भवानीपुर सीट पर 12 उम्मीदवार, भाजपा की प्रियंका सबसे अमीर, ममता बनर्जी छठे नंबर पर

तृणमूल सुप्रीमो द्वारा दाखिल नामांकन पत्रों के अनुसार, उनके पास 15,38,029 रुपये की संपत्ति है। रिपोर्ट के अनुसार, मुख्यमंत्री की संपत्ति का मूल्य 1,34,323 रुपये कम हो गया है, जो उन्होंने विधानसभा चुनाव से पहले घोषित किया था।

bengal, mamata banerjee
भवानीपुर सीट पर उपचुनाव में ममता बनर्जी और प्रियंका टिबरेवाल का मुकाबला होगा। (फाइल फोटो)

30 सितंबर को भवानीपुर उपचुनाव लड़ने वाले 12 उम्मीदवारों में से बीजेपी की प्रियंका टिबरेवाल सबसे अमीर हैं। निजी संपत्ति के मामले में तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी शीर्ष से छठे स्थान पर हैं। बता दें कि ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री बने रहने के लिए भवानीपुर सीट जीतनी है।

वेस्ट बंगाल इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) द्वारा संकलित एक रिपोर्ट में कहा गया है, “दो करोड़पति उम्मीदवार हैं, जो कुल प्रत्याशियों का 17 प्रतिशत हैं।” 30 सितंबर को उपचुनाव लड़ने वाले प्रति उम्मीदवार की औसत संपत्ति 67.36 लाख रुपए है। मैदान में 12 उम्मीदवारों में से पांच महिलाएं हैं। नामांकन दाखिल करते समय टिबरेवाल की घोषणा के अनुसार, उनके पास 3 करोड़ रुपये की संपत्ति है। निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतरे मलय गुहा रॉय ने 2 करोड़ रुपये की संपत्ति घोषित की है।

तृणमूल सुप्रीमो द्वारा दाखिल नामांकन पत्रों के अनुसार, उनके पास 15,38,029 रुपये की संपत्ति है। रिपोर्ट के अनुसार, मुख्यमंत्री की संपत्ति का मूल्य 1,34,323 रुपये कम हो गया है, जो उन्होंने विधानसभा चुनाव से पहले घोषित किया था। बता दें कि सीएम ममता ने इस साल हुए विधानसभा चुनाव में पूर्वी मेदिनीपुर जिले की नंदीग्राम सीट से चुनाव लड़ा था।

रिपोर्ट के अनुसार, पांच में से दो निर्दलीय उम्मीदवार सभी उम्मीदवारों में सबसे गरीब हैं, जिन्होंने प्रत्येक की 10,000 रुपये की संपत्ति घोषित की है। वकील और माकपा के युवा नेता श्रीजीब विश्वास, जो 30 सितंबर को होने वाले उपचुनाव के लिए वाम मोर्चा के उम्मीदवार हैं, ने 32 लाख रुपये की संपत्ति घोषित की है।

इन उपचुनाव के नतीजे 3 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे। तृणमूल प्रमुख ममता ने, नंदीग्राम सीट पर अपने पूर्व सहयोगी रहे सुवेंदु अधिकारी के खिलाफ चुनाव लड़ा था। हालांकि ममता चुनाव हार गईं थीं। जिसमें भाजपा नेता ने उन्हें सिर्फ 1,956 मतों के अंतर से हरा दिया था। लेकिन टीएमसी ने 213 सीटों पर जीत हासिल करते हुए तीसरी बार सत्ता में वापसी की।

गौरतलब है कि बनर्जी को मुख्यमंत्री बने रहने के लिए 5 नवंबर तक विधायक चुना जाना है। वहीं बीजेपी की ओर से ममता बनर्जी को चुनौती दे रही वकील टिबरेवाल ने इस साल हुए विधानसभा चुनाव में तृणमूल के स्वर्ण कमल साहा के खिलाफ एंटली से चुनाव लड़ा था, लेकिन वे 58,257 मतों के महत्वपूर्ण अंतर से हार गयी थीं।

तृणमूल ने हाल ही में ममता बनर्जी और टिबरेवाल की संपत्ति में अंतर को लेकर उंगलियां उठाई थीं। उस पर, भाजपा नेता ने जवाब दिया, “यह मेरी मेहनत की कमाई है। मैं भी एक ईमानदार करदाता हूं। मैं एक शिक्षित व्यक्ति हूं जो 18 साल की उम्र से काम कर रही है। मैंने जो कुछ भी अर्जित किया है वह मैंने अर्जित किया है। हमारी मुख्यमंत्री को हवाई चप्पल की एक जोड़ी में देखा जाता है लेकिन उनके भतीजे (अभिषेक बनर्जी) करोड़ों के घर में रहते हैं।”

साथ ही, वेस्ट बंगाल इलेक्शन वॉच और एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार, दो उम्मीदवारों ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं, जिनमें हत्या के प्रयास और आपराधिक धमकी सहित अन्य शामिल हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट