ताज़ा खबर
 

किसान आंदोलन के 100 दिनः LPG, MSP सरीखे मुद्दों पर ग्रामीणों ने BJP के लिए बना ली है ‘क्वेस्चन लिस्ट’, पर केंद्र गुम- बोले टिकैत

टिकैत ने कहा "गाँव के लोग तो सरकार की तलाश में बैठे हैं। डेटा बना रखा है गाँव वालों ने इनसे क्या-क्या पूछना है। LPG, MSP जैसे मुद्दों पर गांव वालों ने BJP के लिए सवालों की लिस्ट बना रखी है। लेकिन सरकार गुम है। सरकार हमें मिल ही नहीं रही।"

Farm bills 2020, Farmer protests, rakesh tikait, BKU leader, farmer deaths, Farmer suicide, jansattaभारतीय किसान यूनियन (BKU) के नेता राकेश टिकैत (express file photo)

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन के 101 दिन पूरे हो चुके हैं। लेकिन सरकार और किसान नेताओं के बीच अबतक कोई समाधान नहीं निकला है। इसपर भारतीय किसान यूनियन (BKU) के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार गुम है, हमें मिल ही नहीं रही, पता नहीं गई कहा। गाँव के लोगों ने बीजेपी के नेताओं से LPG, MSP जैसे मुद्दों पर सवालों की लिस्ट बना रखी है, लेकिन सरकार नहीं मिल रही।

टिकैत ने ‘न्यूज़ 24’ के एक शो में कहा “एक गाँव में कहावत है कार्तिक में मेला लगता था और कोई अगर उसमें गुम हो जाता था और अपने परिवार से नहीं मिल पाता था। तो अगले साल दोनों गमने वाला और परिवार दोनों मेले में जरूर आते थे इस उम्मीद से की फिर मिल जाएंगे। तो सरकार शारदी के मौसम में गुम हुई है तो अब शारदी में ही मिलेगी। सरकार हमें मिल ही नहीं रही। आप को कहीं मिले तो बता देना।”

इसपर एंकर ने कहा कि नहीं मिल रही तो आप जा कर मिल लीजिये। इसपर किसान नेता ने कहा “है कहां, वो गाँव जाती है गाँव वाले उन्हें घुसने नहीं देते। गायब हो गई सरकार।” एंकर ने कहा “बीजेपी ने अपने बड़े-बड़े पद अधिकारियों और विधायकों कि बैठक की है कि गाँव में जाइए। इस कानून का प्रचार और प्रसार कीजिये।

इसपर टिकैत ने कहा “गाँव के लोग तो इनकी तलाश में बैठे हैं। एक बार ये जाये तो गाँव में, हमारे पांच गाँव में ही हैं वहीं उनसे सवाल जवाब कर लेंगे। डेटा बना रखा है गाँव वालों ने इनसे क्या-क्या पूछना है। LPG, MSP जैसे मुद्दों पर गांव वालों ने BJP के लिए सवालों की लिस्ट बना रखी है।”

टिकैत ने कहा “हम आंदोलन खत्म करने वाले नहीं हैं। 2021 आंदोलन का साल है, किसान ना आंदोलन, ना खेत और ना ही सरकार को छोड़ेगा। हम पूरे देश में जाएंगे, आंदोलन अब गाँव के आदमी चला रहे हैं। किसान खेत में काम करेंगा और आंदोलन भी देखेगा।”

टिकैत ने कहा “हमें चुनाव नहीं लड़ना, मैं चुनाव नहीं लडूंगा, चुनाव से दूर रहना चाहिए। चुनाव एक बहुत बड़ी बीमारी है। हम सिर्फ समस्या बताएंगे। जनता खुद देख लेगी किसको वोट देना है किसको नहीं।”

Next Stories
1 बंगालः दक्षिण 24 परगना में विस्फोट, 6 BJP कार्यकर्ता जख्मी; TMC कार्यकर्ताओं पर बम फेंकने का आरोप
2 जालिम मर्द नहीं हो सकते रहम के हकदार- सीजेआई बोबडे ने तल्ख टिप्पणी करते हुए खारिज की अग्रिम जमानत की याचिका
3 आपातकाल को राहुल ने बताया था ‘गलती’, पर पूर्व कांग्रेस चीफ से पहले सोनिया, मनमोहन और प्रणब भी कर चुके हैं जिक्र; जानिए- क्या कहा था?
ये पढ़ा क्या?
X