हजारों सिंधी हिंदुओं को भारतीय नागरिकता मिलने की उम्मीद - Jansatta
ताज़ा खबर
 

हजारों सिंधी हिंदुओं को भारतीय नागरिकता मिलने की उम्मीद

मप्र में पाकिस्तान के करीब 35,000 सिंधी हिंदू शरणार्थी हैं

Author इंदौर | April 19, 2016 1:17 AM
वर्ष 1991 से 2000 के बीच की अवधि में भारत आए विस्थापितों को पीले रंग के आवेदन पत्र प्रस्तुत करने होंगे।(चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।)

पाकिस्तान से विस्थापित धार्मिक अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता देने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए केंद्र सरकार कदम उठा रही है। इस बीच, एक संगठन का दावा है कि पाकिस्तान छोड़ने के बाद मध्य प्रदेश में प्रवास कर रहे करीब 35,000 सिंधी हिंदू भारतीय नागरिकता पाना चाहते हैं।

सिंधी हिंदुओं के संगठन अखिल भारतीय सिंधी समाज की मध्य प्रदेश इकाई के अध्यक्ष जेपी मूलचंदानी ने सोमवार को कहा कि हमारे अनुमान के मुताबिक फिलहाल मध्य प्रदेश में पाकिस्तान के करीब 35,000 सिंधी हिंदू शरणार्थी हैं, जो भारत की नागरिकता चाहते हैं। इनमें से करीब 15,000 शरणार्थी इंदौर और भोपाल में हैं।

उन्होंने बताया कि सिंधी हिंदुओं को भारतीय नागरिकता देने का मसला लंबे समय से हल नहीं हो सका है। नतीजतन ये पाकिस्तानी शरणार्थी भारत की स्थायी नागरिकता के अभाव के कारण बुनियादी अधिकारों से वंचित हैं।

मूलचंदानी ने बताया कि सिंधी हिंदुओं की भारतीय नागरिकता के कुछ आवेदन तो पिछले 15 साल से लंबित हैं। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान से विस्थापित धार्मिक अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता देने के प्रस्ताव के बारे में केंद्र सरकार ने पिछले दिनों सुझाव आमंत्रित किए थे।

मूलचंदानी ने बताया कि उनके संगठन ने सरकार को सुझाव दिया है कि वह 31 दिसंबर, 2014 के पहले से भारत में प्रवास कर रहे सिंधी हिंदुओं को उनके दीर्घकालीन वीजा के नवीनीकरण की अनिवार्यता से छूट दे।

केंद्र सरकार के प्रस्ताव के मुताबिक मध्य प्रदेश में इंदौर और भोपाल के जिलाधिकारियों को यह अधिकार दिया जाएगा कि वे पाकिस्तान के विस्थापित अल्पसंख्यकों को शुरुआत में दो साल की अवधि के लिए भारतीय नागरिक के रूप में पंजीकृत कर सकेंगे। मूलचंदानी ने कहा- हमारी मांग है कि इंदौर और भोपाल के साथ जबलपुर और ग्वालियर के जिलाधिकारियों को भी यह अधिकार दिया जाए। इसके साथ ही प्रदेश में रह रहे सिंधी हिंदुओं की भारतीय नागरिकता के आवेदनों के निपटारे के लिए विशेष अधिकारी की नियुक्ति की जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App