ताज़ा खबर
 

फारुक, हेमंत सोरेन समेत विपक्ष के 12 नेताओं ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, कोरोना से लड़ाई के लिए सुझाए ये उपाय

नेताओं ने मांग की कि देश के व्यापक हित को देखते हुए सेंट्रल विस्टा परियोजना पर रोक लगाकर लोगों को मुफ्त में कोविड रोधी वैक्सीन लगाई जाए। कहा कि सरकार बजट में आवंटित 35,000 करोड़ रुपए का इस्तेमाल वैक्सीन के लिए करे।

(PTI Photo/Manvender Vashist)

देश में कोरोना वायरस का प्रभाव को देखते हुए विपक्ष लगातार केंद्र सरकार से पूछ रहा है कि जब बिना ऑक्सीजन और वेंटिलेटर के लोग दम तोड़ रहे हैं तो ऐसे में पीएम मोदी की बहुप्रतीक्षित सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर काम जारी रहने का क्या औचित्य है। हजारों करोड़ रुपए इस प्रोजेक्ट पर खर्च करने के बजाए उस पैसे से जिंदगी और मौत से जूझ रहे लोगों की मदद क्यों नहीं की जा रही है। इसको लेकर बुधवार को देश के 12 दलों के वरिष्ठ नेताओं ने पीएम मोदी को पत्र लिखा है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार, नेशनल कांफ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला समेत 12 दलों के नेताओं ने संयुक्त रूप से पत्र लिखकर सरकार से मांग की है कि देश के व्यापक हित को देखते हुए सेंट्रल विस्टा परियोजना पर रोक लगाकर लोगों को मुफ्त में कोविड रोधी वैक्सीन लगाई जाए। नेताओं ने वैक्सीन संकट को जल्द से जल्द खत्म करने के लिए जरूरी कदम उठाने की मांग की है। विपक्षी दलों ने सरकार से कहा कि सभी उपलब्ध स्रोतों (वैश्विक और घरेलू) से वैक्सीन की खरीद की जाए। इसके साथ ही घरेलू वैक्सीन उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए अनिवार्य लाइसेंस व्यवस्था खत्म करें।

नेताओं ने सरकार से मांग की, “बजट में आवंटित 35,000 करोड़ रुपए का इस्तेमाल केन्द्र सरकार वैक्सीन के लिए करे, देशभर में केन्द्र सरकार की तरफ से तुरंत एक मुफ्त, सार्वभौमिक सामूहिक वैक्सीनेशन अभियान भी शुरू किया जाए। इसके साथ ही, ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन, ऑक्सीजन और मेडिकल उपकरणों की खरीद के लिए प्राइवेट ट्रस्ट फंड की बेनामी संपत्तियों और पीएम केयर्स फंड के पैसे जारी किए जाएं।”

प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में नेताओं ने सेंट्रल विस्टा परियोजना का पैसा टीकाकरण के लिए इस्तेमाल करने, तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने, ‘पीएम केयर्स’ कोष की पूरी राशि का इस्तेमाल जरूरी चिकित्सा उपकरणों की खरीद के लिए करने और सभी बेरोजगार लोगों को प्रति माह 6,000 रुपये प्रदान की मांग भी की है।

पीएम मोदी को पत्र लिखने वाले विपक्षी नेताओं में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, एचडी देवगौड़ा, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार, शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी, डीएमके अध्यक्ष एमके स्टालिन, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, जेएमएम चीफ हेमंत सोरेन, डी. राजा, फारूक अब्दुल्ला, अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव आदि शामिल हैं।

Next Stories
1 कोविड पर यूपी सरकार को हाईकोर्ट का कड़ा ऑर्डर- कल तक सभी जिलों में बनाइए सेल, जहां शिकायत कर सके जनता
2 कोरोना: यूपी सरकार बोली- डब्‍ल्‍यूएचओ कर रहा हमारी तारीफ, बीजेपी व‍िधायकों ने ल‍िखा- चौखट पर दम तोड़ रहे मरीज, हम असहाय
3 महंगाई की मार तोड़ रही आम आदमी की कमर, पर सरकार का दावा अप्रैल में रिटेल महंगाई दर मार्च से काफी कम
यह पढ़ा क्या?
X