ताज़ा खबर
 

ट्रेन में चार्ट बनने के बाद खाली रही सीटें 10 प्रतिशत डिस्‍काउंट पर मिलेगी

इस तरह की टिकटें ट्रेन के रवाना होने से पहले काउंटर और आईआरसीटीसी के जरिए बुक की जा सकेगी।

Author नई दिल्‍ली | January 3, 2017 11:15 AM
राजधानी, शताब्‍दी और दुरंतो ट्रेनों में 15 दिसंबर से ट्रायल के आधार पर यह डिस्‍काउंट देना शुरू किया गया था।

रेलवे जल्‍द ही चार्ट बनने के बाद खाली रहने वाली सीटों पर डिस्‍काउंट देने की योजना बना रहा है। यह योजना सभी ट्रेनों में लागू की जाएगी। जानकारी के अनुसार खाली सीटें 10 प्रतिशत डिस्‍काउंट पर बेची जाएंगी। इस तरह की टिकटें ट्रेन के रवाना होने से पहले काउंटर और आईआरसीटीसी के जरिए बुक की जा सकेगी। राजधानी, शताब्‍दी और दुरंतो ट्रेनों में 15 दिसंबर से ट्रायल के आधार पर यह डिस्‍काउंट देना शुरू किया गया था। इसके तहत उपलब्‍ध सीटों को चार्ट बनने से पहले बेची गई सीट से 10 प्रतिशत कम पर दिया गया था। इन ट्रेनों में फ्लैक्‍सी फेयर सिस्‍टम के तहत टिकटें उपलब्‍ध होती हैं।

सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि फ्लैक्‍सी फेयर से कई सीटें खाली छूट रही थी। इस सिस्‍टम में आखिरी सीट मूल किराये से 50 प्रतिशत ज्‍यादा महंगी होती थी। अब नए नियम के अनुसार यात्री को केवल 40 प्रतिशत अधिक किराया ही देना होगा। बाकी चार्ज में कोई बदलाव नहीं हुआ है। रेलवे ने सभी फ्लैक्‍सी फेयर ट्रेनों के तत्‍काल कोटे में 10 प्रतिशत की कमी की है। साथ ही विकल्‍प ट्रेन की स्‍कीम को बढ़ाया गया है। रेलवे मंत्रालय ने यह प्रयोग तब शुरू किया है जब उसने ऐसी ट्रेंस पर फ्लेक्‍सी-फेयर सिस्‍टम की समीक्षा की। कुछ रूट्स पर ज्‍यादा किराए की वजह से ट्रैफिक में कमी आ रही थी, जिसके बाद यह फैसला लिया गया। रेलवे की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार नौ सितम्‍बर से 31 अक्‍टूबर के बीच राजधानी, शताब्‍दी और दूरंतो ट्रेनों में 5871 सीटें खाली रही थीं।

एक रेलवे अधिकारी ने बताया कि यदि कोई यात्री चार्ट बनने के बाद यात्रा करना चाहता है तो वह 40 प्रतिशत ज्‍यादा किराया देकर बर्थ ले सकता है। फ्लैक्‍सी किराए के तहत बची हुई प्रत्‍येक 10 प्रतिशत सीटों पर किराया 10 प्रतिशत बढ़ जाता है। यह नियम स्‍लीपर, 2एसी, एसी चेयर और 3एसी में ही लागू है। फर्स्‍ट एसी और एग्‍जीक्‍यूटिव क्‍लास में कोई बदलाव नहीं किया गया है। रेलवे ने अनुमान लगाया है कि फ्लैक्‍सी फेयर से उसे 42 राजधानी, 46 शताब्‍दी और 54 दूरंतो ट्रेन से 500 करोड़ रुपये की कमाई होगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App