ताज़ा खबर
 

पांचवें भाषण में पीएम मोदी ने लाल किले से खींचा 2019 का चुनावी खाका, जानिए- बड़ी बातें

पीएम ने अपने भाषण में गरीबों, पिछड़ों, दलितों और महिलाओं पर खास फोकस किया है। उन्होंने कहा, ''हमारा संविधान कहता है कि सभी पिछड़ों, गरीबों को न्याय मिले। दलित, जंगलों में जीने वाले आदिवासियों सभी को आगे बढ़ने का अधिकार मिले।''

72वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से देशवासियों को संबोधित करते पीएम नरेंद्र मोदी। (फोटो-PTI)

देश आजादी की 72वीं वर्षगांठ मना रहा है। इस मौके पर लाल किले के प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न केवल अपने चार साल के कामकाज का लेखा-जोखा देशवासियों के सामने पेश किया बल्कि अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए चुनावी रणनीति का खाका भी पेश किया। प्रधानमंत्री ने अपने 82 मिनट के भाषण में पूर्ववर्ती यूपीए सरकार पर निशाना भा साधा और कहा कि 2013 से पहले देश में विकास की रफ्तार बहुत धीमी थी लेकिन उन्होंने उसी मानव संसाधन की बदौलत विकास की रफ्तार बदल दी। पीएम मोदी ने कहा, ”आज देश वही है, अधिकारी वही हैं, तंत्र वही है, फाइलें वही हैं लेकिन चार साल में देश काम में तेजी महसूस कर रहा है। आज गांव-गांव तक डिजिटल इंडिया को लेकर हम आगे बढ़ रहे हैं तो दूसरी ओर दिव्यांगों के लिए स्पेशल डिक्शनरी भी बनाई जा रही है।”

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 25799 MRP ₹ 30700 -16%
    ₹3750 Cashback
  • Sony Xperia L2 32 GB (Gold)
    ₹ 14845 MRP ₹ 20990 -29%
    ₹1485 Cashback

उन्होंने कहा, ”जिस रफ्तार से 2013 में गांवों तक ऑप्टिकल फाइबर पहुंचाने का काम चल रहा था, उस रफ्तार से देश के हर गांव को ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ने में कई पीढ़ियां गुजर जातीं, जिस रफ्तार से 2013 में गैस कनेक्शन दिया जा रहा था, अगर वही पुरानी रफ्तार होती तो देश के हर घर में सालों तक भी गैस कनेक्शन नहीं पहुंच पाता।” प्रधानमंत्री ने कहा, ”देश आज रिकॉर्ड अनाज का उत्पादन कर रहा है। रिकॉर्ड मोबाइल फोन मैन्यूफैक्चरिंग कर रहा है, ट्रैक्टरों की रिकॉर्ड बिक्री हो रही है, आजादी के बाद सबसे ज्यादा हवाई जहाज खरीदने का काम हो रहा है, देश आज स्कूलों में शौचालय बना रहा है, वहीं नए IIT, नए एम्स बनाने की स्थापना कर रहा है।”

प्रधानमंत्री ने मौजूदा कार्यकाल में लाल किले से अपने आखिरी भाषण में गरीबों, पिछड़ों, दलितों और महिलाओं पर खास फोकस किया है। उन्होंने कहा, ”हमारा संविधान कहता है कि सभी पिछड़ों, गरीबों को न्याय मिले। दलित, जंगलों में जीने वाले आदिवासियों सभी को आगे बढ़ने का अधिकार मिले।” मुस्लिम महिलाओं का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा, ”तीन तलाक की कुप्रथा से मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय हुआ है। हम इस कुप्रथा को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन कुछ इसे खत्म नहीं होने देना चाहते हैं। संसद में तीन तलाक कानून पास नहीं होने दिया जा रहा है। मैं मुस्लिम महिलाओं को यकीन दिलाना चाहता हूं कि मैं उन्हें न्याय दिलाने के लिए काम करूंगा।”

देश में बढ़ते दुष्कर्म की घटनाओं पर चिंता जताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ”बलात्कार की राक्षसी प्रवृत्ति से देश को मुक्त कराना होगा। राक्षसी मनोवृत्ति के खिलाफ भय पैदा करना होगा।” उन्होंने अपनी सरकार में सबसे ज्यादा महिला मंत्री होने का दावा करते हुए कहा, ”आज देश में पहली कैबिनेट है जिसमें सबसे ज्यादा महिला मंत्री हैं, सुप्रीम कोर्ट में आज तीन महिला जज हैं जो देश को न्याय देने का काम कर रही हैं। हमने सशस्त्र सेनाओं में महिलाओं को स्थाई सर्विस देने का फैसला किया।” बता दें कि बीजेपी साल 2019 के चुनावों के लिए महिलाओं, मुस्लिम महिलाओं, दलितों और पिछड़ों पर फोकस कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App