scorecardresearch

असमः 30 ACS ऑफिसर्स ने खोला बीजेपी एमएलए के खिलाफ मोर्चा, सीएम को दी शिकायत में जड़े तीखे आरोप

कछार के सिविल सर्वेंट्स ने इसे निराशाजनक बताते हुए मुख्यमंत्री से कामकाज का बेहतर माहौल देने का आग्रह किया, जिससे उनकी व्यक्तिगत गरिमा और स्वाभिमान को ठेस न पहुंचे।

Himanta Biswa Sarma, Assam CM, State News
असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः अमित मेहरा)

असम में 30 ACS ऑफिसर्स ने भारतीय जनता पार्टी के एमएलए के खिलाफ मोर्चा खोला है। कछार जिले के 30 एसीएस अधिकारियों ने असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा को एक ज्ञापन सौंपा है, जिसमें लखीपुर निर्वाचन क्षेत्र के भाजपा विधायक कौशिक राय पर तीखे आरोप लगाए गए हैं। कौशिक राय पर ड्यूटी पर सिविल सेवकों के साथ दुर्व्यवहार करने, अपमान और धमकी देने का आरोप लगाया है।

शिकायत करने वाले सभी 30 अधिकारी कछार जिले में पोस्टेड हैं। सिविल सर्वेंट्स ने कछार के जिलाधिकारी के माध्यम से अपनी शिकायत मुख्य सचिव और मुख्यमंत्री को भेजी है। शिकायत में कहा गया है कि लखीपुर के भाजपा विधायक कौशिक राय सरकारी अधिकारियों को बेइज्जत करते हैं. बाढ़ राहत कार्यों के लिए तैनात जिन अधिकारियों ने शिकायत की है, उनके नाम डॉ दीपांकर नाथ (सोनाई रेवेन्यू सर्किल में पदस्थ एसीएस ऑफिसर), बिकास छेत्री (सोनाई रेवेन्यू सर्किल में पदस्थापित एएलआरएस, सर्किल ऑफिसर (ए), हुसैन मोहम्मद मोबिन (एएलआरएस, बीडीओ, सोनाई) हैं।

सिविल सर्वेंट्स के साथ दुर्व्यवहार: ज्ञापन में सिविल सर्वेंट्स ने बीजेपी विधायक पर सोनाई राजस्व मंडल में बाढ़ की स्थिति की समीक्षा के दौरान गोविंदनगर शिवबारी हाई स्कूल रिलीफ कैंप में उनके साथ दुर्व्यवहार करने, अपमान और धमकी देने का आरोप लगाया है।

पीड़ित अधिकारियों ने आरोप लगाया कि विधायक ने राहत शिविरों के दौरे के दौरान टिप्पणी की कि सोनाई प्रखंड विकास अधिकारी (बीडीओ) को उसी तरह पीटा जाना चाहिए जैसे 10 मार्च को विभिन्न पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रखंड कार्यालय में उनके साथ मारपीट की थी।

भाजपा विधायक पर आरोप: अधिकारियों ने आरोप लगाया कि पंचायत प्रतिनिधियों ने सुझाव दिया कि सर्किल अधिकारी को राहत सामग्री का वितरण न करने और सरकारी तंत्र के खिलाफ असंसदीय भाषा का इस्तेमाल करने के लिए दंडित किया जाना चाहिए। अधिकारियों ने आरोप लगाया कि भाजपा विधायक और उनके सहयोगियों ने उन्हें विपक्ष का एजेंट करार दिया। इसके साथ ही भाजपा विधायक पर आरोप लगाया गया कि उन्होंने दोनों सर्कल अधिकारियों को ‘चावल चोर’ कहा।

शिकायत के मुताबिक, विधायक कौशिक राय ने सर्किल ऑफिसर डॉ. दीपांकर नाथ को गाली दी और धमकाया। इसके साथ ही उनकी शैक्षणिक योग्यता पर सवाल उठाकर उन पर पर्सनल अटैक भी किया। एमएलए ने ऑफिसर के साथ गाली-गलौज भी की और उन्हें मारने के लिए हाथ भी उठाया।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.