ताज़ा खबर
 

दादरी मॉब लिंचिंग: तीन साल से अखलाक के परिवार ने नहीं मनाई ईद, घर नहीं लौटना चाहता परिवार

तीन साल पहले, 28 सितंबर 2015 को 50 साल के अखलाक को भीड़ ने घर से खींचकर बाहर निकाला था और बीफ रखने के शक में पीट-पीटकर मार दिया गया था। अखलाक का परिवार कहता है कि वह अभी भी इस सदमे से उबर नहीं सके हैं।

Author September 28, 2018 12:52 PM
दादरी के बिसाहड़ा गांव के इसी घर में अखलाक अपने परिवार के साथ रहता था। (Express photo by Gajendra Yadav)

सुकृत बरुआ, अभिषेक अंगद

दादरी के बिसाहड़ा गांव के जिस मकान में मोहम्‍मद अखलाक और उसका परिवार रहता था, उसके तीन दरवाजों पर तीन ताले लटके हुए हैं, जिनमें जंग लग गई है। राजपूतों के गांव का यह इकलौता मुस्लिम घर था। तीन साल पहले, 50 साल के अखलाक को उसके घर से खींचकर बाहर निकाला गया था और बीफ रखने के शक में पीट-पीटकर मार दिया गया था। अखलाक का परिवार कहता है कि वह दोबारा यहां नहीं आ सकते। परिवार अभी भी उस सदमे से उबर नहीं सका है।

अखलाक का मामला फास्‍ट-ट्रैक कोर्ट में है। मामला दर्ज होने के बाद से 45 सुनवाइयां हो चुकी हैं, मगर ट्रायल नहीं शुरू हो सका है क्‍योंकि नगर अदालत अब तक आरोपियों के खिलाफ लगी धाराओं पर बहस कर रही है। अखलाक के परिवार के वकील, युसूफ सैफी के अनुसार, पुलिस ने सभी आरोपियों को हत्‍या, दंगा करने और गैरकानूनी ढंग से जमा होने जैसी धाराओं में गिरफ्तार किया है। सभी आरोपियों को जमानत मिल चुकी है। एक आरोपी रवीन सिसोदिया को जेल से अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था, बाद में उसकी मौत हो गई।

अखलाक के छोटे भाई, मोहम्‍मद जान (50) ने कहा, ”केस अब तक शुरू भी नहीं हुआ है, खत्‍म होने का सवाल ही कहां उठता है? …आरोपियों के खिलाफ आरोप भी अभी तक तय नहीं हुए हैं जबकि यह फास्‍ट-ट्रैक कोर्ट है। तीन साल पहले पुलिस द्वारा दायर की गई चार्जशीट में भी उन्‍हीं के नाम हैं जो अखलाक की बहन शाइस्‍ता ने दिए थे। इसके अलावा और लोगों (संदिग्‍धों) की पहचान और उन्‍हें गिरफ्तार करने के लिए कुछ नहीं किया गया।”

जान के अनुसार, बचाव पक्ष के वकील कई तरह की अपीलों के जरिए मामले को टाल रहे हैं। मामले की सुनवाई कर रहे जज भी दो बार बदले जा चुके हैं। अखलाक के बड़े भाई मोहम्‍मद सरताज, जो वायुसेना में काम करते हैं, ने द इंडियन एक्‍सप्रेस से कहा कि वे, उनके भाई-बहन और मां मीडिया से बात करने को तैयार नहीं हैं। सरताज ने कहा, ”घटना का दर्द और उसके बाद जो हुआ, हम उस बारे में बात नहीं करना चाहते।”

सरताज (29) शाइस्‍ता (23) और उनके भाई दानिश (25) को भी भीड़ ने पीटा था। यह सभी अपनी मां इकरामां (43) और दादी असगरी (78) के साथ दिल्‍ली के सुब्रत पार्क स्थित एयरफोर्स क्‍वार्टर्स में रहते हैं क्‍योंकि उन्‍हें लगा था कि गवाह बनने से शाइस्‍ता, दानिश और इकरामां की जान खतरे में पड़ जाएगी। जान ने कहा, ”हर साल बकरीद के समय, बहुत दुख होता है। परिवार ने उस घटना के बाद से ईद नहीं मनाई है।”

2017 में मामले के 17 आरोपियों को जमानत पर छोड़ दिया गया था। अधिकतर गांववाले 28 सितंबर, 2015 की घटना को ‘हादसा’ कहते हैं। एक आरोपी विनय के पिता ओम महेश ने कहा, ”हमको एक शब्‍द मिल गया है – मॉब लिंचिंग। जब कहीं भी कोई भीड़ किसी को पीट देती है तो लोग बिसाहड़ा की बात करते हैं। 2019 चुनाव से पहले बिसाहड़ा का नाम फिर उछलेगा और कीचड़ में घसीटा जाएगा।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App