ताज़ा खबर
 

रविवार को इन नौ नेताओं को मंत्री बना सकते हैं पीएम नरेंद्र मोदी, बीजेपी के 5, AIADMK के 2, JDU के 2 नाम

बीजेपी से जिन नामों की चर्चा है, उनमें सत्यपाल सिंह, ओम माथुर, विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रह्लाद जोशी और प्रह्लाद पटेल का नाम शामिल है।

इस वक्त हमने बांह पकड़ कर सरकार से कहा कि वह उन सवालों का सामना करे जो अर्थव्यवस्था के लिए गंभीर चुनौती साबित हो रहे हैं।

रविवार (3 सितंबर) को होने जा रहे नरेंद्र मोदी कैबिनेट के तीसरे विस्तार और फेरबदल में किन-किन नए चेहरों को शामिल किया जाएगा, इस पर अभी संशय बरकरार है। माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री इस फेरबदल में कुछ मंत्रियों की छुट्टी कर रहे हैं और कुछ नए चेहरों को कैबिनेट में शामिल कर रहे हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पीएम भाजपा के पांच नेताओं को अपने मंत्रिपरिषद में शामिल कर सकते हैं। इनमें जिन नामों की चर्चा है, उनमें सत्यपाल सिंह, ओम माथुर, विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रह्लाद जोशी और प्रह्लाद पटेल का नाम शामिल है।

विनय सहस्त्रबुद्धे महाराष्ट्र से राज्यसभा सांसद हैं और फिलहाल पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। बीजेपी के थिंक टैंक में ये भी शामिल हैं। ओम माथुर भी भाजपा के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। फिलहाल वो राजस्थान से राज्यसभा सांसद हैं। सत्यपाल सिंह 2014 में  पहली बार यूपी के बागपत से लोकसभा चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं। इससे पहले वो मुंबई के पुलिस कमिश्नर थे। प्रह्लाद जोशी कर्नाटक भाजपा के चीफ रह चुके हैं। फिलहाल वो धारवाड़ से लोकसभा सांसद हैं। प्रह्लाद सिंह पटेल मध्य प्रदेश के दमोह से लोकसभा सांसद हैं। अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में भी पटेल मंत्री रह चुके हैं।

राष्ट्रीय राजनीति को देखते हुए पीएम मोदी तमिलनाडु की सहयोगी पार्टी एआईएडीएमके से दो चेहरों को मंत्रिपरिषद में शामिल करने जा रहे हैं। एआईएडीएमके की तरफ से थंबी दुरई और के वेणुगोपाल मंत्री बनाए जा सकते हैं। हाल ही में एनडीए में शामिल हुई और बिहार में भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाने वाली जदयू के दो सांसदों को भी केंद्र में मंत्री बनाए जाने की चर्चा है। इनमें नीतीश कुमार के करीबी राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह और पूर्णिया से लोकसभा सांसद संतोष कुशवाहा शामिल हैं।

बता दें कि तीन साल पुरानी नरेंद्र मोदी सरकार का रविवार (3 सितंबर) को तीसरी बार फेरबदल होने जा रहा है। उससे पहले ही मंत्रियों के इस्तीफे होने शुरू हो गए हैं। अब तक चार मंत्रियों का इस्तीफा हो चुका है। राजीव प्रताप रूढी, फग्गन सिंह कुलस्ते, संजीव बलियान, महेंद्रनाथ पांडेय इस्तीफा देने वालों में शामिल हैं। इनके अलावा जल संसाधन मंत्री उमा भारती, कलराज मिश्र, गिरिराज सिंह के इस्तीफे की भी चर्चा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App