ताज़ा खबर
 

गुजरात: 1500 लोगों ने अपनाया बौद्ध धर्म, एक परिवार का आरोप- हिंदू के तौर पर नहीं मिला समानता का अधिकार

बीएलआईए गुजरात के वरिष्ठ सलाहकार सोलंकी के मुताबिक, 1400 लोगों के अलावा कार्यक्रम में ऐसे काफी लोग मौजूद थे, जिन्होंने पहली बार बौद्ध धर्म का पालन करने का संकल्प लिया।

गुजरात: 1500 लोगों ने अपनाया बौद्ध धर्म, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

गुजरात के अलग-अलग इलाकों में रहने वाले 1500 दलितों ने बौद्ध धर्म अपना लिया। शाहीबाग स्थित सरदार वल्लभभाई पटेल नेशनल मेमोरियल में रविवार (27 अक्टूबर) को हुए इस कार्यक्रम का आयोजन बुद्ध लाइट इंटरनेशनल असोसिएशन (BLIA) की गुजरात इकाई की ओर से किया गया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता बीएलआईए के धार्मिक प्रमुख और ताइवान के बौद्ध भिक्षु हसीन बाऊ ने की। वहीं, देश-विदेश के बौद्ध भिक्षुओं ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान लोगों ने पहले बीएलआईए में रजिस्ट्रेशन कराया और उसके बाद बौद्ध धर्म का पालन करने का संकल्प लिया। इस कार्यक्रम के दौरान बीएलआईए की गुजरात यूनिट के पूर्व अध्यक्ष और दासादा विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस विधायक नौशाद सोलंकी और बीजेपी के पूर्व सांसद रतिलाल वर्मा भी मौजूद थे।

बीएलआईए के गुजरात अध्यक्ष तुषार श्रीपाल ने बताया कि करीब 1400 लोगों ने इस कार्यक्रम के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। वहीं, बीएलआईए गुजरात के वरिष्ठ सलाहकार सोलंकी के मुताबिक, 1400 लोगों के अलावा कार्यक्रम में ऐसे काफी लोग मौजूद थे, जिन्होंने पहली बार बौद्ध धर्म का पालन करने का संकल्प लिया।

Hindi News Today, 28 October 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

बौद्ध धर्म अपनाने की वजह भी बताई: सौराष्ट्र के सुरेंद्रनगर में रहने वाली मंजुला मकवाना ने बताया, ‘‘मैंने इस कार्यक्रम में अपने पति घनश्याम मकवाना और 3 बच्चों के साथ बौद्ध धर्म अपनाया। बौद्ध धर्म को अपनाने का एकमात्र कारण समानता है। बतौर हिंदू हमें समानता का अधिकार नहीं दिया जा रहा था। अनुसूचित लोगों (दलितों) के खिलाफ भेदभाव व अत्याचार के काफी मामले हम देख चुके हैं। सुरेंद्रनगर इसके लिए कुख्यात है।’’

एक ही परिवार के 25 लोगों ने बदला धर्म: अहमदाबाद के नरोदा में रहने वाले निसर्ग परमार पेशे से इंजीनियर हैं। साथ ही, वह बीबीए का कोर्स भी कर रहे है। इस कार्यक्रम में बौद्ध धर्म अपनाने वाले वह दूसरे दलित शख्स हैं। निसर्ग के परिवार के करीब 25 लोगों ने इस कार्यक्रम में बौद्ध धर्म अपनाया।

जातिवाद से रुक रहा देश का विकास: परमार ने बौद्ध धर्म अपनाने को लेकर इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत की। उन्होंने बताया, ‘‘हम हिंदू धर्म का पालन करते थे, लेकिन हमें इसमें मौजूद भेदभाव पसंद नहीं है। बौद्ध धर्म समानता का संदेश देता है। ऐसे में हमने आज बौद्ध धर्म का पालन करने का संकल्प लिया। मैं चाहता हूं कि भारत पूरी दुनिया में सबसे अच्छा देश बने, लेकिन जातिवाद इस रास्ते की सबसे बड़ी रुकावट है, जिसमें लोगों के साथ भेदभाव होता है।’’

दशहरे पर भी 500 लोगों ने बदला था धर्म: बता दें कि दशहरे पर गुजरात के अलग-अलग हिस्सों के करीब 500 दलितों ने बौद्ध धर्म अपनाया था, जिसके लिए अहमदाबाद, मेहसाणा और साबरकांठा जिले के ईदर में कार्यक्रम आयोजित किए गए थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एक्टर ने मुस्लिम पड़ोसियों पर लगाया दिवाली मनाने से रोकने का आरोप, कहा- दिया बुझाने और रंगोली मिटाने कहा गया
2 अमित शाह के पहुंचने से पहले अफसरों ने कुर्सियों पर लगाए खास निशान, उन पर बैठे लोगों से ही गृह मंत्री ने पूछे सवाल!
3 PMC घोटाले के बाद महाराष्ट्र में एक और फर्जीवाड़ा! कारोबार बंद कर फरार हुई जूलरी कंपनी, अंधेरे में हजारों निवेशकों का भविष्य
यह पढ़ा क्या?
X