ताज़ा खबर
 

2012 Delhi Gang Rape Case: तिहाड़ जेल ने पटियाला हाउस कोर्ट से पूछा- दोषियों को कब दें फांसी, दो बार टल चुकी हैं तारीखें

2012 Delhi Gang Rape and Murder Case: दिल्ली की एक अदालत ने शुक्रवार को फांसी की सजा अनिश्चितकाल के लिए टाल दी थी। दोषियों के वकील ने दलील दी कि उनके कानूनी विकल्प के रास्ते अब भी बचे हैं, इसलिए फांसी की तारीख अनिश्चित है।

Author Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली | Updated: February 1, 2020 5:11 PM
delhi gang rape, 2012, delhi gang rape, delhi gang rape convicts, delhi gang rape news, delhi gang rape case news, delhi gang rape convicts hanging, delhi gang rape 2012 convicts, delhi gang rape latest news, delhi gang rape today news, 2012 delhi gang rape case convicts, delhi case, delhi news, rape case in delhi 2012, hindi news, jansatta news, jansatta onlineप्रतीकात्मक तस्वीर।

तिहाड़ जेल के अधिकारी दिल्ली गैंग रेप मामले में सभी चारों दोषियों को फांसी देने की तारीख तय करने के लिए शनिवार को पटियाला हाउस अदालत का रुख किया। महानिदेशक (जेल) संदीप गोयल ने कहा, “राष्ट्रपति द्वारा विनय कुमार शर्मा की दया याचिका खारिज किए जाने के बाद तिहाड़ जेल प्रशासन सभी चारों दोषियों को फांसी देने की तारीख तय करने के लिए पटियाला हाउस अदालत जा रहा है।”

तिहाड़ में बंद निर्भया मामले के दोषियों मुकेश कुमार सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय कुमार शर्मा (26) और अक्षय कुमार (31)को एक फरवरी को सुबह छह बजे फांसी दी जानी थी, लेकिन दिल्ली की एक अदालत ने शुक्रवार को फांसी की सजा अनिश्चितकाल के लिए टाल दी थी। पवन, विनय और अक्षय के वकील एपी सिंह ने दलील दी कि उनके कानूनी विकल्प के रास्ते अब भी बचे हैं, इसलिए फांसी की तारीख अनिश्चित है।

अभी तक दोषी मुकेश सारे कानूनी विकल्प अपना चुका है। उसकी दया याचिका राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 17 जनवरी को खारिज कर दी थी और राष्ट्रपति के इस फैसले के खिलाफ उसकी अपील उच्चतम न्यायालय ने 29 जनवरी को खारिज कर दी। विनय कुमार शर्मा और अक्षय की सुधारात्मक याचिकाएं शीर्ष अदालत खारिज कर चुकी है।

तिहाड़ जेल के अधिकारियों ने कहा कि दोषियों में से एक अक्षय ने शनिवार को राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका भेजी थी। इससे पहले, राष्ट्रपति ने विनय की दया याचिका खारिज कर दी। तिहाड़ जेल प्रशासन पटियाला हाउस कोर्ट से दोषियों को फांसी देने के लिए नई तारीख की मांग करेगा। जेल अफसरों का कहना है कि फांसी देने के लिए जेल प्रशासन की तैयारी पूरी है। कोर्ट से अनुमति मिलते ही सभी दोषियों को फांसी दे दी जाएगी। इस मामले में दोषियों की कानूनी याचिकाओं की वजह से तारीखें टल रही हैं। इससे पहले एक फरवरी को फांसी देने के लिए मेरठ से जल्लाद भी तिहाड़ जेल पहुंच चुके हैं। उन्होंने फांसी की रस्सी की जांच भी कर ली।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की चाल है सीएए, एनआरसी, वरिष्ठ पत्रकार बोले- अनुशासन के साथ करते रहें विरोध
2 Budget 2020: जल जीवन मिशन के लिए 11500 करोड़ आवंटित, स्वच्छ भारत मिशन के बजट में कटौती
3 Budget 2020: पांच नई स्मार्ट सिटी के ऐलान पर वित्त मंत्री हुईं ट्रोल, ट्रोलर्स बोले- वो 100 स्मार्ट सिटी का क्या हुआ?
IPL 2020 LIVE
X