ताज़ा खबर
 

कॉन्संट्रेशन बढ़ाने में बेहद कारगर हैं ये 3 योगासन, जानें कैसे करेंगे अभ्यास

योगासन केवल शारीरिक स्वास्थ्य के लिए किया गया अभ्यास नहीं होता बल्कि यह मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बेहद लाभकारी होता है।
वृक्षासन

योगासन केवल शारीरिक स्वास्थ्य के लिए किया गया अभ्यास नहीं होता बल्कि यह मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बेहद लाभकारी होता है। आज हम आपको तीन ऐसे योगासनों के बारे में बताने वाले हैं जिसका नियमित अभ्यास करने से याद्दाश्त तेज होने के साथ-साथ कान्संट्रेशन भी बेहतर बनता है। तो चलिए जानते हैं कि उन तीन योगासनों को करने की विधि क्या है।

ताड़ासन – ताड़ासन करने से दिमाग में ऑक्सीजन का प्रवाह बढ़ता है। इससे दिमागी क्षमता दुरुस्त होती है। यह आपके तंत्रिका तंत्र को भी मजबूत रखती है।

विधि – ताड़ासन करने के लिए सबसे पहले आप खड़े हो जाएं। अब अपने कमर एवं गर्दन को सीधा रखें। अपने हाथ को सिर के ऊपर करें और सांस लेते हुए धीरे-धीरे पूरे शरीर को खींचें। खिंचाव को पैर की अंगुली से लेकर हाथ की अंगुलियों तक महसूस करें। इस अवस्था में कुछ देर तक बने रहें और सांस खींचे। अब सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे अपने हाथ एवं शरीर को पहली अवस्था में लेकर आयें। ऐसे ही कम से कम तीन से चार बार अभ्यास करें।

वृक्षासन – वृक्षासन एक साधारण और सरल आसन होता है। इसका नियमित अभ्यास करने से कॉन्संट्रेशन बेहतर बनता है।

विधि – वृक्षासन करने के लिए सबसे पहले सीधा तनकर खड़े हो जाएं। अब सारे शरीर का भार बाएं पैर पर डालें और दांए पैर को मोड़ लें। दाएं पैर के तलवे को घुटनों के ऊपर ले जाकर बाएं पैर से लगाएं। दोनों हथेलियों को प्रार्थना की मुद्रा में छाती के पास लाएं। अब अपने दाएं पैर के तलवे से बाएं पैर को दबाएं। बाएं पैर के तलवे को जमीन की ओर दबाएं। सांस लेते हुए अपने हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं। सिर को सीधा रखें और सामने की ओर देखें। इस मुद्रा में 15 से 30 सेकेण्ड तक बने रहें। इस अभ्यास को कम से कम 2-5 बार दुहराएं।

शवासन – शवासन सबसे आखिर में किया जाने वाला आसन होता है। यह शरीर को पर्याप्त आराम देता है। विशेषज्ञों का कहना है कि हर रोज 10 मिनट शवासन का अभ्यास कॉन्संट्रेशन को बेहतर बनाने के लिए जरूरी होता है।

विधि – शवासन के लिए सबसे पहले पीठ के बल पर लेट जाएं। हाथों को आराम से शरीर से एक फुट की दूरी पर रखें। पैरों के बीच एक या दो फुट की दूरी रखें। दोनों हाथ जमीन पर शरीर से 10 इंच दूर रखें। अंगुलियां तथा हथेली ऊपर की दिशा में रखें। सिर को अपने हिसाब से रखें। आंखें धीरे से बंद करें। धीरे धीरे सांस लें और धीरे धीरे सांस छोड़े। शवासन में कोशिश की जाती है कि आपके शरीर का प्रत्येक अंग तनाव से मुक्त रहे और शरीर के अंगों को ज्यादा से ज्यादा आराम मिल सके।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.