ताज़ा खबर
 

सबसे बड़ी गौशाला में 10 दिन में 100 गायों की मौत, 5 महीने से सैलरी ना मिलने पर भाग गए हैं कर्मचारी

हिंगौनिया में तकरीबन 8 हजार गाय हैं। इनकी देखरेख के लिए 200 मजदूर थे। लेकिन वे सब भाग गए। उन्हें 5 महीनों से सैलरी नहीं मिली थी।
जयपुर नगर निगम की तरफ से संचालित हिंगोनिया गोशाला। (फाइल फोटो)

राजस्थान की सबसे बड़ी सरकारी गौशाला में पिछले 10 दिनों में 100 से ज्यादा गायों के मरने की खबर आई है। शुरुआती तौर पर यह मामला देखरेख में चूक का बताया जा रहा है। ये मौतें 21 जुलाई के बाद से शुरू हुई हैं। यह गऊ शाला जयपुर के हिंगौनिया में बनी हुई है। इतनी गायों की मौत के बाद राजस्थान कोर्ट ने मामले पर संज्ञान लिया है। गुरुवार (4 अगस्त) को हुई सुनवाई में कोर्ट ने मामले के प्रति अपनी नाराजगी जताई। अदालत ने आईजी दिनेश को फौरन हिंगौनिया जाकर हालात का मुआयना करने के आदेश दिए। अदालत में गायों की मौत पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक साथ इतनी गायों की मौत होना निगम की लापरवाही को बताता है।

कीचड़ की वजह से हो रही मौत ! जयपुर में लगातार बारिश हो रही है। इसके चलते गौशाला में भी कीचड़ हो गई थी। माना जा रहा है कि गौशाला में हुई कीचड़ बीमार और बूढ़ी गायों के लिए खतरनाक साबित हो रही है। कम चारा और पानी मिलने की वजह से कमजोर हो चुकी गाय बारिश को नहीं झेल पा रही। कई गाय तो कीचड़ में ऐसे फंसी हुई है कि उठ भी नहीं पा रहीं। कीचड़ को कम करने के लिए वहां पर निगम सूखी मिट्टी डलवा रहा है।

वहीं पड़े हैं शव: हालात इतने बुरे हैं कि वहां मर चुकी गायों के शव को उठाने वाला भी कोई नहीं है।

Read Also: पत्रकार के समर्थन में आए लालू यादव, बोले- जो हाल गऊ माता का किया है वही..

सैलरी ना मिलने पर भागे मजदूर: हिंगौनिया में तकरीबन 8 हजार गाय हैं। इनकी देखरेख के लिए 200 मजदूर थे। लेकिन वे सब भाग गए। उन्हें 5 महीनों से सैलरी नहीं मिली थी। इस मामले को लालू प्रसाद यादव ने भी उठाया था। देखिए वीडियो-

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App