लेकिन अनुभव और जानकारी के सहारे आप इन समस्याओं से आसानी से पार पा सकते हैं। इस दौरान आपको धैर्य रखकर लगातार प्रयास करते रहना है। आउटसोर्सिंग और फ्रीलांसिंग करते हुए बिना किसी संस्था में नौकरी के, एक शानदार करिअर का निर्माण कर सकते हैं।

-डॉक्टर पवन विजय
(एसोसिएट प्रोफेसर, दिल्ली इंस्टीट्यूट आफ रूरल डेवलपमेंट, नई दिल्ली)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 16 जुलाई का इतिहास: 1856 में आज ही के दिन ऊंची जाति की हिंदू विधवाओं के पुनर्विवाह को कानूनी मान्यता मिली
2 चीन के साथ तनातनी के बीच भारतीय सेना को मिली स्पेशल पावर, 300 करोड़ रुपये तक के हथियार व गोलाबारूद खरीद सकेंगे
3 चीन से तनातनी के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शुक्रवार को लद्दाख का दौरा करेंगे, सेना प्रमुख भी होंगे साथ
ये पढ़ा क्या?
X