ताज़ा खबर
 

भारत में 61 फीसदी लोग दुखी और गुस्से में, कोरोना और लॉकडाउन से अवसाद में जा रहे लोगः सर्वे

देश में इस समय कोविड -19 महामारी जंगल की आग की तरह फैल रही है। ज्यादातर भारतीय देश में कोरोना से पैदा हुई स्थिति को लेकर चिंतित, उदास और गुस्से में हैं।

corona, lockdownकोरोना के चलते लोग अवसाद का शिकार हो रहे हैं। (पीटीआई)।

देश में इस समय कोविड -19 महामारी जंगल की आग की तरह फैल रही है। ज्यादातर भारतीय देश में कोरोना से पैदा हुई स्थिति को लेकर चिंतित, उदास और गुस्से में हैं। ये जानकारी एक सर्वे में सामने आई है। ऑक्सीजन और जरूरी दवाओं की कमी के बीच देश की स्वास्थ्य व्यवस्था की कमर टूट चुकी है। भारत इस समय एक अभूतपूर्व संकट का सामना कर रहा है। ये सर्वे ‘लोकल सर्कल्स’ द्वारा किया गया था जिससे यह पता लगाया जा सके कि महामारी के इस समय में लोगों की मानसिक स्थिति क्या है? साथ ही सर्वे का लक्ष्य ये जानना था कि स्थिति से निपटने के लिए सरकार के कामकाज की ओर लोगों का क्या नजरिया है?

61% भारतीय गुस्से या तनाव में हैं या उदास और दुखी हैं: भारत में कोविड -19 की दूसरी लहर ने देशव्यापी दहशत पैदा कर दी है क्योंकि रोज देशभर में कोरोना के 4 लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। सर्वे में कहा गया है कि अस्पतालों, दवाओं और ऑक्सीजन, बिस्तरों की कमी ने लोगों पर गंभीर मनोवैज्ञानिक प्रभाव डाला है। दो महीने की कोविड -19 महामारी की दूसरी लहर में लोगों के मन की स्थिति के बारे में पूछे जाने पर, लगभग 23 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि वे “चिंतित ” महसूस कर रहे हैं। आठ प्रतिशत ने कहा कि वे “उदास” हैं।

लगभग 20 प्रतिशत ने कहा कि वे “परेशान और गुस्से में ” हैं जबकि 10 प्रतिशत “बहुत ज्यादा गुस्से” में हैं, और केवल सात प्रतिशत “शांत ” थे। लगभग 28 प्रतिशत ने कहा कि वे “आशावादी ” हैं। पोल के नतीजों के मुताबिक 61 प्रतिशत भारतीय देशभर में कोविड -19 से गुस्सा, परेशानी, निराशा या चिंतित महसूस कर रहे हैं। लोकल सर्कल्स द्वारा किए गए सर्वे में 8,141 लोगों ने हिस्सा लिया।

भारत कोविड-19 संकट से कैसे निपट रहा है इसे लेकर लोगों की कोई आम राय नहीं है

सर्वे में दूसरा सवाल पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि स्थिति को संभालने के लिए भारत सही रास्ते पर है? लगभग 41 फीसदी लोगों ने कहा, “हां” जबकि 45 फीसदी नागरिकों ने कहा “नहीं”। 14 फीसदी का कोई विचार नहीं था। सर्वे में इस सवाल का कुल 8,367 लोगों ने जवाब दिया।

Next Stories
1 अधिकारियों को जेल में डालने से नहीं मिलेगी दिल्ली को ऑक्सीजन, बोला सुप्रीम कोर्ट
2 RT-PCR टेस्ट की जरूरत नहीं अगर…ICMR ने जारी कीं नई टेस्टिंग गाइडलाइंस
3 बंगालः 10 लोग मर गए और आप भाषण देने आए हैं? बोलीं एंकर, संबित पात्रा ने कहा- पाकिस्तान विभाजन जैसा माहौल
यह पढ़ा क्या?
X