ताज़ा खबर
 

2012 गैंगरेप केसः क्या होती है डमी फांसी और क्यों दी जाती है? जानिए रोचक फैक्ट

डमी फांसी की प्रक्रिया को दोषी को फांसी देने के पहले की रिहर्सल प्रक्रिया भी कहा जाता है।

तिहाड़ जेल में ही डमी फांसी की प्रक्रिया को पूरा किया गया। प्रतीकात्मक तस्वीर।

2012 गैंगरेप केसः दिल्ली के चर्चित गैंगरेप केस के सभी 4 दोषियों को 22 जनवरी को फांसी पर लटकाया जाएगा। इस वीभत्स कांड के दोषी मुकेश सिंह, विनय शर्मा, अक्षय ठाकुर और पवन गुप्ता को दिल्ली स्थित तिहाड़ सेंट्रल जेल में ही फांसी दिया जाएगा। फिलहाल इन सभी को फांसी दिये जाने से पहले यहां फांसी की प्रक्रिया से संबंधित सभी तैयारियां जेल प्रशासन की तरफ से की जा रही हैं। इस कड़ी में बीते रविवार (12-01-2020) को जेल के अंदर डमी को फांसी देकर तैयारियों का जायजा लिया गया।

यूं दी गई डमी फांसी?
आपको बता दें कि इस गैंगरेप के चारों दोषियों को तिहाड़ के जेल नंबर-3 में चार फांसी के तख्तों पर लटकाया जाना है। लिहाजा असली प्रक्रिया से पहले डमी फांसी भी दी गई। इस प्रक्रिया के तहत चार बोरों में चारों दोषियों के वजन के हिसाब से मिट्टी, पत्थर भरा गया। इन बोरों को एक साथ फांसी के फंदे पर लटकाया गया। बताया जा रहा है कि जेल के अंदर किया गया यह ट्रायल पूरी तरह से कामयाब रहा है। फिलहाल चारों रस्सियों पर मख्खन लगाकर इन्हें सुरक्षित रख दिया गया है, ताकि फांसी के लिए इन्हीं रस्सियों का इस्तेमाल किया जा सके। मक्खन से रस्सियां मुलायम बनी रहेंगी।

क्यों दी जाती है डमी फांसी?
डमी फांसी की प्रक्रिया को दोषी को फांसी देने के पहले की रिहर्सल प्रक्रिया भी कहा जाता है। साल 2012 गैंगरेप केस के दोषियों को फांसी दिए जाने से पहले रिहर्सल करने का मकसद यह देखना था कि रस्सियां इतने वजन को सहन कर पाएंगीं भी या नहीं, साथ ही चारों तख्तों में तो कोई तकनीकी समस्या तो नहीं आ रही है? यह भी देखा गया कि चारों को फांसी पर लटकाने में कितना समय लगेगा? हालांकि इस प्रक्रिया के लिए जल्लाद नहीं बुलाया गया और जेल अधिकारियों ने ही इस प्रक्रिया को अंजाम दिया।

आपको बता दें कि दिल्ली गैंगरेप केस में मंगलवार को क्यूरेटिव पिटीशन पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है। दो दोषियों विनय कुमार शर्मा और मुकेश सिंह ने फांसी की सजा से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दाखिल की है।

Next Stories
1 कोलकाता पोर्ट के बाद अब Victoria Memorial का नाम बदलना चाहती है BJP, रानी लक्ष्मीबाई करने की उठाई मांग
2 ‘शराब में डूबती जा रही जनजाति’, एमपी लोक सेवा आयोग की परीक्षा में भील समुदाय पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद बढ़ा विवाद
3 Bihar: चुनाव से पहले RJD में उठे विरोधी सुर, लालू को रघुवंश प्रसाद सिंह ने लिखा ‘लेटर’
ये पढ़ा क्या?
X