ताज़ा खबर
 

2 मार्च, शाम 5 बजे न्यूज अपडेट: गोरखपुर में अमित शाह का रोड शो, RSS नेता का विवादित बयान, बिहार के मंत्री ने मांगी माफी

गोरखपुर में भाजपा अध्यक्ष के रोड शो से लेकर RSS नेता के विवादित बयान तक, पढ़िए सभी बड़ी खबरें

गोरखपुर में अमित शाह का रोड शो

उत्तर प्रदेश में छठे चरण के मतदान से पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गोरखपुर में रोड शो किया है। रोडशो में गोरखपुर से भाजपा सांसद योगी आदित्यनाथ और भाजपा के प्रदेश प्रभारी ओम माथुर भी शामिल हुए। गोरखपुर में 9 विधानसभा सीटें हैं जिसमें पिपराइच, गोरखपुर शहर, गोरखपुर देहात, चोरी-चौरा जैसे इलाके आते हैं। गौरतलब है कि राज्य में छठे चरण में सात जिलों की 49 सीटों पर 4 मार्च को मतदान होगा। जिनमें महाराजगंज, कुशीनगर, गोरखपुर , देवरिया, आज़मगढ़, मऊ तथा बलिया शामिल हैं। (यहां विस्तार से पढ़ें)

RSS नेता का विवादित बयान

मध्यप्रदेश के एक नेता डॉक्टर चंद्रावत ने विवादित बयान देते हुए कहा है कि जो भी केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन का सिर काटकर लाएगे उसे वो 1 करोड़ का इनाम देंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि पिनरई विजयन ने ही आरएसएस कार्यकर्ताओं की केरल में हत्या कराई है। वीडियो में वह कहते दिखे कि, “हत्या का दोषी वो गद्दार समझता है कि हिंदुओं के खून में गौरव नहीं है, वो जज्बा नहीं है। मेरे पास इतनी संपत्ति है, 1 करोड़ से ज्यादा का घर है। मैं डॉक्टर चंद्रावत इस मंच पर यह घोषणा करता हूं, जो मुझे विजयन का सिर काटकर ला देगा उसके नाम मैं अपना मकान और संपत्ति कर दूंगा।” (यहां विस्तार से पढ़ें)

बिहार के मंत्री ने मांगी माफी

अपने समर्थकों से पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर को जूतों से मारने की अपील करने के बाद विवादों में आए बिहार के उत्पाद मंत्री अब्दुल जलील मस्तान ने अब इसपर माफी मांगी है। हालांकि विपक्ष मंत्री मस्तान की बर्खास्तगी की मांग कर रहा है, जिसपर मस्तान ने कहा कि उन्होंने माफी मांग ली है अब क्या वह फांसी पर चढ़ जाएं। गौरतलब है कि मंत्री अब्दुल जलील मस्तान ने पिछले 22 फरवरी को नोटबंदी के विरोध में पूर्णिया में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर पर समर्थकों से जूता मरवाया था। (यहां विस्तार से पढ़ें)

आरक्षण की मांग के साथ जंतर-मंतर पर इकट्ठा हुए जाट

जाट समुदाय गुरुवार को आरक्षण की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर धरना देने के लिए इकट्ठा हुए। जाटों के इस असहयोग आंदोलन में हरियाणा, दिल्ली, यूपी, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, राजस्थान और मध्यप्रदेश के जाटों ने हिस्सा लिया। समुदाय ने असहयोग आंदोलन के तहत अपने लोगों से बिजली तथा पानी के बिल का भुगतान न करने तथा राष्ट्रीय राजधानी को दूध तथा अन्य जरूरी चीजें जैसे सब्जियां आदि की आपूर्ति बंद करने को कहा गया था। (यहां विस्तार से पढ़ें)

4 कैश ट्रांजैक्‍शन के बाद प्राइवेट बैंक वसूलेंगे 150 रुपए का चार्ज, जानिए कैसे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App