ताज़ा खबर
 

तीन भारत-पाकिस्तान युद्धों में गई है 22 हजार से अधिक की जान, अब हुई लड़ाई तो हो सकता है लाखों का नुकसान

अमेरिका द्वारा 1954 में जापान के दो शहरों में गिराए गए दो परमाणु बमों से 1-3 लाख लोग मारे गए थे। लाखों अन्य विकलांग हो गए थे।

जम्मू-कश्मीर के उरी स्थित आर्मी बेस पर आतंकी हमले में 19 भारतीय सैनिक शहीद। (PTI Photo)

जम्मू-कश्मीर के उरी स्थित आर्मी कैंप पर पाकिस्तानी आतंकियों द्वारा किए गए हमले में 18 भारतीय जवान शहीद हो गए और 19 अन्य घायल हो गए। हमले के बाद से ही भारत पर पाकिस्तान के खिलाफ सीधी सैन्य कार्रवाई करने का दबाव है। सोशल मीडिया पर आम नागरिकों के अलावा बीजेपी सहित कई राजनीतिक दलों के नेता भी सरकार से पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं। भारत और पाकिस्तान के बीच अब तक तीन पूर्ण युद्ध हो चुके हैं। तीनों युद्धों में भारत और पाकिस्तान के 22 हजार से ज्यादा सैनिक मारे गए थे। इनके अलावा 1999 में दोनों देशों के बीच ‘कारगिल युद्ध’ भी हुआ लेकिन वो पूर्ण युद्ध में नहीं बदला था। कारिगल की लड़ाई में दोनों पक्षों के करीब आठ सौ लोग मारे गए थे।

आइए एक नजर डालते हैं दोनों देशों के बीच अब तक हुए तीन युद्धों के कारणों और उनके परिणामों पर। उसके बाद एक नजर इस संभावना पर भी डालेंगे कि अगर अब दोनों देशों के बीच युद्ध हुआ तो क्या हो सकता है।

HOT DEALS
  • Honor 7X 64 GB Blue
    ₹ 15375 MRP ₹ 16999 -10%
    ₹0 Cashback
  • Sony Xperia XZs G8232 64 GB (Warm Silver)
    ₹ 34999 MRP ₹ 51990 -33%
    ₹3500 Cashback

1971 का युद्ध

1971 के युद्ध की आधारशिला पाकिस्तान में दिसंबर 1970 में हुए आम चुनाव में रखी गई। इस चुनाव में पाकिस्तान की नेशनल एसेंबली की कुल 300 सीटों में से शेख मुजीबुर्रहमान की अवामी लीग को 160 पर जीत मिली। वहीं जुल्फीकार अली भुट्टो की पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) को 81 सीटों पर सफलता हाथ लगी। बाकी सीटें अन्य छोटी पार्टियों को मिलीं। चुनाव की खास बात ये रही कि शेख मुजीब की अवामी लीग को पश्चिमी पाकिस्तान में एक भी सीट पर जीत नहीं मिली। वहीं भुट्टो को पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) में एक भी सीट नहीं मिली। उस चुनाव से पहले तक पाकिस्तानी सत्ता पर पश्चिमी पाकिस्तान के नेताओं का वर्चस्व रहा था। पाकिस्तानी सेना और खुफिया एजेंसियों में भी पश्चिमी पाकिस्तान के रहने वालों का ज्यादा प्रभाव था। चुनाव में स्पष्ट बहुमत मिलने के बाद भी जब शेख मुजीब की सरकार नहीं बन पाई तो उन्होंने सात मार्च 1971 को बांग्लादेश को अलग राष्ट्र घोषित कर दिया। पाकिस्तानी सेना ने मौजूदा बांग्लादेश पर क्रूर सैन्य कार्रवाई कर दी। पाक सेना को जमात-ए-इस्लामी जैसे संगठनों का भी साथ मिला। बड़े पैमाने पर फैली सैन्य और नागरिक हिंसा के कारण करीब एक करोड़ बांग्लादेशी भारत में पलायन कर गए। दिसंबर 1971 में भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने बांग्लादेशियों की मदद का फैसला करते हुए भारतीय सेना को युद्ध का आदेश दे दिया।

1971 की लड़ाई मात्र 13-14 दिनों तक चली। बांग्लादेश के ढाका में करीब 90 हजार पाकिस्तानी सैनिकों ने भारतीय सेना के आगे हथियार डाल दिए। लड़ाई में दो हजार भारतीय सैनिक और छह हजार पाकिस्तानी सैनिक मारे गए।  16 दिसंबर 1971 को बांग्लादेश का नए देश के रूप में जन्म हुआ। बांग्लादेश मुक्ति संग्राम में मारे गए लोगों की संख्या 5 लाख से 10 लाख के बीच मानी जाती है। वहीं लाखों लोग विस्थापित हुए थे। दोनों सेनाओं के बीच सीधा युद्ध बहुत कम देर चला लेकिन पाकिस्तानी सेना और पाकिस्तान समर्थक लड़ाकों पर बांग्लादेशी की हजारों महिलाओं के संग बलात्कार का आरोप लगा। बांग्लादेश से पलायन करके भारत के विभिन्न इलाकों में शरणार्थी कभी भी पूरी तरह वापस नहीं जा सके। पूर्वोत्तर भारत के कुछ राज्यों में बांग्लादेशी शरणार्थी आज भी राजनीतिक मुद्दा हैं।

Read Also:“उरी हमला यह साबित करता है कि पाकिस्तान आतंकवाद की संपन्न मशीनरी है”: विकास स्वरुप, MEA

1965 का युद्ध

1965 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध कारण कश्मीर था। पाकिस्तान ने कश्मीर में विद्रोह कराने की मंशा से ऑपरेशन जिब्राल्टर शुरू किया। इस ऑपरेशन के तहत करीब आठ हजार (ज्यादातर गैर-सैनिक) लड़ाकों को कश्मीर भेजा गया। उनका नेतृत्व पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की एक नियमित बटालियन कर रही थी। कुछ अति प्रशिक्षित पाकिस्तानी कमांडो भी उनके साथ भेजे गए थे। पाकिस्तान को उम्मीद थी कि जब ये घुसपैठिए भारतीय सेना से मुठभेड़ करेंगे तो कश्मीरी अवाम उनके पक्ष में विद्रोह कर देगी। युद्ध मामलों के जानकार मानते हैं कि पाकिस्तान को उम्मीद ही नहीं थी कि भारत इस घुसपैठ के जवाब में सीधा सैन्य हमला कर देगा लेकिन ऐसा ही हुआ।

भारतीय सेना ने 6 सितंबर 1965 को पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया। अगले 22 दिनों तक दोनों देशों में जमकर लड़ाई हुई। स्वतंत्र स्रोतों के अनुसार इस युद्ध में भारत के करीब 3000 सैनिक और पाकिस्तान के करीब 3800 हजार सैनिक मारे गए।भारतीय वायु सेना के 59 लड़ाकू विमान युद्ध में नष्ट हो गए। वहीं पाकिस्तानी वायु सेना के 43 लड़ाकू विमान बर्बाद हुए। युद्ध में भारत के 128 टैंक नष्ट हो गए। वहीं पाकिस्तान के 150 टैंक बर्बाद हो गए और 152 टैंकों को भारत ने अपने कब्जे में ले लिया। युद्ध के बाद भारत ने पाकिस्तान की 1840 वर्ग किलोमीट जमीन पर कब्जा कर लिया तो पाकिस्तान ने भारत की 540 वर्ग किलोमीटर भूमि हथिया ली। 1965 के युद्ध का समापन दोनों देशों के बीच हुए ताशकंद समझौते के रूप में हुआ. ये समझौता भारतीय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री और पाकिस्तानी राष्ट्रपति अयूब खान के बीच हुआ था। रूस ने शांति समझौते में मध्यस्थता की थी।

आगे पढ़ें पहला भारत-पाक युद्ध क्यों हुआ और अगर अब देशों में युद्ध हुआ तो क्या हो सकता है?

Read Also:उरी हमले में शहीद सिपाही की मां और पत्नी का आरोप- सांसद ने घर आकर किया अपमान, बना दिया भिखारी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App