ताज़ा खबर
 

Kerala temple fire: पुत्तिंगल मंदिर प्रबंधन के पांच सदस्यों ने किया सरेंडर

केरल के पुत्तिंगल देवी मंदिर की प्रबंधन समिति के पांच फरार सदस्यों ने आज तड़के आत्मसमर्पण कर दिया।

Author कोल्लम | April 15, 2016 6:59 PM
केरल के पुत्तिंगल देवी मंदिर पर हुए हादसे की तस्वीर

केरल के पुत्तिंगल देवी मंदिर की प्रबंधन समिति के पांच फरार सदस्यों ने आज तड़के आत्मसमर्पण कर दिया। राज्य में किसी मंदिर में हुए अब तक के सबसे भयंकर हादसे में 109 लोगों की मौत हो गई है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि मंदिर न्यास के अध्यक्ष जयलाल, सचिव जे कृष्णनकुट्टी, शिवप्रसाद, सुरेंद्रन पिल्लई और रविंद्रन पिल्लई ने पुलिस को सूचित किया कि वे आत्मसमर्पण करना चाहते हैं और उन्होंने परवूर के निकट कप्पिल में एक मंदिर के सामने पहुंचकर आत्मसमर्पण कर दिया। ये पांचों केरल के मंदिर में हुए हादसे के बाद से फरार थे। राज्य के किसी मंदिर में हुए अब तक के सबसे भीषण हादसे में 109 लोगों की मौत हो चुकी है और 350 से अधिक लोग घायल हैं।

जांच शुरू करने वाली अपराध शाखा ने मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों समेत छह लोगों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 307 (हत्या की कोशिश), 308 (गैर इरादतन हत्या की कोशिश) और विस्फोटक पदार्थ कानून की धारा चार के तहत मामला दर्ज किया है। मंदिर प्रबंधन समिति के सदस्यों के अलावा ठेकेदारों के सहायकों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है जिन्होंने जिला प्रशासन के प्रतिबंध के बावजूद ‘प्रतिस्पर्धात्मक’ आतिशबाजी की। विस्फोटक पदाथरें संबंधी एक शीर्ष अधिकारी ने कल कहा था कि नियमों के घोर उल्लंघन और प्रतिबंधित रासायनिक पदाथरें के इस्तेमाल से पुत्तिंगल हादसा हुआ। मंदिर अधिकारियों समेत छह लोगों के खिलाफ हत्या की कोशिश का मामला दर्ज किया गया है।

केरल उच्च न्यायालय मंदिर के समारोहों में पटाखे चलाने एवं आतिशबाजी प्रदर्शनी पर प्रतिबंध सबंधी याचिका पर आज सुबह सुनवाई करेगा। 100 वर्ष पुराने पुत्तिंगल देवी मंदिर में रविवार तड़के अनाधिकृत आतिशबाजी प्रदर्शनी के दौरान एक चिंगारी एक स्टोरहाउस में गिर गई थी जिसमें पटाखे रखे थे। इस कारण विस्फोट हो गए और यह भीषण हादसा हुआ।

Read Also: Kerala fire: मुस्लिम अफसरों ने नहीं दी थी आतिशबाजी की मंजूरी तो हिंदुओं ने लगाया था सांप्रदायिकता का आरोप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App