Yoga Tips: इन 5 योगासनों के जरिए मजबूत कर सकते हैं पाचन तंत्र, मेटाबोलिज्म भी रहता है ठीक

Yoga Tips: योग हमारे शरीर के पाचन तंत्र, मेटाबोलिज्म को ठीक करता है। पाचन तंत्र के ठीक तरीके से काम न करने की स्थिति में पेट से संबंधित तमाम तरह की गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

Yoga Tips: Digestion system can be strengthened through these 5 yogasanas
प्रतीकात्मक फोटो। (Source: Dreamstime)

योगासन के जरिए जहां आप वजन घटाने की बात करते हैं तो वहीं योगासन वजन बढ़ाने में भी आपकी मदद कर सकता है। वैसे तो योगासन के बहुत सारे फायदे हैं लेकिन योगासन के जरिए शरीर के पाचन तंत्र और मेटाबोलिज्म को ठीक कर सकते हैं। इसका अलावा यह स्ट्रेस भी कम करता है। इन सभी के सवस्थ रहने से व्यक्ति का शरीर फिट रहता है और वह अच्छी तरह से काम करता है। इन आसनों के साथ सही खान-पान लेना बेहद जरूरी है। तो आइए जानते योग के उन आसनों के बारे में शरीर के पाचन तंत्र और मेटाबोलिज्म ठीक रखने में काम आएंगे।

वज्रासन: इस आसन को करना बेहद आसान है इसे आप आप खाना खाने के बाद भी कर सकते हैं। वज्रासन आपका पाचन तंत्र मजबूत करता है और मेटाबोलिज्म को ठीक करता है। इस आसन को करने के लिए जीमन पर अपने घुटनों को मोड़कर बैठ जाएं। अपने शरीर का भार अपनी जंघाओं पर डालकर बैठे। कमर को सीधा रखें और गहरी और लंबी सांसें लें।

भुजंगासन: भुजंगासन पेट के लिए फायदेमंद माना जाता है। पेट की मांसपेशियों को फैलाने और शरीर की मुद्रा में सुधार करने में यह योग मदद करता है। इसे करने के लिए जमीन पर पेट के बल लेट जाएं। अपनी हथेलियों को जमीन पर टिकाते हुए कमर तक के हिस्सों को ऊपर उठाएं और सिर को जितना संभव हो उतना पीछे लेकर जाएं या फिर सीधा रखें। कोहनियों को मुड़ने न दें। वहीं पैरों के बीच अंतर रखें। सांस छोड़ते हुए वापिस जमीन पर आ जाएं।

बालासन: यह आसन आपको तनाव मुक्त रखने के साथ आपके दिमाग को शांत करने में मदद करता है। इस आसन के नियमित अभ्यास से जांघ, कूल्हों और लसीका तंत्र के लिए लाभदायक होता है। जिन लोगों में अक्सर कब्ज या पाचन की समस्या रहती हो उनके लिए बलासन करना फायदेमंद माना जाता है। 

पश्चिमोत्तासन: गैस और कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है। यह पेट की चर्बी को भी कम करता है और पेट के अंगों की शक्ति बढ़ाता है। जिन लोगों को पाचन की समस्या हो उन्हें नियमित रूप से पश्चिमोत्तासन अभ्यास करना चाहिए।

पवनमुक्तासन: इस आसन के दौरान सबसे पहले अपनी पीठ के बल सीधे लेट जाएं और पैरों और हाथों को सीधा रखें। गहरी लंबी सांस अंदर लें और सांस छोड़ते हुए दोनों पैरों को मोड़ते हुए घुटनों को अपनी छाती के पास लाएं। घुटनों को हाथों के सहारे पेट पर दबाएं। अब लंबी गहरी सांस लें और सांस छोड़ते हुए अपने सर और छाती को जमीन से ऊपर उठाएं। अपने सिर को जितना संभव हो घुटनों से मिलाने की कोशिश करें। कुछ देर इसी पोजिशन में रुकें और फिर आराम से वापस सीधी पोजिशन में आ जाएं।

पढें योग और मेडिटेशन समाचार (Yogameditationhindi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट