ताज़ा खबर
 

शुक्रवार को कोरोना संक्रमण के 3,25,730 नए मामले आए, महाराष्ट्र में कवक संक्रमण से अब तक 52 की मौत

कोरोना से स्वस्थ हो रहे और स्वस्थ हो चुके कुछ मरीजों में fungal infection बीमारी पाई गई है, जिससे बाद यह चर्चा का विषय बन गई है। इसके मरीजों में सिर दर्द, बुखार, आखों में दर्द, नाक में संक्रमण और आंशिक रूप से दृष्टिबाधित होने जैसे लक्षण देखे जा रहे हैं।

Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली/पुणे | May 15, 2021 4:32 AM
म्युकोरमायकोसिस बीमारी म्युकोरमाइसिटीज के कारण होता है जो आम तौर पर कम प्रतिरक्षा वाले मधुमेह व्यक्ति पर हमला करता है। कुछ दिन से यह स्वस्थ मरीज में भी हो रही है। (फोटो- अमित मेहरा इंडियन एक्सप्रेस)

देश में शुक्रवार ग्यारह बजे तक 32 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में कोरोना विषाणु संक्रमण के 3,25,730 नए मामले दर्ज किए गए। इस दौरान 3,768 लोगों की संक्रमण के चलते मौत हुई। शुक्रवार को कर्नाटक में सबसे अधिक नए मामले दर्ज किए गए और महाराष्ट्र दूसरे स्थान पर आ गया। सोमवार को ऐसा पहली बार हुआ था। ये आंकड़े 32 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के स्वास्थ्य विभागों की ओर से जारी किए गए। वहीं, देश में शुक्रवार रात आठ बजे तक 18 करोड़ से अधिक कोरोना टीकों की खुराकें दी गईं। उधर, महाराष्ट्र में पिछले साल कोविड-19 फैलने के बाद से अब तक दुर्लभ और गंभीर काले कवक संक्रमण म्यूकरमाइकोसिस से 52 लोगों की मौत हो गई है, जबकि पुणे में 270 नए रोगियों का पता चला है। स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

कर्नाटक स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक राज्य में शुक्रवार को कोरोना के 41,779 नए मामले सामने आए जबकि 373 लोगों की मौत हुई। राज्य में 35,879 मरीज ठीक हुए। राज्य में अब तक 21,30,267 लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 21,085 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। देश में कर्नाटक के बाद महाराष्ट्र में 39,923, केरल में 34,694, तमिलनाडु में 31,892, आंध्र प्रदेश में 22,018, पश्चिम बंगाल में 20,846, उत्तर प्रदेश में 15,747, राजस्थान में 14,289, ओड़ीशा में 12,390, हरियाणा में 10,608, गुजरात में 9,995, दिल्ली में 8,506, मध्य प्रदेश में 8,087, पंजाब में 8,068, छत्तीसगढ़ में 7,594, बिहार में 7,494, उत्तराखंड में 5,775, तेलंगाना में 4,305, असम में 4,078, झारखंड में 3,776, हिमाचल प्रदेश में 3,044, जम्मू कश्मीर में 3,027, गोवा में 2,455, पुदुचेरी में 1,974, मणिपुर में 726, चंडीगढ़ में 650, मेघालय में 627, त्रिपुरा में 552, अरुणाचल प्रदेश में 257, सिक्किम में 232, मिजोरम में 201 और लद्दाख में 161 नए मामले सामने आए।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक शुक्रवार रात आठ बजे तक देश में 8,04,29,261 खुराकें लग चुकी थीं। 42.55 लाख खुराकें 18 से 44 साल के लोगों को लगाई जा चुकी हैं। 14 मई को कुल 10.79 लाख खुराकें दी गईं।

उधर, महाराष्ट्र में पिछले साल कोविड-19 फैलने के बाद से अब तक दुर्लभ और गंभीर काले कवक संक्रमण ( fungal infection) म्यूकरमाइकोसिस से 52 लोगों की मौत हो गई है, जबकि पुणे में 270 नए रोगियों का पता चला है। स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। म्यूकरमाइकोसिस को काले कवक के नाम से भी जाना जाता है। कोरोना से स्वस्थ हो रहे और स्वस्थ हो चुके कुछ मरीजों में यह बीमारी पाई गई है जिससे बाद यह चर्चा का विषय बन गई है। इसके मरीजों में सिर दर्द, बुखार, आखों में दर्द, नाक में संक्रमण और आंशिक रूप से दृष्टिबाधित होने जैसे लक्षण देखे जा रहे हैं।

अधिकारी ने बताया कि पिछले साल कोविड-19 शुरु होने के बाद से अब तक म्यूकरमाइकोसिस से महाराष्ट्र में 52 लोगों की मौत हो गई है। इनमें से सभी कोविड-19 से स्वस्थ हो गए थे लेकिन क ाले कवक के कारण इनकी मौत हो गई। अधिकारी ने बताया कि पहली बार राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने काले कवक के कारण मरने वाले लोगों की सूची बनाई है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बुधवार को कहा था कि राज्य में काले कवक के 1,500 मामले हैं। म्यूकरमाइकोसिस के मामले बढ़ने से राज्य के स्वास्थ्य देखभाल ढांचे पर बोझ बढ़ सकता है जो पहले ही दबाव में है।

टोपे ने कुछ दिन पहले कहा था कि राज्य म्यूकरमाइकोसिस के मरीजों के इलाज के लिए एक लाख एम्फोटेरिसिन-बी फंगस रोधी इंजेक्शन खरीदने के लिए निविदा निकालेगा। उन्होंने बताया कि सभी 52 मरीजों की मौत देश में कोरोना संक्रमण फैलने के बाद हुई।

उधर, पुणे जिले में काले कवक के करीब 270 मामले आने के बाद सरकार के एक कार्यबल ने अस्पतालों में मरीजों के उपचार के लिए मानक संचालन प्रक्रिया तैयार की है। अधिकारियों ने शुक्रवार को इस बारे में बताया। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार साइनस की परेशानी, नाक का बंद हो जाना, आधा चेहरा सुन्न पड़ जाना, आंखों में सूजन, धुंधलापन, सीने में दर्द उठना, सांस लेने में समस्या होना एवं बुखार होना म्यूकरमाइकोसिस या काले कवक संक्रमण के लक्षण हैं।

Next Stories
1 हैदराबाद में लगाया गया स्पूतनिक का पहला टीका
2 गांवों में तेजी से फैल रहा कोरोना संक्रमण : मोदी; प्रधानमंत्री ने कहा, महामारी से लड़ने के लिए युद्धस्तर पर काम
3 अब भारत नहीं रहा विश्व का सबसे बड़ा टीका निर्माता, पर कोरोना में अदार पूनावाला के सीरम ने कमाया सबसे ज़्यादा मुनाफ़ा
आज का राशिफल
X