ताज़ा खबर
 

भाषण बंद करो…टोकने लगे PAK पैनलिस्ट, भड़के भारत के पैनलिस्ट- ये हाफिज सईद को क्यों बुलाया है? छोटे हाफिज निकलो यहां से

भारत के लोग वो रात कभी नहीं भूल सकते जब दस आतंकियों ने मुंबई के अलग-अलग इलाकों में अंधाधुंध फायरिंग कर सैकड़ों लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। इस हमले की बरसी पर टीवी चैनल रिपब्लिक भारत के शो 'पूछता है भारत' में चर्चा के दौरान भारत और पाकिस्तान के पैनलिस्ट आपस में भीड़ गए।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: November 27, 2020 11:47 AM
major arya, army officer, pakistan, india, mumbai attack, gd bakshi, republic tv, attack, terrorist, terror attack on india, पाकिस्तान, भारत, मुंबई, आतंकी हमला, रिपब्लिक टीवीबहस के दौरान रिटायर्ड मेजर गौरव आर्य पाकिस्तानी पैनलिस्ट से भीड़ गए। (file)

12 साल पहले 26 नवंबर 2008 को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई दहल उठी थी। भारत के लोग वो रात कभी नहीं भूल सकते जब दस आतंकियों ने मुंबई के अलग-अलग इलाकों में अंधाधुंध फायरिंग कर सैकड़ों लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। इस हमले की बरसी पर टीवी चैनल रिपब्लिक भारत के शो ‘पूछता है भारत’ में चर्चा के दौरान भारत और पाकिस्तान के पैनलिस्ट आपस में भीड़ गए।

बहस के दौरान रिटायर्ड मेजर गौरव आर्य पाकिस्तानी पत्रकार को बता रहे थे कि हाफिज सईद को जेल में होना चाहिए था लेकिन वह घर पर दिन गुजर रहा है। आर्य पाकिस्तान में होने वाले फ़सादों पर बात कर रहे थे तभी एक पाकिस्तानी पैनलिस्ट ने उन्हें टोकते हुए कहा कि गौरव आर्य भाषण बंद करो… इसपर रिटायर्ड मेजर भड़क गए और कहा “ये हाफिज सईद के नौकर को क्यों बुलाया है? सुनो छोटे हाफिज़ निकलो यहाँ से… बिलकुल यहाँ से निकाल जाओ।”

इसपर पाकिस्तानी पैनलिस्ट ने कहा “मैं आपके घर पर नहीं आया हूं नेशनल टीवी पर हूं। आराम से बात करो, तुम्हें तमीज नहीं है बात करने की।” पाकिस्तानी पैनलिस्ट की बात से गौरव आर्य इतना नाराज़ हो गए कि उन्होने उसे आतंकी भी बोल दिया। इस दौरान रिटायर्ड मेजर जनरल जी डी बख्शी ने पाकिस्तान को चेताया कि हम पड़ोसी नहीं बदल सकते हमारी सेना को नक्शे बदलने आता है।

रिटायर्ड मेजर ने कहा कि मुझे अफसोस है कि 26/11 की बरसी से दो दिन पहले पाकिस्तान ने एक बार ऐसी ही हरकत दोहराने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि पाकिस्तानियों को पाठ पढ़ाया जाए। पाकिस्तान यह सोचता है कि चीन उसे बचाएगा। इस आग से वो उसे बाहर निकाल लेगा। पाकिस्तान के लोग अपना गणित सहीं कर लें।’ जी डी बख्शी ने आगे कहा कि हम पड़ोसी नहीं बदल सकते हैं लेकिन हमारी सेना को नक्शे बदना आता है।

बता दें लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकियों ने दक्षिण मुंबई के कई स्थानों को अपना निशाना बनाया था। आतंकियों ने छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (सीएसटी) रेलवे स्टेशन, नरीमन हाउस कॉम्प्लेक्स, लियोपोल्ड कैफे, ताज होटल और टॉवर, ओबेरॉय-ट्राइडेंट होटल और कामा अस्पताल में हमला किया था। इस हमले में करीब 160 लोगों की जान गई थी, जबकि 300 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। 60 घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद सुरक्षा बलों 9 आतंकियों को मार गिराया था, जबकि एक आतंकी अजमल आमिर कसाब जिंदा पकड़ा गया था। जिसे बाद में 21 नवंबर, 2012 को पुणे के यरवडा जेल में फांसी दी गई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कॉरपोरेट्स के हवाले बैंकिंग पर एक्सपर्ट्स ने किया आगाह- मंजूरी से पहले कड़ी निगरानी की है जरूरत
2 इन 10 सूबों में देश की 80% मुस्लिम आबादी, पर BJP शासित चार में एक भी मुसलमान मंत्री नहीं, ओवैसी बोले- ये आंकड़ा 2014 से पहले से भी लगभग आधा
3 जी-जीकर जेल में ‘मर रहे’ स्टैन स्वामी! 20 दिन से स्ट्रॉ और सिपर के लिए लगा रहे गुहार पर
ये पढ़ा क्या?
X