ताज़ा खबर
 

7th Pay Commission: कोरोना काल में स्पेशलिस्ट डॉक्टरों को लाखों रुपए देने पर सरकार तैयार, जानें- किन किन पदों पर है लोगों की मांग?

7th Pay Commission: सूरत में सरकार ने बड़ी संख्या में अस्पतालों में भर्ती निकाली है लेकिन ज्यादा लोग इंटरव्यू देने नहीं पहुंच रहे हैं।

covid hospital, doctorएक कोविड अस्पताल की तस्वीर। क्रेडिट- पीटीआई

7th Pay Commission (CPC) Latest News Today 2021 in Hindi: कोरोना महामारी के दौरान अस्पतालों में डॉक्टर और अन्य कर्माचारियों की कमी हो गई है। ऐसे में सरकार ने डॉक्टर और अन्य स्टाफ की बंपर भर्तियां निकाली हैं। सूरत में सिविल अस्पताल की तरफ से बताया गया कि मेडिकल ऑफिसर का वेतन सवा लाख रुपये और कंसल्टेंट डॉक्टर का वेतन ढाई लाख रुपये तय किया गया है। इनको तीन माह के लिए कॉन्ट्रैक्ट पर रखा जाएगा। बता दें कि महामारी की भयावहता को देखते हुए इन पदों पर भर्ती के लिए इंटरव्यू देने लोग नहीं आ रहे हैं।

अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक शनिवार को इंटरव्यू कराए गए। मेडिकल ऑफिसर की 80 जगहों के लिए मात्र 51 लोग ही पहुंचे। वहीं 20 स्पेशलिस्ट डॉक्टरों के लिए मात्र चार ही आए। 400 नर्सिंग स्टाफ की वैकेंसी निकाली गई थी लेकिन मात्र 10 नर्स इंटरव्यू देने आईं।

ग्रेड 4 के लिए 600 पदों पर भर्ती की जानी थी लेकिन इंटरव्यू देने मुश्किल से 500 लोग आए। स्पेशलिस्ट डॉक्टरों में फिजिशियन, एनेस्थीसिया, पल्मोनरी के डॉक्टरों को भर्ती किया जाना है।

7th Pay Commission: भारतीय सेना में इन्हें मिलेगी 7वें वेतन आयोग के मुताबिक 56900 रुपए महीने तक सैलरी

मोटी तनख्वाह देने को तैयार सरकार
सरकार डॉक्टरों को मोटी तनख्वाह देने को तैयार है बावजूद इसके लोग इंटरव्यू देने नहीं पहुंच रहे हैं। कंसल्टेंट डॉक्टर की तन्ख्वाह 2.5 लाख रुपये, मेडिकल ऑफिसर की 1.25 लाख रुपये, डेंटल डॉक्टर की 40 हजार रुपये, होम्योपैथ डॉक्टर की 35 हजार रुपये. आयुर्वेद डॉक्टर की 35 हजार रुपये, टेक्निशियन की 18 हजार रुपये और ग्रेड 4 के कर्मचारियों को 15 हजार रुपये की तनख्वाह देने का फैसला किया गया है।

रेजिडेंट डॉक्टरों ने इसे लेकर नाराजगी भी जताई है। उनका कहना है कि नए भर्ती किए जाने वाले मेडिकल ऑफिसर को सवा लाख रुपये का वेतन दिया जाएगा जबकि कई सालों से सेवा कर रहे और एमबीबीएस रेजिडेंट डॉक्टरों की तनख्वाह 70 से 75 हजार ही है। सिविल अस्पताल में करीब 400 रेजिडेंट डॉक्टर हैं। उनका कहना है कि सरकार उनके साथ भेदभाव कर रही है।

 

Next Stories
1 हर तरफ चिताएं जल रही हैं, जनता के बीच कैसे जाएंगे?- आरोप-प्रत्यारोप करने पर नेताओं से पूछने लगे एंकर; कहा- अपने साथियों को नहीं बचा पा रहे हैं
2 कोरोनाः शाहरुख खान ने KKR के स्पॉन्सर को लेकर किया ट्वीट, इतिहासकार हबीब बोले- आपका जन्मस्थान बंटवारे की हिंसा वाले दर्द के दौर से गुजर रहा
3 स्वास्थ्य सेवाएं दुरुस्त करने में जुटा केंद्र, PM Cares Fund से सरकारी अस्पतालों में होगा 551 ऑक्सीजन प्लांट्स का निर्माण, पूरे जिले की जरूरत होगी पूरी
आज का राशिफल
X