ताज़ा खबर
 

राम रहीम के 6 चेले सुबूत के अभाव में छूटे, फैसले वाले दिन दंगा भड़काने में हुए थे गिरफ्तार

रिहा किए गए आरोपी पंचकूला के सेक्टर 4 में हैफेड चौराहे पर हिंसा भड़काने के मामले में आरोपी थी। आरोपियों पर दंगा भड़काने और पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने के मामले में धाराएं लगायी गईं थी।

पंचकूला हिंसा मामले के 6 आरोपी अदालत ने किए रिहा। (express photo)

हरियाणा सरकार को झटका देते हुए एक स्थानीय अदालत ने पंचकूला हिंसा मामले में आरोपी 6 लोगों को सबूतों के अभाव में रिहा कर दिया है। रिहा किए गए आरोपियों में ज्ञानीराम, संगा सिंह, होशियार सिंह, रवि, तरसेम और राम किशन के नाम शामिल हैं। ये सभी लोग पंचकूला में हिंसा भड़काने के मामले में आरोपी थे। बता दें कि बीत साल अगस्त में बलात्कार के मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद हरियाणा के पंचकूला में हिंसा भड़क उठी थी। इस हिंसा में 40 के करीब लोगों की मौत हो गई थी और बड़ी संख्या में लोग घायल हुए थे। मरने वाले लोगों में राम रहीम के समर्थक ही थे। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने बड़ी संख्या में पब्लिक प्रोपर्टी को हानि पहुंचायी थी।

बता दें कि रिहा किए गए आरोपी पंचकूला के सेक्टर 4 में हैफेड चौराहे पर हिंसा भड़काने के मामले में आरोपी थी। आरोपियों पर दंगा भड़काने और पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने के मामले में धाराएं लगायी गईं थी। उल्लेखनीय है कि इससे पहले बीते 1 मई 2018 को भी अदालत ने पंचकूला हिंसा में 6 अन्य आरोपियों को भी सबूतों के अभाव में रिहा कर दिया था। द ट्रिब्यून की एक खबर के अनुसार, आज रिहा किए गए आरोपियों की तो सरकारी जांच एजेंसियां पहचान कराने तक में सफल नहीं हो सकीं। इससे पहले जुलाई में पंचकूला की अदालत ने हिंसा के मामले में 41 लोगों के खिलाफ दंगा भड़काने, हत्या और विस्फोटक के इस्तेमाल जैसे मामलों की धाराओं में आरोपी बनाया था।

राम रहीम को बलात्कार के मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद ना सिर्फ पंचकूला बल्कि देश के कई हिस्सों में हिंसा भड़की थी। हरियाणा, पंजाब और नई दिल्ली में भी प्रदर्शनकारियों ने हंगामा किया था और बसों और ट्रेनों में आग लगाने की कोशिश की थी। पंचकूला पुलिस ने हिंसा के मामले में विभिन्न थानों में करीब 239 एफआईआर दर्ज की थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App