scorecardresearch

दिल्‍ली में कोरोना से एक दिन में 30 मरीजों की मौत

दिल्ली में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 5,760 नए मामले सामने आए और महामारी से 30 और मरीजों की मौत हो गई जबकि संक्रमण दर गिरकर 11.79 फीसद हो गई।

pandemic
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस प्रतीकातम्क फोटो)

दिल्ली में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 5,760 नए मामले सामने आए और महामारी से 30 और मरीजों की मौत हो गई जबकि संक्रमण दर गिरकर 11.79 फीसद हो गई। स्वास्थ्य विभाग द्वारा साझा किए गए आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है। स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के अनुसार, राजधानी में पिछले दिन 48,488 नमूनों की कोविड जांच की गई, जबकि शनिवार को 69,022 जांच की गई थी।

दिल्ली में 13 जनवरी को एक दिन में सर्वाधिक 28,867 मामले दर्ज किये गये थे और इसके बाद मामलों में कमी आ रही है। शहर में रविवार को 9,197 मामले दर्ज किए गए थे और संक्रमण से 34 लोगों की मौत हुई थी और संक्रमण दर 13.32 फीसद रही थी। जनवरी में राष्ट्रीय राजधानी में अब तक कोविड से 543 लोगों की मौत हो चुकी है।

डीडीएमए की बैठक में प्रतिबंधों पर होगा फैसला

दिल्ली में प्रतिबंधों को हटाने के लिए शीर्ष कोविड-19 प्रबंधन निकाय दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) गुरुवार को बैठक करेगा। इसमें सप्ताहांत कर्फ्यू और सम-विषम पर निर्णय लिया जा सकता है। राजधानी में कोरोना संक्रमण के बीच कर्फ्यू और दुकानें खोलने के लिए सम-विषय व्यवस्था हटाने की व्यापारियों के साथ ही आम आदमी पार्टी (आप) एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) मांग कर रही है। उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में बैठक 27 जनवरी को दोपहर 12:30 बजे निर्धारित है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी बैठक में भाग ले सकते हैं।

लेने की संभावना है। इस बैठक में दिल्ली में छूट की अनुमति पर चर्चा होगी जो कोविड-19 की स्थिति में सुधार के मद्देनजर दी जा सकती है। एक आधिकारिक सूत्र के अनुसार, सरकार इस महीने के अंत तक छात्रों के टीकाकरण की स्थिति के आधार पर फरवरी से स्कूलों को फिर से खोलने पर भी विचार कर सकती है।

गाजियाबाद में तीसरी लहर उतार की ओर : सीएमओ

जिले में कोरोना की तीसरी लहर थमने की ओर है। स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार जिले में संक्रमण की तीव्रता का आखिरी चरण चल रहा है, जो जल्द ही खत्म हो जाएगा और मामलो में कमी आएगी। सोमवार को 24 घंटे के दौरान जिले में कोरोना के 661 नए मामले मिले और 860 मरीजों ने कोरोना संक्रमण को मात दी। फिलहाल जिले में 4715 सक्रिय मरीज हैं, इनमें से कुल 54 मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डा भवतोष शंखधर ने कहा हमें सतर्कता बनाए रखने और कोविड प्रावधानों का कड़ाई से पालन करने की जरूरत है। मास्क लगाएं और भीड़ से परहेज करें। जिले में कोरोना संक्रमण धीरे-धीरे कम होना शुरू हो गया है। पिछले चार दिनों से नए मामलों में कमी देखने को मिल रही है।

जिला सर्विलांस अधिकारी डा आरके गुप्ता के मुताबिक कोरोना की पहली लहर का एक चक्र करीब 60 से 70 दिनों का था, दूसरी लहर घटकर लगभग 48 दिन और तीसरी लहर का चक्र लगभग 35 से 40 दिन का हो सकता है। उन्होंने बताया समान्य तौर पर एक लहर के तीन चरण (फेज) होते हैं। इनमें पहले चरण में संक्रमण फैलना शुरू होता है और दूसरा में संक्रमण उच्चतम स्तर पर पहुंचता है।

इसके बाद तीसरे चरण में संक्रमण लगातार कम होता जाता है। कोरोना के दौरान लहर का एक चरण करीब 28 दिन का था। हालांकि इस समय में मरीजों के संक्रमण मुक्त होने के समय का भी असर पड़ता है। पहली लहर में मरीजों के संक्रमण मुक्त होने का समय 14 दिन था, जो दूसरी लहर में घटकर नौ से 10 दिन हुआ और तीसरी लहर में यह समय पांच से सात दिन का है। उन्होंने बताया फरवरी के पहले सप्ताह में तीसरी लहर का आखिरी चरण शुरू हो सकता है।

गौतमबुद्ध नगर में 501 नए मामले

गौतमबुद्ध नगर में भी कोरोना के मामले लगातार कम हो रहे हैं। हालांकि यहां कम होती रफ्तार के बीच सेक्टर- 30 स्थित जिला अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. सुषमा चंद्रा और चिकित्सा अधीक्षक डा. विनीत रुइया भी संक्रमित हो गई हैं। हल्के लक्षण होने की वजह से दोनों महिला चिकित्सक गृह पृथकवास में हैं। जिले में सोमवार को 501 नए मामले मिले। जबकि 987 मरीज स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज हुए हैं।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट