नोटबंदी के 15 महीने बाद भी रिजर्व बैंक कर रहा पुराने नोटों की गिनती, असली-नकली की पहचान - 15 Months After demonetization RBI Still counting demonetized currency notes of rupees 500 and 1000  - Jansatta
ताज़ा खबर
 

नोटबंदी के 15 महीने बाद भी रिजर्व बैंक कर रहा पुराने नोटों की गिनती, असली-नकली की पहचान

आरटीआई के जवाब में रिजर्व बैंक ने कहा, ‘‘ रिजर्व बैंक को मिले पुराने नोटों का अनुमानित मूल्य 30 जून 2017 तक 15.28 लाख करोड़ रुपये रहा है।

Author February 11, 2018 6:41 PM
रिजर्व बैंक ने कहा कि वह 30 सितंबर तक 500 रुपए के 1,134 करोड़ नोट तथा 1000 रुपए के 524.90 करोड़ नोट का सत्यापन कर चुका है।

मोदी सरकार द्वारा 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को बंद करने के 15 महीने बाद भी भारतीय रिजर्व बैंक चलन से वापस आए नोटों की गिनती, गुणा-भाग और उनके असली-नकली होने की पहचान में लगा है। केंद्रीय बैंक का कहना है कि वह तेजी से इस काम को कर रहा है। साथ ही वह लौटाये गये नोटों के ‘असली-नकली’ होने के साथ ही उनकी सही गिनती, गणतीय रूप से मिलान करने का काम कर रहा है। सूचना के अधिकार के तहत ‘पीटीआई-भाषा’ द्वारा दाखिल अर्जी का जवाब देते हुये रिजर्व बैंक ने यह बात कही है।

रिजर्व बैंक के जवाब के अनुसार, ‘‘इन बैंक नोटों की अंकगणितीय सटीकता और वास्तविकता की पहचान की जा रही है और इनका मिलान भी किया जा रहा है। इसलिए इस संबंध में मिलान एवं गणना की प्रक्रिया के पूरे होने पर ही जानकारी साझा की जा सकती है।’’ नोटबंदी के दौरान बंद हुए नोटों की संख्या जानने के लिए दाखिल की गई इस अर्जी के जवाब में रिजर्व बैंक ने कहा, ‘‘ रिजर्व बैंक को मिले पुराने नोटों का अनुमानित मूल्य 30 जून 2017 तक 15.28 लाख करोड़ रुपये रहा है। हालांकि, सत्यापन, गणना प्रक्रिया पूरी होने के बाद इसमें भविष्य में संशोधन की संभावना बनी रहेगी।’’

इस काम के खत्म होने की समयसीमा के बारे में बैंक ने कहा कि वह बहुत तेज गति से इसे अंजाम दे रहा है। जांच और सत्यापन की 59 मशीनें काम में लगी हैं। हालांकि, बैंक ने इन मशीनों के स्थान के बारे में कोई विशिष्ट जानकारी नहीं दी। उल्लेखनीय है कि सरकार ने आठ नवंबर 2016 को 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों को चलन से बाहर कर दिया था। इसके स्थान पर 500 और 2,000 रुपये के नए नोट जारी किए गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App