ताज़ा खबर
 

43 हजार स्कूलों में पीने के पानी का संकट, 38 हजार स्कूलों में लड़कियों के लिए शौचालय नहीं

मानव संसाधन विकास मंत्रालय की 2016-17 की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक, देश में विभिन्न राज्यों में 46,591 स्कूलों में बालकों के लिये शौचालय नहीं हैं।

शौचालय ( Express Photo by Abhinav Saha)

देश में 43 हजार स्कूलों में पेयजल सुविधा नहीं है और करीब 38 हजार से अधिक स्कूलों में बालिकाओं के लिये शौचालय की व्यवस्था नहीं है। लोकसभा में सोमवार को एक सवाल के जवाब में पेश आंकड़ों से यह जानकारी सामने आई है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से पेश 2016-17 के अंतिम आंकड़ों के अनुसार, देश में विभिन्न राज्यों में 46,591 स्कूलों में बालकों के लिये शौचालय नहीं हैं। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, देश में जिन 43,074 स्कूलों में पेयजल सुविधा नहीं है, उनमें से सबसे अधिक 8,522 स्कूल असम में हैं।

पेयजल सुविधा विहीन स्कूलों में आंध्र प्रदेश में 3177, बिहार में 4270, जम्मू कश्मीर में 2158, मध्य प्रदेश में 5529, झारखंड में 1840, मेघालय में 5208, राजस्थान में 2627, उत्तर प्रदेश में 3368 और पश्चिम बंगाल में 1520 स्कूल शामिल हैं। दूसरी ओर, जिन 46591 स्कूलों में बालकों के लिये शौचालय की व्यवस्था नहीं है, उनमें से सबसे अधिक 13,503 असम में है। बालकों के लिए शौचालय विहीन स्कूलों में बिहार में 9471, जम्मू कश्मीर में 1379, कर्नाटक में 1519, मध्य प्रदेश में 5975, महाराष्ट्र में 1583, मेघालय में 1933, ओडिशा में 2484, राजस्थान में 1061 और पश्चिम बंगाल में 2142 स्कूल शामिल हैं।

देश में जिन 37956 स्कूलों में बालिकाओं के लिये अलग शौचालय की व्यवस्था नहीं है, उनमें असम में सबसे अधिक 11839 स्कूल शामिल हैं। बालिका शौचालय विहीन स्कूलों में बिहार में 8361 स्कूल, जम्मू कश्मीर में 911, झारखंड में 866, मध्य प्रदेश में 4914, महाराष्ट्र में 1063, मेघालय में 2314, ओडिशा में 1238 और पश्चिम बंगाल में 1521 स्कूल शामिल हैं। लोकसभा में मानशंकर निनामा, अजय मिश्रा टेनी और डा. रमेश पोखरियाल निशंक के प्रश्न के लिखित उत्तर में मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री डा. सत्यपाल सिंह ने बताया कि देश भर के सभी केंद्रीय विद्यालयों और जवाहर नवोदय विद्यालयों में छात्रों एवं छात्राओं के लिये स्वच्छ जल और स्वच्छ शौचालय सुविधा है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009 के नियमों में निर्धारित मानकों में विद्यालयों में पेयजल सुविधा और शौचालय सहित स्कूल अवसंरचना प्रदान करने की बात कही गई है जिसे उपयुक्त सरकारें अपने अपने राज्य में कार्यान्वित करेंगी। मंत्री ने कहा कि 2017-18 तक तत्कालीन सर्व शिक्षा अभियान और 2018-19 से प्रभावी समग्र शिक्षा के तहत राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को प्रारंभिक शिक्षा के लिये 3.99 लाख शौचालयों, 5.22 लाख अलग से छात्राओं के लिये शौचालयों और 2.40 लाख पेयजल सुविधाओं के निर्माण को मंजूरी दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App