ताज़ा खबर
 

दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना संक्रमण से 118 लोगों की मौत, 6608 नए मामले

दिल्ली के अस्पताल में 9491, कोविड केयर सेंटर में 584 और कोविड हेल्थ सेंटर में 211 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। 24 घंटे में सरकारी एजंसियों ने 23507 आरटीपीसीआर व 38918 एंटीजन जांच की है।

Author Edited By Sanjay Dubey नई दिल्ली | November 21, 2020 5:37 AM
corona virus, vaccine, covid19,कोरोना वायरस के मामलों में फिर से तेजी देखी जा रही है। (फाइल फोटो)

मौसम में आए बदलाव के बाद दिल्ली में कोरोना संक्रमण से मौतों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। शुक्रवार को 24 घंटे के अंदर दिल्ली में 118 मरीजों की मौत हुई और 6608 नए संक्रमण के मामले सामने आए हैं। नए मामलों के बाद संक्रमण की दर 10.59 व मृत्यु दर 1.54 फीसद दर्ज की गई है। 24 घंटे में दिल्ली में 62425 कोरोना संक्रमण जांच की गई है।

शुक्रवार को दिल्ली में कोरोना से संक्रमित 8775 मरीज ठीक हुए हैं। नए मामलों के बाद अब दिल्ली में सक्रिय मामलों की संख्या 40936 हो गई है और इस समय 24042 मरीजों का इलाज घर में एकांतवास में किया जा रहा है। इस समय दिल्ली में 4560 सील क्षेत्र हैं। इन क्षेत्रों में नए मामले आने के बाद सरकारी एजंसियों ने इस क्षेत्रों को सील किया है।

इस समय दिल्ली के अस्पताल में 9491, कोविड केयर सेंटर में 584 और कोविड हेल्थ सेंटर में 211 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। 24 घंटे में सरकारी एजंसियों ने 23507 आरटीपीसीआर व 38918 एंटीजन जांच की है। दिल्ली में अब तक 5715516 संक्रमण जांच की जा चुकी है। वहीं, इस बीमारी से मरने वाले मरीजों का आंकड़ा अब बढ़कर 8159 हो गया है। सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक यह बीमारी अब तक 517238 मरीजों को संक्रमित कर चुकी है और उपचार के बाद 468143 मरीज ठीक को चुके हैं।

कोरोना टीकों की आपूर्ति पर रखी जाएगी निगरानी: हर्षवर्धन
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 के टीके उपलब्ध होने पर उनके भंडारण पर डिजिटल तरीके से निगरानी रखने के लिए ईविन (इलेक्ट्रॉनिक टीका आसूचना तंत्र) प्रणाली को पुनर्निर्मित किया जा रहा है। हर्षवर्धन ने यहां वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआइआइ) की राष्ट्रीय परिषद में कहा कि सरकार ने मिशन इंद्रधनुष के तहत 12 बीमारियों से बचाने के लिहाज से बच्चों के टीकाकरण के लिए एक विस्तृत शीत गृह शृंखला के साथ अपनी प्रतिरक्षण क्षमता को बढ़ाया है।

हर्षवर्धन के हवाले से एक बयान में बताया गया, ‘पूरे ईविन प्लेटफॉर्म को कोविन नेटवर्क के रूप में पुनर्निर्मित किया जा रहा है। भंडार एक जगह से दूसरी जगह ले जाने पर डिजिटल रूप से निगरानी रखी जा सकती है और टीके के दो शॉट देने की जरूरत पड़ी तो टीके प्राप्त करने वालों का दो से तीन सप्ताह के बाद भी पता लगाया जा सकता है। यह टीके की आखिरी जगह तक आपूर्ति सुनिश्चित करेगा।’

हर्षवर्धन ने सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के बीच सहयोग के प्रमाण के रूप में कोविड-19 से भारत के मुकाबले का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘हमारा राष्ट्र अब व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) किट के सबसे बड़े निर्माताओं में से एक बन गया है। हम कुछ साल पहले परीक्षण के लिए नमूने सीडीसी अटलांटा में भेजते थे, जबकि अब हमारे पास देश की कुल परीक्षण क्षमता में योगदान देने वाली निजी परीक्षण प्रयोगशालाएं हैं।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पारदर्शिता रिपोर्ट: फेसबुक उपयोक्ताओं के बारे में जानकारी चाहती हैं सरकारें
2 IAS टॉपर टीना डाबी और अतहर आमिर ने तलाक के लिए दी अर्जी, दो साल पहले ही की थी लव मैरिज
3 राजपाट: नेताओं की नैतिकता और सियासी सवाल
  यह पढ़ा क्या?
X