ताज़ा खबर
 

COVID-19 संक्रमित निकले Lok Sabha के 17 सांसद, 12 सिर्फ BJP से; मॉनसून सत्र के पहले हुआ था टेस्ट

सत्र की शुरुआत से पहले 13 और 14 सितंबर को इन सभी का संसद भवन परिसर में कोरोना टेस्ट हुआ था, जिसकी रिपोर्ट आने पर यह खुलासा हुआ है।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: September 14, 2020 4:49 PM

संसद के मॉनसून सत्र की शुरुआत के पहले ही दिन लोकसभा के 17 सांसद COVID-19 संक्रमित पाए गए हैं। सत्र की शुरुआत से पहले 13 और 14 सितंबर को इन सभी का संसद भवन परिसर में कोरोना टेस्ट हुआ था, जिसकी रिपोर्ट आने पर यह खुलासा हुआ है। शुरुआती मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इनमें 12 सांसद BJP, दो YSR Congress और एक-एक सांसद Shivsena, DMK और RLP से हैं।

इन सांसदों का 13 और 14 सितंबर को संसद भवन में टेस्ट कराया गया था। मॉनसून सत्र शुरू होने से पहले यह नियम बनाया गया था कि सभी सांसद और कर्मचारी कोविड टेस्ट कराएंगे, रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही उन्हें परिसर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। नियम यह भी है कि उनकी रिपोर्ट 72 घंटे से ज्यादा पहले की नहीं होनी चाहिए।

कोरोना महामारी से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन करते हुए मानसून सत्र का आगाज हुआ। इस दौरान पहली बार लोकसभा के सदस्यों ने राज्यसभा में बैठकर सदन की कार्यवाही में हिस्सा लिया। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि सामाजिक दूरी की अनुपालना के मद्देनजर लोकसभा के सदस्यों को उच्च सदन में बैठने की अनुमति देने और राज्यसभा के सदस्यों को निचले सदन में बैठना सुगम बनाने के लिये नियमों एवं प्रक्रियाओं में ढील दी गई है।

बता दें कि मॉनसून सत्र शुरू होने से पहले दोनों सदनों के कई उम्रदराज सांसदों ने इसपर चिंता जताई थी। उनका कहना था कि सत्र शुरू होने पर गाइडलाइंस के बीच भी हर वक्त परिसर में कम से कम 2,000 लोग मौजूद रहेंगे। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, राज्यसभा के 240 सांसदों में से 97 सांसद 65 साल से ज्यादा है, वहीं 20 ऐसे सांसद हैं, जिनकी उम्र 80 साल के ऊपर है, जिसमें 87 साल के मनमोहन सिंह और 82 साल के एके एंटनी का नाम शामिल है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हैपिएस्ट माइंड्स IPO: ऐसे चेक करें शेयरों का अलॉटमेंट, जानिए कौन हैं आईटी दिग्गज अशोक सूता
2 ‘फाइन भरने का यह अर्थ नहीं है कि हमें फैसला स्वीकार्य,’ प्रशांत भूषण ने कहा- विरोध करने वालों का मुंह बंद कराने में जुटी सरकार
3 फिलहाल नहीं छिनेगा 48 हजार परिवारों का आशियाना! केंद्र ने SC से कहा- हल पर दिल्ली सरकार व रेलवे में चल रही बात
ये पढ़ा क्या?
X